Compound Meaning in Hindi – कंपाउंडिंग क्या है? कंपाउंड इंटरेस्ट कैसे कैलकुलेट करते हैं?

5/5 - (1 vote)

Compound Meaning in Hindi – क्या आपको पता है की कंपाउंडिंग क्या है? कंपाउंडिंग इंटरेस्ट क्या होता है? और कंपाउंड इंटरेस्ट कैसे कैलकुलेट करते हैं? या फिर आखिर कंपाउंडिंग इंटरेस्ट का मतलब क्या होता है? क्या होता है?

इससे पिछले लेख में हमने पैसा निवेश करने के 10 तरीके के बारे में बताया था लेकिन यदि आप अपने निवेश का बेहतर रिटर्न प्राप्त करना चाहते है तो आपको Power of Compounding के बारे में पता होना बहुत जरुरी है!

अधिकतर लोग अपना सालो का कमाया हुआ पैसा इन्वेस्ट करते तो है लेकिन बेहतरीन उन्हें कभी अच्छे रिटर्न नहीं मिल पाते है!

तो यदि आप भी अपने निवेश किये हुए पैसे में बहुत अधिक और अच्छा रिटर्न प्राप्त करना चाहते है तो सबसे पहले आपको Compounding इंटरेस्ट क्या होता है और निवेश में Power of Compounding क्या होता है? समझना बहुत जरुरी है!

तो चलिए बिना किसी देरी के इस लेख को शुरू करते है और विस्तार पूर्वक जानते है की आखिर कंपाउंडिंग क्या है? कंपाउंडिंग इंटरेस्ट क्या होता है? Compound Meaning in Hindi और कंपाउंड इंटरेस्ट कैसे कैलकुलेट करते हैं? या फिर आखिर कंपाउंडिंग इंटरेस्ट का मतलब क्या होता है?

compound Interest in hindi

कंपाउंडिंग का मतलब क्या होता है? | Compounding Interest Meaning in Hindi

“Compounding Interest” हिंदी में “कम्पाउंडिंग ब्याज” कहलाता है! यह एक प्रकार की प्रक्रिया होती है जिसमे ब्याज को निवेश के साथ बढ़ाया जाता है! और फिर से ब्याज को पुनः निवेश में शामिल किया जाता है और अगले समय पर ब्याज को बढ़ाया जाता है!

कम्पाउंडिंग इंटरेस्ट में निवेश को समय के साथ बढ़ाया जा सकता है! जिससे आप मिलने वाले ब्याज को कम्पाउंड करते समय आप कुछ अतिरिक्त पैसा कमा सकते हैं!

कंपाउंडिंग क्या है? | What is Compounding in Hindi

Compounding Kya Hai – कंपाउंडिंग का तात्पर्य किसी Asset की Reinvested Earnings (आय) पर आय उत्पन्न करने की प्रक्रिया से होता है! यह पहले अर्जित ब्याज या रिटर्न के ऊपर और अतिरिक्त आय उत्पन्न करने की प्रक्रिया है!

कंपाउंडिंग समय के साथ एक initial investment के विकास की अनुमति देता है, क्योंकि इसमें रिटर्न को पुनर्निवेश यानी की Reinvest किया जाता है और बाद में खुद ब्याज अर्जित किया जाता है!

उदाहरण के लिए, यदि आप किसी ऐसे बैंक खाते में 1000 रुपये का निवेश करते हैं जो आपको सालाना 5% ब्याज का भुगतान करता है, तो पहले वर्ष के बाद, आपने ब्याज में 50 रुपये अर्जित किए होंगे! 

यदि उस ब्याज को फिर मूल निवेश में जोड़ दिया जाता है और चक्रवृद्धि ब्याज पर छोड़ दिया जाता है, तो अगले वर्ष आप न केवल मूल 1000 रुपये पर ब्याज अर्जित करेंगे, बल्कि पिछले वर्ष अर्जित ब्याज में 50 रुपये पर भी ब्याज अर्जित करेंगे!

सबसे मजेदार बात यह है की, समय के साथ-साथ, कंपाउंडिंग एक निवेश को exponential rate से बढ़ने का कारण बन सकता है!

कंपाउंडिंग को विभिन्न प्रकार के investment vehicles पर लागू किया जा सकता है, जिसमें बचत खाते, जमा प्रमाणपत्र (सीडी), बॉन्ड और स्टॉक इत्यादि शामिल होते हैं!

ध्यान रहें की, कंपाउंडिंग की शक्ति कई कारकों से प्रभावित होती है, जिसमें ब्याज दर, कंपाउंडिंग की आवृत्ति और कंपाउंडिंग के लिए निवेश की अवधि शामिल होती है!

ग्रो एप से Stock market, Mutual Fund में निवेश कैसे करें?

कंपाउंडिंग कैसे होती है? | How Compounding Works

कंपाउंडिंग आमतौर पर नियमित आधार पर होती है, जैसे दैनिक, मासिक या फिर वार्षिक! चक्रवृद्धि की आवृत्ति समय के साथ किसी निवेश की वृद्धि पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है! और जितनी बार कंपाउंडिंग होगी, आपका निवेश उतनी ही तेजी से बढ़ेगा!

कंपाउंडिंग कैसे काम करती है चलिए इसे साधाहरण से एक उदाहरण से समझते हैं!

compound meaning in Hindi
compound meaning in Hindi

मान लीजिये कि, आप बचत खाते में 1000 रुपये का निवेश करते हैं जो आपको सालाना 5% वार्षिक ब्याज और चक्रवृद्धि का भुगतान करता है!

पहले वर्ष में, आप ब्याज में 50 (1000 x 0.05 = 50) रुपये अर्जित करेंगे!

दूसरे वर्ष में, आप न केवल मूल 1000 रुपये पर ब्याज अर्जित करेंगे, बल्कि पिछले वर्ष अर्जित ब्याज में 50 रुपये पर भी ब्याज अर्जित करेंगे! अर्थात आपका अर्जित कुल ब्याज 52.50 (1050 x 0.05 = 52.50) होगा!

तीसरे वर्ष तक, अर्जित ब्याज 55.63 (1102.50 x 0.05 = 55.63) रुपये होगा!

और जैसा कि आप देख सकते हैं, प्रत्येक वर्ष निवेश पर अर्जित ब्याज बढ़ता है, जिसके परिणामस्वरूप समय के साथ साथ निवेश में तेजी से वृद्धि भी होती है!

यह ध्यान देने वाली बात है कि, चक्रवृद्धि के विभिन्न प्रकार होते हैं, जैसे की साधारण ब्याज और चक्रवृद्धि ब्याज! चक्रवृद्धि ब्याज मूल राशि और किसी भी संचित ब्याज पर ब्याज होता है! जबकि साधारण ब्याज वह ब्याज होता है जो केवल मूल मूलधन पर दिया जाता है!

कंपाउंडिंग इंटरेस्ट कैलकुलेटर | Compounding Interest Calculator

“Compounding Interest Calculator” एक ऑनलाइन उपकरण होता है जो निवेश को समय के साथ बढ़ाने की कुल योगदान को निर्धारित करता है! यह Calculator आपको बताता है कि आपके निवेश को कितनी समय में कितनी बार बढ़ाया जाएगा और कितनी कुल राशि का योगदान किया जाएगा!

कंपाउंडिंग इंटरेस्ट कैलकुलेटर से कंपाउंडिंग इंटरेस्ट कैलकुलेट करने के लिए आपको निम्न जानकारी की आवश्यकता होती है:

  • निवेश की शुरुआती राशि
  • ब्याज दर (वार्षिक)
  • निवेश की समय की अवधि
  • कंपाउंडिंग की अवधि (साल में)

यह सभी जानकारी सबमिट करने के बाद, कैलकुलेटर आपको कंपाउंडिंग के द्वारा कितनी योगदान की जाएगी, कितनी बार बढ़ाई जाएगी, और कितनी राशि कुल योगदान की जाएगी बताता हैं!

इंस्टेंट लोन देने वाला ऐप की सूचि 2023

कंपाउंड इंटरेस्ट का सूत्र क्या है? | What is Compound Interest Formula in Hindi

सम्पत्ति की सम्पूर्ण ब्याज के सूत्र (Compound Interest Formula) को हिंदी में सम्पत्ति की सम्पूर्ण ब्याज के सूत्र कहते हैं।

कंपाउंड इंटरेस्ट का सूत्र (Compound Interest Formula in Hindi):

A = P(1 + r/n)^(nt)

जहां:
A = निवेश / ऋण के भविष्य के मूल्य, ब्याज सहित
P = प्रधान निवेश राशि (प्रारंभिक जमा या ऋण राशि)
r = वार्षिक ब्याज दर (दशमलव)
n = ब्याज को कितनी बार संयोजित किया जाता है साल में
t = पैसे निवेश या ऋण के लिए की गई सालों की संख्या.

पावर ऑफ़ कम्पाउंडिंग क्या है? | What is Power Of Compounding in Hindi

“Power of Compounding” को हिंदी में “कंपाउंडिंग की शक्ति” कहते हैं और यह समय के साथ साथ एक exponential rate से बढ़ने के लिए एक निवेश की क्षमता को संदर्भित करता है! क्योंकि इसमें Investment पर मिलने वाले रिटर्न को दुबारा Reinvest किया जाता है! और बाद में स्वयं ब्याज अर्जित करता है!

जैसे ही इसमें पहले इन्वेस्टमेंट में ब्याज जोड़ा जाता है, और फिर निवेश की गई कुल राशि बड़ी हो जाती है, और उस बड़ी राशि पर मिलने वाला ब्याज और भी अधिक हो जाता है! यह प्रक्रिया समय के साथ चलते रहती है, जिसके परिणामस्वरूप निवेश तेजी से तेज दर से बढ़ते जाता है!

आपको बता दें की, "Power of Compounding" कई कारकों से निर्भर करती है, जिसमें मुख्यतः ब्याज दर, कंपाउंडिंग की आवृत्ति और कंपाउंडिंग के लिए निवेश की अवधि शामिल होती है!

ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा ऐप कौन सा है?
अपस्टॉक में Demat & Trading Account कैसे खोले?
ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे की जाती है? Call और Put क्या होता है? 

Compounding में ब्याज दर जितनी अधिक होगी, उतनी ही बार-बार चक्रवृद्धि होगा, और निवेश को चक्रवृद्धि के लिए जितना अधिक समय तक छोड़ा जाएगा, चक्रवृद्धि की शक्ति उतनी ही अधिक होगी! और इसमें लंबी अवधि में निवेश में महत्वपूर्ण वृद्धि हो सकती है!

एक investment जो 25 वर्षों के लिए 6% ब्याज दर पर वार्षिक रूप से compound होता है, वह उस निवेश की राशि के दोगुने से अधिक हो जाएगा जो केवल 10 वर्षों के लिए 6% ब्याज दर पर वार्षिक रूप से compound होता है! और यह हमें  चक्रवृद्धि की शक्ति अर्थात “Power of Compounding” को दर्शाता है!

संक्षेप में, “Power of Compounding” (कंपाउंडिंग की शक्ति) एक अलग तरह के Investment (निवेश) की क्षमता होती है जो न केवल प्रारंभिक मूलधन पर बल्कि संचित ब्याज या समय के साथ रिटर्न पर भी रिटर्न देता हैं!

अन्य मजेदार लेख:

बैंक चेक क्या है?
डोर स्टेप बैंकिंग सेवा क्या है?
कोर्ट से बैंक लोन सेटलमेंट कैसे करें?
Canara Bank एटीएम पिन कैसे बनायें
5 मिनट में Navi App पर Loan कैसे ले?
SBI Bank में Current Account कैसे खुलवाएं?
Bank Overdraft क्या है? ओवरड्राफ्ट कैसे मिलता है?
एजुकेशन लोन क्या है? एजुकेशन लोन के लिए आवेदन कैसे करें?

निष्कर्ष | Compound Meaning in Hindi

तो आज के इस लेख में हमने कंपाउंडिंग क्या है? कंपाउंडिंग इंटरेस्ट क्या होता है? Compound Meaning in Hindi और कंपाउंड इंटरेस्ट कैसे कैलकुलेट करते हैं? या फिर आखिर कंपाउंडिंग इंटरेस्ट का मतलब क्या होता है?के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्राप्त की!

और हमें उम्मीद है की आपको हमारा आज का यह लेख पसंद आया होगा! इस लेख से यदि आपको कुछ सिखने को मिला हो तो इसे जरूर लाइक करने और अपने दोस्तों तथा परिवार वालो के साथ जरूर शेयर करें!

इसके साथ ही यदि आपके पास इस लेख से संबधित कोई सवाल या फिर सुझाव हो तो हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताये!

इस लेख को पूरा पढ़ने के लिए दिल से शुक्रिया!

2 thoughts on “Compound Meaning in Hindi – कंपाउंडिंग क्या है? कंपाउंड इंटरेस्ट कैसे कैलकुलेट करते हैं?”

  1. अगर मैं वर्डप्रेस पर फ्री ब्लॉग बनाता हूँ और तो क्या मुझे एडसेन्स मिलेगा |और ककया मै अपने इस ब्लॉग को आगे चलकर होस्टिंग और डोमेन से भी जोड़ सकता हूँ अगर ऐसा करता हूँ तो क्या मेरे विस्तार चले जायेंगे या रहेंगे | pleae reply sir

    Reply
    • जी आप WordPress मे भी अपना फ्री ब्लॉग बना सकते है और आपको adsense भी मिलेगा! 1). आप डोमैन अभी भी अपने worpdress फ्री ब्लॉग के आगे लगा सकते है! यानी की आपके डोमैन Name पर आने वाला ट्रेफिक आपके wordress के फ्री ब्लॉग पर ही जाएगा। 2). आप फ्री ब्लॉग को कभी भी अपनी होस्टिंग मे ट्रान्सफर कर सकते है और इससे आपके visitors मे कोई दिक्कत नही आएगी! this is just migration of your free wordpress ब्लॉग hosting to your न्यू own hosting.

      थैंक्स हमारे ब्लॉग को रीड करने और कमेंट करने के लिए।

      Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!