नमस्कार दोस्तों, क्या आपको BMS Full Form, बीएमएस क्या है? और बीएमएस कोर्स कैसे करे? पता है? बीएमएस, मैनेजमेंट के क्षेत्र में एक प्रोफेशनल कोर्स होता है! इससे पिछले में हमने MBA कैसे करें? के बारे में बताया था! आज के इस हिंदी आर्टिकल में हम BMS Kya hai, BMS Course Kaise Kare और साथ ही BMS Course Fees और सैलरी के बारे में विस्तार से बताने वाले है!

बिज़नेस और मैनेजमेंट के क्षेत्र में BBA और MBA कोर्स की तरह BMS भी काफी प्रचलित कोर्स है! जो छात्र 12वी पास करने के बाद बिज़नेस और मैनेजमेंट में अपने आगे की पढ़ाई करना चाहते है उनके लिए बीएमएस एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है!

तो बिना किसी देरी के इस आर्टिकल को शुरू करते है और BMS Full Form, बीएमएस क्या है? (BMS Kya haiऔर बीएमएस कोर्स कैसे करे? (BMS Course Kaise Kare) के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से जानते है!

BMS Full Form in Hindi

[ बीएमएस कोर्स कैसे करे? BMS Full Form in Hindi ]

बीएमएस का फुल फॉर्म BMS Full Form in Hindi

BMS Full Form: बीएमएस का फुल फॉर्म Bachelor of Management Studies होता है! जो मैनेजमेंट के क्षेत्र में एक पॉपुलर और लोकप्रिय कोर्स माना जाता है!

BMS Full form in Hindi: बीएमएस का हिंदी में फुल फॉर्म यानी की पूरा नाम प्रबंधन अध्ययन में स्नातक होता है! जिसके माध्यम से आप व्यवसाय प्रबंधन के प्रत्येक पहलुओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है! 

बीएमएस कोर्स क्या है – BMS Course Kya hai

BMS Kya Hai: बीएमएस प्रबंधन के क्षेत्र में किया जाने वाला एक बेचलर कोर्स है! यह तीन साल का स्नातक पाठ्यक्रम होता है जिसके अंतर्गत प्रबंधन के क्षेत्र से संबंधित पाठ्यक्रम Marketing, Finance, Technology, Business management, Economics आदि के बारे में गहनता से अध्ययन किया जाता है!

भारत में BMS कोर्स को बहुत अधिक महत्व दिया जाने लगा है इसके अलावा अन्य देशों के मैनेजमेंट कॉलेजो या यूनिवर्सिटी में भी यह कोर्स पढ़ाया जाता है! BBA के समान यह कोर्स भी व्यवसाय मैनेजमेंट से जुड़ा हुआ एक प्रोफेशनल कोर्स है!

यह Course छात्रों को व्यवसायिक कार्यो में कौशल विकसित करने में सक्षम बनता है! बिज़नेस और मैनेजमेंट के क्षेत्र में रूचि रखने वाले छात्र के लिए यह कोर्स एक बेस्ट विकल्प हो सकता है! और इस फील्ड में कोर्स करने के बाद प्लेसमेंट के बहुत Chances होते है! 

बीएमएस कोर्स के लिए शैक्षिक योग्यता  Educational Qualification for BMS Course

BMS कोर्स को करने की लिए निर्धारित शैक्षिक योग्यता इस प्रकार होनी चाहिए!

  • कैंडिडेट्स द्वारा किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12th उत्तीर्ण किया हो! 
  • बारहवीं 50% मार्क्स के साथ किसी भी स्ट्रीम(आर्ट,साइंस, कॉमर्स) से पास किया हो!
  • उम्मीदवार की उम्र 17 से 23 साल की बीच होनी चाहिए!
  • नेशनल और यूनिवर्सिटी लेवल पर आयोजित होने वाले Entrance Exam उत्तीर्ण किया हो!

बीएमएस कोर्स कैसे करें – BMS Course Kese Kare in Hindi

BMS Course Kese Kare: बीएमएस कोर्स के लिए आपको सबसे पहले अपना इंटरमीडिएट उत्तीर्ण करना होता है! आप कोई भी स्ट्रीम से बारहवीं पास किये हो तो भी बीएमएस कोर्स में प्रवेश प्राप्त कर सकते है! इसके बाद आपको BMS Entrance Exams के लिए आवेदन करना होता है! यह आवेदन फॉर्म आप आसानी से ऑनलाइन भर सकते है!

बीएमएस Entrance exams कॉलेज, स्टेट और नेशनल लेवल पर कराये जाते है! आपको एक अच्छी रैंक से परीक्षा को पास करना होता है जिससे आप टॉप कॉलेजो से कोर्स करने एक शानदार मौका प्राप्त कर सकते है! इसके अलावा कुछ प्राइवेट कॉलेजो में मेरिट के आधार पर डायरेक्ट एडमिशन उपलब्ध कराते है!

कॉलेज सेलेक्शन के लिए आपको कॉउंसलिंग करानी होती है इसमें आपकी रैंक के अनुसार ही आपको कॉलेज उपलब्ध कराये जाते है! इस प्रकार आप BMS कोर्स में एडमिशन प्राप्त कर अपनी पढाई कर सकते है!

बीएमएस कोर्स समय अवधिBMS Course Duration in Hindi

बीएमएस कोर्स (Bachelor of Management Studies) तीन साल का होता है! इसमें सेमेस्टर के आधार पर कोर्स पाठ्यक्रम को निर्धारित किया जाता है! प्रत्येक साल में 2 सेमेस्टर और 3 साल में 6 सेमेस्टर में पाठ्यक्रम को कवर किया जाता है!

बीएमएस प्रवेश के लिए परीक्षाएं – BMS Entrance Exams in Hindi

बीएमएस कोर्स करने के लिए यदि आप सरकारी कॉलेज में प्रवेश पाना चाहते है तो इसके लिए Entrance exam को क्लियर करना अनिवार्य होता है आइये जान लेते है कुछ प्रवेश परीक्षाएं BMS Entrance exams जो निम्नलिखित है!

  • CAT
  • DUJAT
  • MAT
  • NPAT

👉 CAT

इसका फुल फॉर्म Common Admission test होता है! BMS कोर्स में एडमिशन के लिए आप CAT एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते है! यह परीक्षा को Indian Institutes of Management द्वारा रेगुलेट किया जाता है! CAT एक कंप्यूटर बेस्ड एग्जाम होता है!

👉 DUJAT  

DUJAT का फुल फॉर्म Delhi University Joint Admission Test होता है! यह एग्जाम दिल्ली यूनिवर्सिटी द्वारा मैनेजमेंट के क्षेत्र में अंडरग्रेजुएट कोर्स BBA /BMS में प्रवेश हेतु आयोजित किया जाता है!

इस परीक्षा के लिए आवेदन फॉर्म आप ऑफलाइन भर सकते है! और यह एग्जाम पेन – पेपर बेस्ड होता है!

👉 MAT 

इसका फुल फॉर्म Management aptitude test होता है! मैनेजमेंट संबंधी कोर्स BBA, MBA BMS में प्रवेश हेतु यह परीक्षा आयोजित की जाती है!

MAT को AIMA (All India management association) द्वारा संचालित किया जाता है!

👉 NPAT 

NAPT का फुल फॉर्म National Test for Programs After Twelfth होता है! यह एग्जाम BMS, BBA or BSc finance courses में प्रवेश हेतु आयोजित किया जाता है!

यह एग्जाम NNIMS (Narsee Monjee Institute for Management Studies) द्वारा संचालित किया जाता है!

👉 BHU UET

इसका फुल फॉर्म Banaras Hindu University Undergraduate Entrance Test होता है! यह परीक्षा को बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित किया जाता है!

BHU UET के लिए शैक्षिक योग्यता कैंडिडेट्स के 12th कम से कम 50% मार्क्स के साथ उत्तीर्ण किया हो! यह परीक्षा ऑफलाइन आयोजित की जाती है!

👉 UGAT

इसका फुल फॉर्म Under Graduate Aptitude Test होता है! बीकॉम, BHM, MBA, BCA, BBA आदि स्नातक कोर्स में प्रवेश हेतु यह परीक्षा का आयोजन किया जाता है!

UGAT एग्जाम की सम्पूर्ण जानकारी (Qualification for Exam, Exam application form, Exam release date, admit card, एग्जाम फीस आदि) को AIMA (All India management Association) की ऑफिसियल वेबसाइट से चेक सकते है! 

बीएमएस कोर्स पाठय्रकम BMS Course Subjects

बीएमएस कोर्स के अंतर्गत एकाउंटिंग, मार्केटिंग, बिज़नेस संबंधी विषयो को पढ़ाया जाता है! BMS कोर्स के तीन साल की अवधि में शुरुआत के दो साल में मुख्य व्यवसाय अनुशासन के बारे में और तीसरे साल में व्यवसायिक प्रबंधन की संगठनात्मक रणनीति का पूर्ण से अध्ययन कराया जाता है!

BMS Course Subjects इस प्रकार है! 

पहला साल बीएमएस पाठ्यक्रम (First Year BMS Course Subjects)

  • वित्तीय खातों का अध्ययन (Introduction of Financial Accounts)
  • मानव कौशल की नींव (Foundation of Human Skills)
  • व्यावसायिक संपर्क (Business Communication)
  • कंप्यूटर का परिचय (Introduction to Computers)
  • व्यापार कानून (Business Law)
  • व्यावसायिक आंकड़े (Business Statistics)
  • व्यापार गणित (Business Mathematics)
  • प्रबंधन के सिद्धांत I (Principles of Management I)
  • व्यापारिक वातावरण (Business Environment)
  • व्यापार गणित (Business Mathematics)
  • व्यवसाय में कंप्यूटर अनुप्रयोग (Computer Applications in Business)
  • औद्योगिक कानून (Industrial Law)
  • प्रबंधकीय अर्थशास्त्र I (Managerial Economics I)

दूसरा साल बीएमएस पाठ्यक्रम (Second Year BMS Course Subjects)

  • लागत लेखांकन का परिचय (Introduction of Cost Accounting)
  • प्रबंधन लेखांकन (Management Accounting)
  • प्रबंधकीय अर्थशास्त्र II (Managerial Economics II)
  • पर्यावरण प्रबंधन (Environmental Management)
  • विपणन प्रबंधन (Marketing Management)
  • रणनीतिक प्रबंधन (Strategic Management)
  • बैंकिंग और बीमा के व्यावसायिक पहलू (Business Aspects of Banking & Insurance)
  • उत्पादन प्रबंधन और सामग्री प्रबंधन (Production Management & Materials Management)
  • प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर (Direct & Indirect Taxes)
  • उत्पादकता और गुणवत्ता प्रबंधन (Productivity and Quality Management)
  • सहकारिता और ग्रामीण बाजार (Cooperatives & Rural Markets)
  • निर्यात-आयात प्रक्रियाएं और दस्तावेज़ीकरण (Export-Import Procedures & Documentation)

तीसरा साल बीएमएस पाठ्यक्रम (Third Year BMS Course Subjects)

  • वित्तीय प्रबंधन (Financial Management)
  • जनसंपर्क प्रबंधन (Public Relations Management)
  • व्यापार में अनुसंधान के तरीके (Research Methods in Business)
  • रसद प्रबंधन के तत्व (Elements of Logistics Management)
  • मानव संसाधन प्रबंधन (Human Resource Management)
  • विपणन में विशेष अध्ययन (Special Studies in Marketing)
  • वित्त में 10 विशेष अध्ययन (10 Special Studies in Finance)
  • ई-कॉमर्स (E-Commerce)
  • एसएमई का उद्यमिता और प्रबंधन (Entrepreneurship & Management of SME)
  • अंतर्राष्ट्रीय वित्त (International Finance)
  • अंतरराष्ट्रीय विपणन (International Marketing)
  • भारतीय प्रबंधन विचार और व्यवहार (Indian Management Thoughts & Practices)
  • परियोजना कार्य (Project Work)

बीएमएस कोर्स फीस कितनी होती है? – BMS Course Fees in Hindi

BMS कोर्स की अनुमानित फीस सरकारी कॉलेजो में प्रति वर्ष 10,000 से 2 लाख तक हो सकती है! इसके अलावा निजी संस्थानों में यह कोर्स फीस इससे अधिक भी हो सकती है! जो लगभग 50,000 से 3 लाख के बीच हो सकती है! प्राइवेट कॉलेजो में अधिकतर हर प्रकार की शैक्षिक व्यवस्थाओ का पैसा देना होता है! 

बीएमएस कोर्स के बाद कोर्स – Best Courses after BMS

बीएमएस कोर्स करने के बाद यदि आप मैनेजमेंट के क्षेत्र में और अधिक knowledge प्राप्त करना चाहते है इसके लिए आप मास्टर कोर्स, डिप्लोमा कोर्स, मैनेजमेंट के क्षेत्र में डॉक्टरेट कोर्स और अन्य ऑनलाइन कोर्स कर सकते है! जिससे आप मैनेजमेंट के फील्ड में स्किल्स डेवेलोप कर सकते है! कुछ कोर्स इस प्रकार निम्नलिखित है!

👉 MBA

MBA का फुल फॉर्म Master of Business administration होता है! यह कोर्स 2 साल होता है लेकिन 12th के बाद यदि आप यह कोर्स के लिए अप्लाई करते है तो आपको 5 साल का एमबीए कोर्स करना होता है! एमबीए के अंतर्गत प्रबंधन के बारे में आप मास्टर क्नोलाज प्राप्त कर सकते है!

मास्टर डिग्री में प्रवेश के लिए कैडिडेट्स को ग्रेजुएट होना चाहिए! MBA कर आप एक बेहतरीन और शानदार करियर बनाने का अवसर प्राप्त कर सकते है!

👉 PGDM

इसका फुल फॉर्म Post Graduate diploma in Management होता है यह कोर्स आप अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद [AICTE] से  मान्यता प्राप्त संस्थानों से कर सकते है! बीएमएस कोर्स के बाद आप PGDM कोर्स के लिए आवेदन कर सकते है! 

PGDM कोर्स केअंतर्गत Management Techniques के बारे में पूर्ण रूप से अध्ययन कराया जाता है! इसमें एडमिशन के लिए उम्मीदवार का किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन उत्तीर्ण किया गया हो! 

👉 MCA

MCA का फुल फॉर्म Master of Computer Application होता है! यह एक पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स होता है! जिसके अंतर्गत कंप्यूटर एप्लीकेशन, कंप्यूटर प्रोग्रामिग, हार्डवेयर सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम का अध्ययन किया जाता है!

बैचलर डिग्री करने के बाद आप मास्टर कोर्स कर सकते है! MCA कोर्स करने के बाद आईटी सेक्टर और बड़े बड़े इंडस्ट्रीज में हाई पैकेज पर जॉब प्राप्त कर सकते है!

बीएमएस कोर्स के बाद नौकरी – Job After BMS Course in Hindi

यह कोर्स करने के बाद आप मैनेजमेंट के क्षेत्र कई Job Opportunities प्राप्त कर सकते है! सरकारी और निजी संस्थानों में फाइनेंसिंग, मार्केटिंग आदि फील्ड में अपना भविष्य उज्वल बनाने का मौका प्राप्त कर सकते है! इसके अलावा खुद का कोई भी बिज़नेस  शुरू कर सकते है!

Management Studies Course में सर्टिफिकेशन के बाद आप प्रबंधन के फील्ड में अपना बेहतरीन Career Develop कर सकते है! BMS कोर्स के बाद जॉब प्रोफाइल निम्न प्रकार से हो सकती है!

  • कार्यकारी सहायक (Executive Assistant)
  • विपणन प्रबंधक (Marketing Manager)
  • बिक्री प्रबंधक (Sales Manager)
  • व्यवसाय विकास प्रबंधक (Business Development Manager)
  • वित्त प्रबंधक (Finance Manager)
  • खाता प्रबंधक (Account Manager)
  • मानव संसाधन प्रबंधक (Human Resources Manager)
  • अध्यापक (Teacher)
  • बाज़ार अनुसंधान विश्लेषक (Market Research Analyst)
  • प्रोजेक्ट मैनेजर (Project Manager)
  • प्रवक्ता सलाहकार (Business Consultant)

बीएमएस कोर्स के बाद सैलरी  – Salary After BMS Course in Hindi

BMS सैलरी बीएमएस कोर्स के बाद एक व्यक्ति Professionally प्रबंधन के क्षेत्र में रोजगार प्राप्त कर सकता है और अच्छी खासा इनकम ले सकता है! इसके साथ ही अच्छी सैलरी प्राप्त करना व्यक्ति के Skills, Ability और Experience पर निर्भर करता है!

आपको बता दें एक BMS कोर्स करने के बाद आप प्रति वर्ष 2  से 3 लाख के पैकेज में Starting Salary कमा सकते है! इसके बाद आपके Experience और डिग्री के आधार पर Salary Average बढ़ता जाता है!

भारत के टॉप बीएमएस कॉलेज – Top BMS Collages in India

  1. शहीद सुखदेव कॉलेज ऑफ बिजनेस स्टडीज, नई दिल्ली (Shaheed Sukhdev College of Business Studies, New Delhi)
  2. बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, बेंगलुरू (BMS College of Engineering, Bengluru)
  3. सेंट जेवियर्स कॉलेज (स्वायत्त), मुंबई (St. Xavier’s College (Autonomous), Mumbai)
  4. जय हिंद कॉलेज, मुंबई (Jai Hind College, Mumbai)
  5. दीन दयाल उपाध्याय कॉलेज, नई दिल्ली (Deen Dayal Upadhyaya College, New Delhi)
  6. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी (Banaras Hindu University, Varanasi)
  7. नरसी मोंजी इंस्टीट्यूट फॉर मैनेजमेंट स्टडीज, मुंबई (Narsee Monjee Institute for Management Studies, Mumbai)
  8. केशव महाविद्यालय, नई दिल्ली (Keshav Mahavidyalaya, New Delhi)
  9. मीठीबाई कॉलेज ऑफ आर्ट्स चौहान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस और अमृतबेन जीवनलाल कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स, मुंबई (Mithibai College of Arts Chauhan Institute Of Science And Amrutben Jivanlal College Of Commerce And Economics, Mumbai)
  10. एचआर कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स, मुंबई (H.R. College of Commerce and Economics, Mumbai)

निष्कर्ष – Conclusion

आज इस हिंदी ब्लॉग में हमने BMS Full Form, बीएमएस कोर्स क्या है? (BMS Kya haiऔर बीएमएस कोर्स कैसे करें? (BMS Course Kaise Kare) के बारे में विस्तार से जाना! इसके साथ ही BMS Course Qualification, बीएमएस कोर्स पाठ्यक्रम (BMS Course Subjects), BMS course fees और Top BMS Collages in India के बारे में अध्ययन किया!

उम्मीद है हमारी इस पोस्ट (BMS Full Form) के माध्यम से आपको बीएमएस कोर्स के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला होगा! बीएमएस कोर्स की मदद से आप अपना सुनहरा भविष्य बनाने का मौका प्राप्त कर सकते है!

आशा करते है इस प्रकार की Informational और Educational ब्लॉग आपको पसंद आया होगा! इस तरह के कोर्स संबंधी पोस्ट को सोशल मिडिया पर अपने दोस्तों और अन्य लोगो साथ शेयर अवश्य करें! अपने doubts और Thoughts को कमेंट सेक्शन में लिखकर जरूर बताएं!

हमारी यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

स्वस्थ रहें, सुरक्षित रहें और अपनों का ख्याल रखें!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here