हेल्लो दोस्तों, क्या आप जानते हैं ATM Ka Full Form क्या है? और एटीएम क्या है? (ATM Kya Hai) एटीएम का प्रयोग हम रोजाना कैश निकालने में करते हैं लेकिन कभी आपने यह जानने की कोशिश की जिस मशीन का हम यूज करते हैं वह किसने बनाई होगी और इस एटीएम मशीन का अविष्कार कब और कैसे हुआ होगा! 

आज के समय में भारत में करीब 3 लाख से अधिक एटीएम इनस्टॉल हैं! महाराष्ट्र राज्य एक ऐसा राज्य है जहां सबसे अधिक एटीएम मशीन हैं! देश भर में सबसे अधिक एटीएम एसबीआई बैंक के करीब 60 हजार से भी अधिक हैं!

दोस्तों अगर आप भी एटीएम का इतिहास नहीं जानते हैं तो आज की यह पोस्ट को पूरा पढ़ें! हम ATM से जुडी सभी जानकारियों को आज के इस पोस्ट में बताने वाले हैं! आप एटीएम से पैसे निकालने के साथ साथ इससे पैसे ट्रांसफर भी कर सकते हैं! 

तो चलिए आगे बढ़ते हैं और एटीएम क्या है? (ATM Kya Hai) और ATM Ka Full Form क्या है? के बार में विस्तार से जानते हैं, 

ATM Ka Full Form

[ ATM Kya Hai – ATM Ka Full Form ]

एटीएम फुल फॉर्म क्या है – ATM Ka Full Form Kya Hai

ATM Ka Full Form: एटीएम का फुल फॉर्म Automated Teller Machine होता है! इसका Hindi में Full Form स्वचलित गणक मशीन होता है! यूरोपीय देशों में इसे कैश पॉइंट या फिर बैंनकोमैट के नाम से जाना जाता है! 1960 के दसक विदेशों में एटीएम मशीन को बेंकोग्राफ के नाम से भी जाना जाता था!  

एटीएम क्या है – ATM Kya Hai in Hindi

ATM Kya Hai: एटीएम यानी की स्वचलित गणक मशीन एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो लोगों की वित्तीय हस्तानांतरण सुविधाओं को मजबूत बनाता है! इसमें किसी भी बैंक की, बैंकर की या फिर किसी कैशियर की जरूरत नहीं होती है! यह उपकरण का मुख्य प्रयोग रिटेल बैंकिंग में लेनदेन की प्रक्रिया को सरल बनाना है! 

आपको अपने सेविंग अकाउंट में पैसे जमा करने हो या निकालने हो, यह इलेक्ट्रॉनिक उपकरण दोनों कामों को बड़ी आसानी से कर लेता है इसलिए इसे रिटेल बैंकिंग के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है!

शुरू में इन उपकरणों का उपयोग अमेरिका, स्वीडन जैसे देशो में किया गया! इन्हीं देशों से एटीएम उपकरण पूरी तरह विकसित भी हुआ! तब इन मशीनों में क्रेडिट कार्ड उपयोग अधिक किया जाता था! 

भारत में एटीएम मशीनों को इनस्टॉल करने का काम शुरू से ही बहुत धीमी गति से किया गया! 2013 के बाद सरकार जहां एक तरफ डिजिटल इंडिया की मुहीम को साकार बनाना चाहती थी, वहीँ बैंक एटीएम मशीनों को अधिक से अधिक इनस्टॉल करवाना चाहते थे! 

एटीएम का इतिहास – ATM History in Hindi

ATM मशीन का इतिहास बहुत पुराना यानि आज से करीब 60 साल पुराना है! तब एटीएम मशीन को बेंकोग्राफ कहते थे! 1961 में न्यूयार्क में सिटी बैंक ऑफ़ न्यूयार्क ने लोगों के लिए एटीएम मशीन सुविधा उपलब्ध कराई! लन्दन और न्यूयार्क दो ऐसे जगह हैं जहां एटीएम मशीन को पहली बार उपयोग में लाया गया था! 

लेकिन न्यूयार्क शहर में बहुत से ऐसे लोग थे जिन्हे यह सुविधा बिलकुल भी अच्छी नहीं लगी!

और उसके 4 से 5 महीनों बाद ही सिटी बैंक ऑफ़ न्यूयार्क ने इस मशीनों को शहर से हटा दिया! फिर 1966 में जापान देश में एटीएम मशीन का उपयोग होने लगा! वास्तव में जो एटीएम मशीन का प्रयोग आज आप करते हैं 1967 में इसको पूर्ण रूप से प्रयोग में लाने वाला बैंक बार्केले बैंक था! उस समय बार्केले बैंक लंदन में था! 

एटीएम मशीन का अविष्कार श्रेय जॉन शेपर्ड ने किया था! इसमें उनका साथ इंजिनियर डे ला रुई ने दिया था! तब से आज तक एटीएम मशीन का उपयोग पूरी दुनिया में किया जाता है! भारत में सबसे पहला एटीएम मुंबई शहर में 1987 में HSBC Bank का इनस्टॉल किया गया था! 

एटीएम के प्रकार – ATM Types in Hindi

  1. ऑन साइट एटीएम (On-Site ATM)
  2. ऑफ साइट एटीएम (Off-Site ATM)
  3. मोबाइल एटीएम (Mobile ATM)
  4. वाइट लेबल एटीएम (White Label ATM)
  5. ग्रीन लेबल एटीम (Green Label ATM)
  6. ब्राउन लेबल एटीएम (Brown Label ATM)
  7. ऑरेंज लेबल एटीएम (Orange Label ATM)
  8. येलो लेबल एटीएम (Yellow Label ATM)
  9. पिंक लेबल एटीएम (Pink Label ATM)

1. ऑन साइट एटीएम (On-Site ATM)

जैसे आपको नाम से ही समझ आ रहा होगा जिस साइट में बैंकिंग काम हो रहा हो, तो वहां पर ऐसे एटीएम का उपयोग किया जाता है! अधिकतर ये एटीएम बैंक के अंदर लगे होते हैं! इसलिए इनको ऑन साइट एटीएम कहा जाता है!

2. ऑफ साइट एटीएम (Off-Site ATM)

ये वो एटीएम होते हैं जो बैंक परिसर से बाहर लगे होते हैं जैसे किसी शॉपिंग मॉल में, किसी भी कॉलोनी में, या फिर किसी सरकारी कार्यालयों के बीच में!

3. मोबाइल एटीएम (Mobile ATM)

ये वो एटीएम होते हैं जिन्हें एक वाहन में स्थापित कर दिया जाता है! यह वाहन ऐसी जगहों पर यात्रा करता है जहां पर पक्के एटीएम मशीन स्थापित नहीं किये गए हैं! ग्रामीण इलाकों में मोबाइल एटीएम का उपयोग अधिक होता है!

4. वाइट लेबल एटीएम (White Label ATM)

इस तरह के एटीएम को NDFC Company इनस्टॉल करती है! इसके लिए एनबीएफसी कंपनी को आरबीआई की परमिशन की जरूरत होती है! देश की वित्तीय स्थिति को कंट्रोल करने में आरबीआई को एनबीएफसी कंपनियों की जरूरत होती है इसलिए एनबीएफसी कंपनी को आरबीआई अप्प्रूवल दे देता है! 

5. ग्रीन लेबल एटीम (Green Label ATM)

ये एटीएम एग्रीकल्चरल से जुड़े होते हैं! ग्रामीण इलाकों में ग्रीन लेबल एटीम का उपयोग होता है! किन्तु आज के समय में इनका उपयोग भारत में ना के बराबर हो रहा है!

6. ब्राउन लेबल एटीएम (Brown Label ATM)

जब भी कोई थर्ड पार्टी कंपनी किसी भी एटीएम को खुद इनस्टॉल करती है, उस एटीएम की देखरेख खुद करती है तो ऐसे एटीएम को ब्राउन लेबल एटीएम कहते हैं! इन एटीएम में बैंक का सिर्फ कैश और बैंक ऐडवर्टीज़मेंट होता है! 

7. ऑरेंज लेबल एटीएम (Orange Label ATM)

इस तरह के एटीएम शेयर के ट्रांसक्शन्स के लिए बने होते हैं! इनमें आप सिर्फ शेयर्स से जुड़े कामों को कर सकते हैं! 

8. येलो लेबल एटीएम (Yellow Label ATM)

इस तरह के एटीएम को ऑनलाइन या ई कॉमर्स में लेनदेन के लिए प्रयोग में लाया जाता है!

9. पिंक लेबल एटीएम (Pink Label ATM)

Pink Label ATM का उपयोग मुख्यतः महिला बैंकिंग में किया जाता है! 

एटीएम कैसे काम करता है – How Does ATM Works in Hindi

बहुत लोग आज भी यही सोचते होंगे कि एटीएम के अंदर पैसे बनते होंगे या फिर पैसे छपते होंगे तभी तो जैसे ही हम कार्ड डालते हैं तो पैसे बाहर निकल कर आ जाते हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है!

आज के समय में बेसिक एटीएम और आल इन वन एटीएम मशीनों का उपयोग अधिक होता हैं! बेसिक एटीएम जिसमें से हम सिर्फ पैसा निकाल सकते हैं और आल इन वन मशीन जिसमें हम पैसा निकाल भी सकते हैं और जमा भी कर सकते हैं!

एटीएम मशीन के प्रोसेस को समझने से पहले आपको एटीएम कार्ड के बारे में समझना बहुत ही जरूरी है!

एटीएम कार्ड के पीछे आपने देखा होगा काले रंग की एक पट्टी जैसे होती है! इस पट्टी को मैग्नेटिक स्ट्रिप कहते हैं! इसके अंदर आपके अकाउंट से जुडी सारी जानकारी मौजूद रहती है!

ये सारी डिटेल्स 0 और 1 लेंग्वेज में एक फॉर्मेट में होती है! उसकी के निचे एक होलोग्राम और दायीं तरफ CVV Code होता है! सामने की तरफ में कार्ड में एक चिप होता है! अब जैसे ही हम कार्ड को एटीएम मशीन में डालते हैं तो मशीन के अंदर लगे हुए स्कैनर कार्ड के पीछे मैग्नेटिक स्ट्रिप में जो डेटा होता है उसे वेरिफाई करते हैं!

क्योंकि आपके अकाउंट की हर एक डिटेल्स उस स्ट्रिप में बाइनरी डिजिट में मौजूद होती है! 

जब सारी डिटेल्स वेरिफाई हो जाती है तब एटीएम कार्ड के आगे की तरफ लगे चिप के द्वारा मशीन के अंदर लगे हुए स्कैनर ट्रांस्जक्शन को बैंक के सर्वर तक भेजते हैं! सब कुछ वेरिफाई होने के बाद ही पैसे बाहर निकलते हैं!  

बैंक कर्मचरियों द्वारा एटीएम मशीन के अंदर लगे हुए ट्रे में पैसे जमा किये जाते हैं! मशीन के अंदर एक काउंट स्लिप लगी होती है! ये स्लिप बहुत ही फ्लेक्सिबल होती है! जैसे ही यूजर अमाउंट टाइप करता है तो ये स्ट्रिप नोट काउंट करके पैसों को मशीन से बाहर कर देती है!

एटीएम से पैसे कैसे निकाले – ATM Se Paise Kaise Nikale

अभी तक हमने एटीएम क्या है, ATM Ka Full Form और ATM कैसे काम करता है? के बारे में पुरी जानकारी प्राप्त की! अब आगे हम एटीएम से पैसे कैसे निकले ( ATM Se Paise Kaise Nikale) के बारे में Step by step जान लेते हैं!

Step 1. सबसे पहले आप एटीएम कार्ड को मशीन के दायीं तरफ बने Swap Option में (मतलब की कार्ड स्वैप करने के लिए बनाये गए खाचे में) स्वैप कीजिये! आप देखेंगे कि यहां पर ग्रीन लाइट ब्लिंक कर रही है!

ATM Card को Swap करने के बाद आपके सामने मशीन के स्क्रीन में Please Wait लिखा आ जाता है!

Step 2. अब आपको एटीएम मशीन के स्क्रीन में कुछ ऑप्शन दिखेंगे! सबसे पहले आपको भाषा चुनने का ऑप्शन दिखेगा! आप भाषा चुन लीजिये!
भाषा चुनने के बाद आगे Select Transaction में Cash Withdrawal ऑप्शन में क्लिक कीजिये!

अगर एटीएम मशीन स्क्रीन टच है तो आपको स्क्रीन पर टच करना है नहीं तो ऑप्शन के आगे बने गोल बटन पर क्लिक करके आप आगे बढ़ सकते हैं!

Step 3. अब आगे Select Amount ऑप्शन में अमाउंट डाल लीजिये! आगे Enter पर क्लिक कीजिये! अब आप Select Account ऑप्शन में आप आ जायेंगे! आपका अकाउंट सेविंग है या करंट, आप चुन लीजिये!

Step 4. सेविंग पर क्लिक करने के बाद Enter Pin ऑप्शन में अपने एटीएम का पिन डाल दीजिये! ATM Pin डालते ही सामने स्क्रीन पर Transaction in Progress Please Wait लिखा आएगा!

अब नीचे एटीएम मशीन से आपका अमाउंट निकल जायेगा! किसी किसी एटीएम मशीन में एटीएम कार्ड मशीन की अंदर ही रह जाता है ऐसे में आपको घबराने की जरूरत नहीं है! जैसे ही आपका Transaction पूरा हो जायेगा तो एटीएम कार्ड ऑटोमेटिक बाहर आ जायेगा!

तो इस तरह हमने जाना आप कैसे एटीएम मशीन से पैसा निकाल सकते हैं!

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस हिंदी पोस्ट में हमनें ATM Ka Full Form, एटीएम क्या है? (ATM Kya Hai), एटीएम कितने प्रकार के होते हैं? ATM Ka Itihaas, और साथ में एटीएम से पैसे कैसे निकले ATM Se Paise Kaise Nikale के बारे में विस्तार से जाना!

हमे उम्मीद है की इस हिंदी लेख के माध्यम से आपको एटीएम के बारे (ATM in Hindi) में बहुत कुछ जानने को मिला होगा! यदि आपके पास इस आर्टिकल से संबधित किसी भी प्रकार का कोई सवाल या फिर सुझाव हो तो कृपया हमे निचे कमेंट सेक्शन में लिखकर जरूर बताएं!

आपका इस पूरी पोस्ट पढ़ने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद!

स्वस्थ रहें, सुरक्षित रहें और अपनों का ख्याल रखें!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here