नमस्कार दोस्तों, पिछले ब्लॉग में हमने शेयर मार्किट क्या होता है? के बारे में जाना था और आज के इस आर्टिकल में हम शेयर बाजार में कैसे निवेश करें? (Share Market Me Invest Kaise Kare) के बारे में विस्तार से जानने वाले है!

शेयर बाजार में हर कोई अपना पैसा निवेश कर सकता है! लेकिन स्टॉक मार्किट में एक सफल निवेशक बनने और पैसा कमाने के लिए शेयर बाजार की जानकारी होना बहुत ज्यादा जरुरी है!

अक्सर लोग शेयर बाजार में निवेश करने के लिए दुसरो से राय लेना पसंद करते है जिस कारण अधिकतर लोग शेयर बाजार में अपने पैसे गवा देते है!

यदि आप एक सफल निवेशक बनकर शेयर मार्केट से लाखो पैसे कामना चाहते है तो सबसे पहले आपको शेयर बाजार के बारे में सीखना आवश्यक है! आपको बता दे शेयर बाजार में निवेश करने के लिए किसी भी प्रकार की कोई डिग्री की जरुरत नहीं होती है!

तो चलिये बिना समय व्यतीत किये आगे बढ़ते है और शेयर बाजार में कैसे निवेश करें? (Share Market Me Invest Kaise Kare) के बारे जानते है!

Share Market mai niwesh kase kare

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें (Share Market Me Invest Kaise Kare)

शेयर बाजार में निवेश केवल किसी ब्रोकर के माध्यम से ही किया जा सकता है! यानी की आप डिरेक्टली शेयर बाजार से किसी शेयर को खरीद या बेच नहीं सकते है! वर्तमान में बहुत सारे ब्रोकर मौजूद है इसलिए यदि आप शेयर बाजार में निवेश करने की सोच रहे है तो सबसे पहले आपको किसी ब्रोकिंग फर्म से सम्पर्क करना होता है!

आज के समय में शेयर बाजार में निवेश करना बहुत ज्यादा आसान हो गया है! आजकल लगभग सभी ब्रोकिंग फर्म्स के अपने मोबाइल एप्लीकेशन और वेबसाइट उपलब्ध है!

आप अपने मोबाइल फ़ोन में अपने पसंदीदा ब्रोकिंग फर्म का एप्लीकेशन डाउनलोड करके शेयर बाजार निवेश करना शुरू कर सकते है!

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए क्या चाहिये?

स्टॉक मार्केट यानी की शेयर बाजार में निवेश करने के लिए आपको केवल एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरुरत होती है! आपको बता दे ट्रेडिंग अकाउंट से आप ट्रेडिंग करते है मतलब की शेयर को खरीदते और बेचते है और डीमैट अकाउंट में आपके द्वारा ख़रीदे गए शेयर्स को रखा जाता है!

डीमैट अकाउंट (Demat Account)

Demat Account Kya Hai: डीमैट अकाउंट का फुल फॉर्म De-materialized अकाउंट होता है! शेयर बाजार में आपके द्वारा ख़रीदे गए शेयर को डीमैट अकाउंट में इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखा जाता है! डीमैट अकाउंट से पहले हर एक शेयर फिजिकल रूप में रखे जाते थे यानी की हर एक शेयर के पेपर होते थे!

D-mat Account में शेयर के साथ साथ म्यूचुयल फंड, बांड, और सरकारी सिक्युरिटीज भी रखी जा सकती है! डीमैट अकाउंट में SEBI के दिशा निर्देश पर ही शेयर को खरीदा और बेचा जा सकता है! 

डीमैट अकाउंट एक तरह का भंडार होता है जहाँ आप अपने स्टॉक को De-materialized रूप में रखते हैं!

ट्रेडिंग अकॉउंट (Trading Account)

Trading Account Kya Hai: किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने के लिए, ट्रेडिंग अकॉउंट की आवश्यकता होती है यानी की आप ट्रेडिंग अकाउंट से शेयर बाजार में ट्रेडिंग करते है! जिस भी ब्रोकिंग फर्म में आप अपना ट्रेडिंग अकाउंट खोलते है उस ब्रोकिंग फर्म द्वारा आपको एक यूजर आईडी और पासवर्ड दिया जाता है! 

इसके बाद आप ब्रोकर के सॉफ्टवेयर सिस्टम मतलब की उसके वेबसाइट या मोबाइल एप्लीकेशन से लॉगिन करके शेयर बाजार में शेयर खरीद और बेच सकते है! 

ट्रेडिंग खाता डीमैट खाते में मध्यस्था का काम करता है! जैसे की मान लीजिये आप 10 शेयर खरीदना चाहते हैं तो पहले आपको अपने सेविंग अकाउंट से पैसा ट्रेडिंग खाते में ट्रांसफर करना होता है! इसे ट्रेडिंग ट्रेडिंग अकाउंट में फंड ऐड करना कहा जाता है! और उसके बाद आप उस पैसे से शेयर की ट्रेडिंग कर सकते है!

किसी भी कंपनी को अपना व्यवसाय बढ़ाने के लिए वित्तीय मदद की जरूरत होती है! कंपनी को मदद लोगों से चाहिये होती है! कंपनी को जितने धन की मदद चाहिए होती है! कम्पनी द्वारा उतने राशि के शेयर जारी किये जाते है!

इसके बाद लोगों के शेयर खरीदने पर कंपनी पर शेयर होल्डर का अधिकार भी उतना प्रतिशत हो जाता है! जितना की उनके द्वारा कम्पनी के शेयर खरीदे गए हैं!

कंपनी के पास पैसा लेने के दो तरीके होते हैं! पहला Angel investors और दूसरा Venture investors शेयर खरीदने के बाद आपको कुछ अधिकार मिल जाते हैं, जैसे लाभ प्राप्त करने का जिसे अंश स्वामित्व का अधिकार कहा जाता है!

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए जरुरी दस्तावेज़ क्या है?

पैन कार्ड (PAN Card)

जैसा की आप जानते होंगे, निवेश करना हो या कोई भी वित्तीय लेनदेन कार्य, पैन कार्ड का होना बहुत जरुरी है! PAN Card इसका पूरा नाम होता है Permanent Account Number (परमानेंट अकॉउंट नंबर) होता है!

Stack Market में निवेश करने के लिए पेन कार्ड की आवश्यकता होती है! यह भारतीय आयकर विभाग द्वारा जारी किया जाता है! यह 10 नंबर का होता है। इसके लिए आप Online भी Apply कर सकते है!

केवाईसी (KYC Documents)

KYC वित्तीय क्षेत्र में प्रयोग होने वाली टर्म है! इसका प्रयोग वित्तीय संस्था ग्राहक उसके पते की पहचान और सत्यापित कर पाते है! केवाईसी (KYC) का Full Form Know Your Customer (नो यूअर कस्टमर) होता है। यह एक निश्चित अंतराल पर भी होता है।

कई बैंक या वित्तीय संस्था इसे हर साल में एक बार करती है! इसमें ग्राहक या खाताधारक का पहचान पात्र आधार कार्ड पेन कार्ड माँगा जाता है! इन डॉक्युमेंट्स के नंबर्स अपडेट किये जाते है!

शेयर बाजार में ब्रोकर का चयन कैसे करें?

शेयर बाजार में बिना ब्रोकर के किसी भी स्टॉक एक्सचैंज से आप निवेश नहीं कर सकते है! NSE और BSE(Bombay Stock Exchange) के शेयर में निवेश के लिए आपको किसी एक अच्चे ब्रोकर की जरूरत होगी!

यह एक एजेंसी की तरह होती है, जैसे एंजल ब्रोकिंग, शेरखान, आईसीआई या इण्डिया बुल्स इत्यादि! यहां पर आप ब्रोकर का चयन तभी कर पाएंगे जब आपको ब्रोकरेज फार्म की जानकारी होगी!

ब्रोकिंग फर्म क्या होते है (Broking firm Kya Hote hai)

किसी भी शेयर को खरीदने या बेचने का Platform Broking Firm (ब्रोकिंग फर्म) ही दिलाते हैं। बाजार में अलग अलग तरह के ब्रोकरेज फर्म हैं! प्रत्येक फर्म के अलग अलग नियम होते हैं। इन्हीं नियमों के अनुसार अलग तरह के शुल्क भी लिए जाते हैं। जो आमतौर पर 0.1 से 0.5 प्रतिशत तक होते हैं!

Broker Farm मुख्यतः दो तरह के होते हैं। पहला Full Time Broker जो टेलीफोनिक सर्विस के साथ अन्य सुविधा भी उपलब्ध कराते हैं! आपको शेयर बाजार की हर जानकारी देते हैं। ये 0.1 से 0.10 प्रतिशत तक चार्ज लेते हैं!

दूसरा Discounting Service Broker जिसमे ब्रोकर सिर्फ ट्रेडिंग का ही काम करते हैं। और इसके अलावा वे आपको किसी भी तरह की कोई भी अन्य जानकारी नहीं देते हैं! कुछ ब्रोकर फ्लैट रेट पर भी काम करते हैं। ब्रोकर्स को बुद्धिमानी और देख परख कर ही चुनना चाहिए।

निवेश करने दो प्रमुख तरीके (Investment ka Tarika in Hindi)

शेयर खरीदने के दो मुख्य बिंदु हैं!

  1. Intraday Trading
  2. Delivery Base Trading

Intraday Trading

Investment करने का पहला तरीका Intraday Trading होता है जिसमें एक दिन में ही शेयर खरीदे जाते हैं! और आपको उसी दिन ये शेयर बेचने होते है यदि आप नहीं बेच पाते हो तो मार्किट के बंद होते समय के रेट में यह अपने आप बेच दिये जाते है!

Delivery BaseTrading

Investment करने का दूसरा तरीका Delivery Base Trading होता है इसमें आप शेयर खरीदने के बाद उनको लम्बे समय के लिए होल्ड कर सकते है! खरीदने के बाद आप इन शेयर को कई महीनो या सालो के बाद भी बेच सकते हैं!

👉 Limit Order

शेयर खरीदते समय आप शेयर का रेट तय कर सकते हैं! आपको अपने शेयर का रेट तय करने के बाद लिमिट ऑर्डर कर सकते हैं! जब भी आपके रेट पर शेयर का रेट आता तो शेयर आपकी तरफ से Buy हो जायेगा! Limit Order एक सशर्त ऑर्डर है, जो निश्चित कीमत या विशिष्ट मूल्य पर खरीदने के निर्देश दिए जाते हैं!

उदाहरण के लिए

एक व्यापारी एक कंपनी के 100 शेयर 150 रूपये की दर से खरीदना चाहता है! वह खरीदने का ऑर्डर 150 में लगायेगा। ऑर्डर तभी निष्पादित होगा जब शेयर का दाम 150 या इससे कम दर पर आयेगा!

👉 Market Order

यह एक तरह का बाजारी ऑर्डर होता है! जिसमे उपलब्ध मूल्य या ब्रोकर, स्टॉक मार्केट के वर्तमान मूल्य पर ही खरीदने, बेचने के निर्देश दिए जाते हैं। इसमें मार्केट समय पर कोई प्रतिबंध नहीं होता है।

इसमें ज्यादा विश्लेषण की आवश्यक्ता नहीं होती है। Market Order को साफ्टवेयर में एक बटन द्वारा संचालित किया जाता है हालांकि कोई मोल भाव का महत्व नहीं होता!

उदाहरण के लिए

जब ब्रोकर को कंपनी के 100 शेयर खरीदने के निर्देश दिए जाते हैं! ऑर्डर को बाजार मूल्य के आधार पर ही लिया जायेगा। ब्रोकर को शेयर मार्केट रेट पर ही खरीदने होंगे।

शेयर खरीदना और बेचना (Share Buy and Sale in Hindi)

शेयर बेचना और खरीदना यह प्रणाली सबसे अलग है। आपके मन में कई तरह के सवाल उठते होंगे। किस तरह खरीदें या बेचे! अगर आप ब्रोकर का चयन करते है! तो आप उनसे मिलते रहें! उनसे स्टॉक मार्किट की जानकारी लेते रहे। आजकल मोबाईल में जानकारियां पाना और भी आसान हो चुका है!

जो शेयर आप बेचें वह डीमैट खाते में होना जरूरी है! आपके बेचने पर डीमैट खाते से शेयर की संख्या कम हो जायेगी! तीसरे दिन बेचे गये शेयर का मूल्य ब्रोकरेज दर घटाकर, आपके खाते में आ जायेगी।

दोस्तों शेयर खरीदते वक्त भी दो बातों का ध्यान रखना चाहिए Limited Rate और Market Rate! इस ब्लॉग के माध्यम से Limit Order और Market Order में यह बताया गया है! आम तौर और इन शेयरों में रिस्क कम होता है। अनुभव होने पर इन रेट पर आप शेयर खरीद सकते हैं!

शेयर मार्केट मे इन्वेस्टिंग प्लेटफॉर्म क्या हैं? 

आज के समय में शेयर मार्केट में निवेश करना बहतु आसान हो चुका है! बाजार में बहुत सारे ऐसे मोबाइल ऐप आ चुके हैं जिसमें आप बड़ी आसानी से डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट ओपन कर सकते हैं और निवेश शुरू कर सकते हैं! आप आगे इन मोबाईल एप्प का नाम जान सकते हैं! 

  • Upstox 
  • 5 Paisa 
  • Groww Mobile App 
  • Zerodha 
  • IIFL Markets 
  • Kotak Stock Trader App 
  • Share Khan Trading App 
  • Motilal Oswal Mobile Treading App 

शेयर बाजार में निवेश करते वक्त ध्यान रखने वाली बातें 

शेयर बाजार जोखिमों के अधीन होता है इसलिए आपको शेयर बाजार में निवेश करते समय निम्लिखित बातो का ध्यान रखना बहुत आवश्यक होता है! 

👉 शेयर बाजार में निवेश करने के लिए स्टॉक ब्रोकर द्वारा अलग अलग चार्जेज लगाये जाते है! इसलिए Stock Market में Charges के बारे में पूरी जानकारी जरूर ले!

👉 आप Share Market में होने वाले Risk यानी की जोखिमों के बारे में भलि भाँति जानते होंगे! इसलिए किसी भी शेयर को सोच समझ कर और कम्पनी के पिछले रिकॉर्ड, वर्तमान और भविष्य को जानकर की निवेश करे!

👉 किसी भी स्टॉक को खरीदने के लिए दुसरो की टिप और सुझाव से ज्यादा खुद के दिमाग का उपयोग करें!

इन्हें भी पढ़ें 

> किसान क्रेडिट कार्ड क्या है? ऑनलाइन कैसे आवेदन करें।

> स्टॉक ब्रोकर क्या होता है? स्टॉक ब्रोकर का क्या काम होता है

> इंडेक्स फंड क्या है इंडेक्स फंड में निवेश कैसे करें! 

> डीमैट अकॉउंट क्या है डीमेट अकॉउंट क्या काम करता है! 

Conclusion [ निष्कर्ष ]

इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से हमने Share Market में निवेश कैसे करें? (Share Market Me Invest Kaise Kare) जाना! एक निवेशक को शेयर बाजार से संबंधित जानकारिया जैसे – शेयर बाजार में स्टॉक ब्रोकर क्या होते हैं? और Stock Market चार्जेज क्या होते हैं? जानना बहुत आवश्यक होता है!

आज के इस Blog से संबधित कोई विचार और सुझाव हो तो कृपया निचे कमेंट करके जरूर अवगत कराये! और यदि पोस्ट अच्छी लगे तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों में अवश्य शेयर कीजिये!

- Advertisement -

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here