नमस्कार दोस्तों, आज के इस ब्लॉग में हम आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस के बारे में जानने वाले है जैसे – आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस क्या है – What is Artificial Intelligence in Hindi. आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस कितने प्रकार के होते हैं – Types of Artificial Intelligence और AI के फायदे और नुकसान क्या है! तो चलिये जानते है Artificial Intelligence Kya Hai.

इंसान को कामयाब बनाने में जितना साथ मानव सभ्यता देती है! उससे कई गुना अधिक इंसान की बुद्धि (Human Mind), मानव को सभ्य और बुद्धिमान (Intelligent) बनाने में अहम भूमिका निभाती है! 

इंसान ने अपनी बुद्धि के बल पर कई प्रकार के नए अविष्कार किये हैं जिससे लोगों की जिंदगी में कई बदलाव देखने को मिले हैं! Computer का अविष्कार जब हुआ था तो उस समय किसी ने नहीं सोचा होगा कि स्मार्ट फोन का Use भी कभी हम कर पाएंगे! 

लेकिन आज के समय में Internet, Smart Phones और Computer के बिना हम कोई भी कार्य नहीं कर पाते हैं! 

What is Artificial Intelligence in Hindi
What is Artificial Intelligence in Hindi

[ What is Artificial Intelligence in Hindi – Artificial Intelligence Kya Hai ]

आधुनिक टेक्नोलॉजी में आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस के क्या फायदे और नुकसान है और भी बहुत कुछ तो चलिए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं – 

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस का हिंदी मीनिंग – Hindi Meaning of Artificial Intelligence

Artificial Intelligence का Hindi में Meaning कृत्रिम बुद्धिमत्ता होता है और Short Form में इसे AI Technology कहा जाता है!

वास्तव में कृत्रिम का मतलब किसी व्यक्ति के द्वारा निर्मित होता है और बुद्धिमत्ता का अर्थ है सोचने की शक्ति!

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस क्या है – What is Artificial Intelligence in Hindi

Artificial Intelligence Kya Hai: जब भी किसी मशीन में ऐसे Programs को set किया जाता है जो मशीन बिलकुल इंसान की तरह काम करती है उसे Artificial Intelligence कहा जाता है! यह विज्ञानं की एक शाखा है जो ऐसी मशीन को विकसित करती है जो इंसान की तरह सोच सकती है!

यह प्राकृतिक बुद्धि के विपरीत मानव द्रारा बनाए गए मशीनों द्वारा प्रदर्शित बुद्धि है! जिसे Computer Control Robot भी कहा जाता है! 

Computer Technology के द्वारा एक Intelligence Software को Develop किया जाता है! जिसके जरिये Robotic System को तैयार किया जाता है! यह System उसी फॉर्मूले के आधार पर कार्य करता है जिस फॉर्मूले पर मानव मस्तिष्क काम करता है! 

Computer Science में कृत्रिम बुद्धि के अविष्कार को होशियार एजेंट माना गया है जो पर्यावरण व अपने आसपास के वातावरण को देखकर ही अपने लक्ष्य को हासिल करने की कोशिश करता है! 

मानव Analyze करने और याद रखने का काम भी अपने दिमाग की जगह Computer Technology से कराना चाहता है, इसलिए प्रत्येक देश द्वारा Artificial Intelligence को पूरी तरह से विकसित करने पर जोर दिया जाता रहा है! 

AI (Artificial Intelligence) को Machine Learning के नाम से भी जाना जाता है! यह System को अपने अनुभव से सीखने और खुद को सक्षम बनाने की Power देता है! 

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी का इतिहास – History of Artificial Intelligence in Hindi

ऐसा माना जाता है कि यांत्रिक तर्क का अध्ययन पुराने समय के गणितज्ञों से शुरू हुआ! गणितीय तर्क के आधार पर एलन ट्यूरिंग ने कम्प्यूटर सिद्धांत को विकसित किया! उनका मानना था कि 0 और 1को मिलाकर कोई भी Understandable Calculation (बोधगम्य गणना) की शुरुआत की जा सकती है! 

ट्यूरिंग का कहना था यदि कोई मनुष्य अपनी प्रतिक्रियाओं और मशीन के बीच में कोई अंतर् नहीं कर सकते तो उस मशीन को मानव की तरह बुद्धिमान माना जा सकता है!

1943 में एक डिजाइन तैयार किया गया जो कृत्रिम न्यूरॉन्स के लिए था यह डिजाइन तब Artificial Intelligence के रूप में पहचाना जाता था! मशीनों और Software के साथ विकसित हुई बुद्धि को 1955 में जॉन माकर्ति ने कृत्रिम बुद्धि नाम दिया!

ट्यूरिंग को Father of Artificial Intelligence के नाम से भी जाना जाता है!

Artificial Intelligence History में कई असफलताओं, निराशाओं और फिर नए तर्कों को विकसित करने की बातें दर्ज हैं! कृत्रिम बुद्धि के उद्देश्य में सांख्यिकीय विधियों (Statistical Methods) कॉम्प्टेरनेशनल बुद्धि (Compternational Intelligence) और पारंपरिक खुफिया (Traditional Intelligence) शामिल हैं!

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी कितने प्रकार की होती है – Types of Artificial Intelligence

मुख्यता आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी (Artificial Intelligence) को इसकी क्षमता और कार्यात्मकता के आधार पर दो Category में बाटा गया है!  

  1. क्षमता के आधार पर
  2. कार्यात्मकता के आधार पर

1. क्षमता के आधार पर

  • Weak AI
  • Strong AI

Weak AI

  • किसी एक Specific Task को पूरा करने के लिये Weak AI तैयार किये जाते है!
  • इनके कार्य करने की क्षमता की एक Limit होती है और ये इस Limit से Beyond Perform नहीं कर सकते!
  • Limitation की वजह से कभी कभी ये Task Complete करने में Fail हो सकते है!
  • आज कल चर्चित Virtual Personal Assistant जैसे Apple का Siri, Google Assistant और Alexa Weak AI के अच्छे Example है!

Strong AI

  • इसमें मनुष्य की बुद्धिमत्ता जैसे मशीने तैयार की जाती है जैसे Robot, ताकि कठिन से कठिन कार्यो को मशीनो द्वारा कराया जा सके!
  • Strong AI, Artificial Intelligence का एक ऐसा स्तर (Level) होता है जिस स्तर पर मशीन मानव बुद्धि को पीछे कर सकती है!
  • सोचने की शक्ति या किसी Puzzle को Solve करना या फिर Learning और Planing Strong AI की कुछ योग्यताये है!
  • Strong AI अभी भी एक काल्पनिक अवधारणा है क्योकि वास्तिविक रूप में ऐसी Technology अभी पूर्णतया विकसित नहीं हुई है!

2. कार्यात्मकता के आधार पर

Artificial Intelligence के कार्यात्मकता के आधार पर भी कई अन्य प्रकार मौजूद है! जैसे 

  • Reactive Machine
  • Limited Memory
  • Automatic Machine
  • Self Awareness System

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी का उपयोग – Uses of Artificial Intelligence in Hindi

आज के समय में Artificial Intelligence की Popularity (लोकप्रियता) बढ़ती ही जा रही है इसी का परिणाम है कि AI का उपयोग Technology और Business के क्षेत्रों में बहुत अधिक किया जा रहा है!

AI Technology के साथ हम किसी न किसी तरह से जुड़े हैं और इसका इस्तेमाल भी कर रहे हैं!

आज के समय में कई कंपनियों ने Machine Learning पर अधिक निवेश किया है! जिसकी वजह से कई Artificial Intelligence Products, Software और Mobile App हमें उपलब्ध हुए हैं!   

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी के कुछ उपयोग –

  1. इंसानी वाणी को समझना  – Speech Recognition 
  2. ऑनलाइन Video गेम तैयार करना – Mobile & Computer Game 
  3. प्रकर्तिक भाषा संस्करण – Naturel Language Processing 
  4. दृष्टि प्रणाली 
  5. भविष्यवाणी और रुझानों की पहचान करना 
  6. बुद्धिमान रोबोट तैयार करना 
  7. जटिल प्रणाली को आसान करना
  8. औटोमोबाइल क्षेत्र में
  9. Manufacturing Industry में

Apple का Siri Option Artificial Intelligence का ही एक उदाहरण है जो प्राकृतिक भाषा और प्रश्नों को समझाने में सक्षम है! इसी तरह Alexa Device, Windows Cortana, और Android में Google Assistant जैसे Option हैं जो Apple Siri Option की तरह काम करते हैं! 

Google Map में भी AI Machine Learning का ही इस्तेमाल किया जाता है! 

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी के प्रकार – Types of Artificial Intelligence

मुख्यतः Artificial Intelligence चार प्रकार के होते हैं – 

  • पूर्णतः प्रतिक्रियात्मक 
  • सीमित स्मृति 
  • मस्तिष्क सिद्धांत 
  • आत्म चेतन – 

पूर्णतः प्रतिक्रियात्मक – यह मशीने मैमोरी को स्टोर नहीं करती है! ये देखकर रिएक्ट करती  है! ये अपने पुराने अनुभव का उपयोग भविष्य में नहीं कर सकती है! आईबीएम का डीप ब्लू इसका एक उदहारण है! जिसने शतरंज मास्टर कास्परोव को हरा दिया था! 

सीमित स्मृति – ये AI मशीने अपने बीते अनुभव से भविष्य में होने वाले परिणाम को जान सकते हैं! 

मस्तिष्क सिद्धांत – इस प्रकार मशीनों को मनुष्य के जैसे ही बनाया गया है! समाजिक रूप से बातचीत करने में ऐसी मशीनों को सक्षम बनाया जाता है! 

आत्म चेतन – यह एक ऐसी Artificial intelligence System है, जिसके पास अपनी खुद की चेतना, Self Awareness और Super Intelligence होती है! सरल शब्दों में आप इसे एक तरह का ह्यूमन भी कह सकते है।

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी के क्या फायदे हैं – Advantages of Artificial Intelligence

  • AI किसी भी Error को कम करने में मदद करता है! जिससे अधिक Accuracy के साथ सटीक परिणाम मिलने की संभावना बढ़ जाती है! 
  • इसके उपयोग से किसी भी Technology के क्षेत्र में निर्णय लेने में सोचना नहीं होता है और कार्य बहुत तेजी से होते हैं! 
  • मनुष्यों के विपरीत मशीनों को आराम या फिर Refreshment की जरूरत नहीं होती है! मशीनें कई घंटों तक कार्य कर सकती है! 
  • Artificial Intelligence की मदद से संचार सेवा, रक्षा स्वस्थ आपदा प्रबंधन और कृषि के क्षेत्रों में अनेकों बदलाव किये जाते हैं! नए उपकरणों के साथ उत्पादों के  Productionमें इजाफा होता है! 

आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी के क्या नुकसान हैं – Disadvantages of Artificial Intelligence

  • नए अविष्कारों से नई तरह की Technology से फायदा तो होता ही है किन्तु साथ में नुक्सान भी मनुष्य का ही होता है! 
  • AI System मनुष्य की जगह खुद कार्य तो करती है! मशीने स्वंय ही निर्णय लेने लगेंगी अगर उन पर नियंत्रण नहीं किया गया तो मनुष्य के लिए खतरा भी पैदा हो सकता है! 
  • Artificial मशीने लोगों से रोजगार भी छीन रही है जिससे भविष्य में बेरोजगारी की समस्या अधिक बढ़ने वाली है! 
  • Artificial Intelligence का लाभ मनुष्य अपने खुद के फायदे के लिए कर रहा है! किन्तु इसी के विपरीत कई वैज्ञानिकों का यह भी मानना है अगर कभी इन आर्टिफिशियल मशीनों ने मानव के विपरीत कार्य करना शुरू कर दिया तो बहुत अधिक नुक्सान हो सकता है! 

इन्हें भी पढ़ें 

आज हमने क्या जाना – Conclusion

दोस्तों आज हमने आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस क्या है – Artificial Intelligence Kya Hai, आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस कितने प्रकार के होते हैं – Types of Artificial Intelligence. आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी का इतिहास क्या है- History of Artificial Intelligence in Hindi जाना!

साथ में हमने आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है! आर्टिफिसियल इंटेलिजेंसी के क्या फायदे और नुकसान हैं? जाना!

आपको यह पोस्ट (Artificial Intelligence Kya Hai) कैसे लगी हमें Comment Box में जाकर जरूर बताएं! हमें उम्मीद है आज के इस पोस्ट में आपको बहुत कुछ जानने को मिला होगा! आप हमारे इस पोस्ट को Facebook, Twitter, WhatsApp में शेयर जरूर करें!

पूरा पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद! 

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here