5/5 - (2 votes)

5G Technology in Hindi – नमस्कार दोस्तों, प्रधानमंत्री मोदी जी ने 1 अक्टूबर को 5जी लॉंच कर दिया है! लेकिन क्या आपको पता है आखिर ये 5जी तकनीक क्या है? कैसे काम करती है? 4G के मुक़ाबले 5G की Speed कितनी है? या फिर अब क्या 5G इंटरनेट यूज करने के लिए नई सिम लेनी होगी? और 5G इंटरनेट रिचार्ज कितने रुपये का होगा?

यदि आप भी इन सभी सवालो के जवाब खोज रहे है तो आप बिलकुल सही जगह पर पहुंचे है! इसलिए हम आपसे निवेदन करते है की इस लेख मे हमारे साथ अंत तक जरूर बने रहे!

यह तो हम सभी जानते है की आने वाला समय 5G का है! यानी की इंटरनेट की पांचवीं पीड़ी शुरू हो चुकी है! और यह अभी तक चल रहे इंटरनेट स्पीड से कई गुना ज्यादा स्पीड वाली इंटरनेट जेनेरेशन है!

यह नई तकनीक आपके इंटरनेट को इस्तेमाल करने के Experience से लेकर रोज़मर्रा के कामकाज को पूरा करने के तरीके को पूरा बदल कर रख देगी! और इस 5G इंटरनेट से आपकी जिंदगी बहुत आसान होने के साथ साथ, यह आपके लाइफ मे बहुत बदलाव कर सकती है!

वैसे Internet की इस पाँचवी जेनेरेशन यानी की 2G, 3G और 4G के बाद 5जी को लेकर पिछले करीब 2 सालों से चर्चा हो रही है और अब तक चीन, जापान, अमेरिका और दक्षिण कोरिया जैसे- देशों ने इसे इस्तेमाल करना शुरू भी कर दिया है!

तो चलिये बिना किसी देरी के आगे बढ़ते है और 5जी से जुड़े सवाल जैसे की 5जी तकनीक क्या है? कैसे काम करती है? (5G Technology in Hindi) 4G के मुक़ाबले 5G की Speed कितनी है? या फिर अब क्या 5G इंटरनेट यूज करने के लिए नई सिम लेनी होगी? और 5G इंटरनेट रिचार्ज कितने रुपये का होगा? के बारे मे विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त करते है!

5g technology in Hindi

विषय - सूची

5G तकनीक क्या है? 5G Technology in Hindi

2G, 3G और 4G के बाद 5जी टेक्नालजी Internet की 5th जेनेरेशन यानी की पाँचवी पीड़ी है, जो कि एक वायरलेस ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवा है! यह तरंगों के जरिए ज्यादा से ज्यादा से स्पीड की इंटरनेट सेवा उप्लब्ध कराती है!

इसमें मुख्य रूप से तीन तरह के फ्रीक्वेंसी बैंड का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमे से पहले पहले बैंड को low frequency band, दूसरे बैंड को mid frequency band और तीसरे बैंड को high frequency band कहते हैं!

Low frequency band में, 600 मेगाहर्ट्ज से 2300 मेगाहर्ट्ज की फ्रीक्वेंसी होती है, जिसके जरिए आप अभी तक 4G इंटरनेट का आनंद लेते आए हैं!

लेकिन Mid frequency band में 3300 मेगाहर्ट्ज से ऊपर की की फ्रीक्वेंसी होगी, जिसके इस्तेमाल से 4G Internet की तुलना में, अब 5G की स्पीड बढ़ जाएगी!

वहीं, बात अगर high frequency band की करें, तो इसमें आपको 26 गीगाहर्ट्ज तक की फ्रीक्वेंसी देखने को मिलेगी, जिससे 5G internet की स्पीड, हमारे कल्पना से भी बहुत ज्यादा बढ़ जायेगी!

5g advantages and disadvantages

वर्तमान समय में, 5G तकनीक के बारे में सरकार का कहना है कि यह 4G से 10 गुना ज्यादा तेज है, और यह मात्र 5 से 10 सेकंड में 3 घंटे की मूवी को डाउनलोड कर सकेगी!

अब आपको आगे बढ़कर, 5G Technology कैसे काम करता है जानने से पहले, आपको 5G स्पेक्ट्रम बैंड और Network Latency के बारे में जानना होगा, तभी आप 5G Technology के working process को अच्छे से समझ पायेंगे!

5G स्पेक्ट्रम बैंड क्या है?

5th Generation नेटवर्क को काम करने के लिए अलग अलग फ्रीक्वेंसी के bands की जरूरत पड़ती है, जिसे बोलचाल की भाषा में 5G स्पेक्ट्रम बैंड कहते हैं!

उदाहरण के लिए, 5G नेटवर्क कभी भी 3400 मेगाहर्ट्ज से नीचे की फ्रीक्वेंसी वाले बैंड पर काम नहीं कर सकता है! 5G नेटवर्क को काम करने के लिए कम से कम 3400 मेगाहर्ट्ज, 3500 मेगाहर्ट्ज, और 3600 मेगाहर्ट्ज के मीडियम फ्रीक्वेंसी बैंड्स की जरूरत पड़ेगी!

ये फ्रीक्वेंसी बैंड्स, भारत सरकार के अंतर्गत आती हैं, इसलिए बड़ी बड़ी कंपनियां जैसे, jio, Airtel और VI इसे, सरकार से किराए (लीज) पर लेती हैं!

Network Latency क्या है?

अपने मोबाइल फोन या लैपटॉप में इन्टरनेट On करने के बाद, आपने ये चीज जरूर नोटिस की होगी कि, इंटरनेट को आपके फोन या लैपटॉप से कनेक्ट होने मे कुछ सेकंड्स का समय लग जाता है! इंटरनेट के आपके डिवाइस से कनेक्ट होने में लगने वाले इस देरी को ही Network Latency कहा जाता है!

5g in hindi

4G network में NETWORK LATENCY 40 मिली सेकंड होती है, जबकि 5G network में यह चीज घटकर मात्र 1 मिली सेकंड हो जायेगी!

यानी 5G network में इंटरनेट ऑन करने पर मात्र 1 मिली सेकंड के भीतर इंटरनेट आपके फोन से जुड़ जायेगा!

network latency 5g in Hindi

5G Technology कैसे काम करता है?

दोस्तों, अभी तक हम 4G नेटवर्क में Wireless Networks का इस्तेमाल करते आए हैं, जिसमें mainly Cell Sites होते हैं, जिन्हें कई सेक्टर में बांट दिया जाता है, और फिर radio waves के जरिए data को एक जगह से दूसरे जगह भेजा जाता है! 4G नेटवर्क में सिर्फ कनेक्टिविटी पर फोकस किया जाता है!

लेकिन 5G नेटवर्क अब कनेक्टिविटी के साथ साथ OFDM प्रोसेस पर भी काम करता है! जिसका मतलब यह हुआ कि अब, यह एक Single डिजिटल सिग्नल को अलग अलग चैनल्स में ररेगुलेट करता है, जिसके कारण, signal में कम से कम रुकावट आती है!

एक तरफ 4G नेटवर्क में जहां Signals को प्रसारित करने के लिए लंबी दूरी वाले High- Power Cell टावर का इस्तेमाल किया जाता है! तो वहीँ 5G मे अब  Signals को प्रसारित करने के लिए बहुत सारे छोटे Cell Stations का इस्तेमाल किया जाने लगा है, जिन्हें बड़ी आसानी से बिजली के खंभों और बिल्डिंग की छतों पर लगा दिया गया है!

मशीन लर्निंग क्या है? और इसके प्रकार बताइये?

इसके अलावा 5G नेटवर्क ज्यादा बैंडविथ वाले टेक्नोलॉजी जैसे MMWave और Sub-6 गीगाहर्ट्ज बैंड्स का भी इस्तेमाल कर रहा है, जो 5G की स्पीड को बढ़ाने में अहम भूमिका निभा रहे हैं!

5जी टेक्नालजी के फायदे और नुकसान क्या है? 5G Advantages and Disadvantages in Hindi

इंडिया में 5G तकनीक के आने से, जहां हाई स्पीड इंटरनेट और low latency जैसे बहुत से फायदे हैं, तो वहीं high radiation जैसे इसके कुछ नुकसान भी हैं!

चलिए इनके बारे में बारी बारी से जानते हैं:-

5G से क्या फायदा होगा? Advenatages of 5G technology / Benefits of 5G in India

1. अत्यधिक इंटरनेट स्पीड जैसा कि आप अभी तक समझ ही गए होंगे कि 5G तकनीक का सबसे बड़ा फायदा तेज गति का इंटरनेट है! यानी अब आप मात्र कुछ सेकंड्स में ही किसी भी बड़े से बड़े फाइल को डाउनलोड और अपलोड कर सकेंगे!

2. कोई बफरिंग नहीं अब आपको ऑनलाइन विडियोज देखते वक्त कभी भी buffering या रुकावट का सामना नहीं करना पड़ेगा!

3. रुकावट मुक्त वॉइस कॉल 5G तकनीक का इस्तेमाल करते हुए, अगर इंटरनेट वॉइस कॉल या व्हाट्सएप वॉइस कॉल करेंगे, तो आपको इसमें किसी तरह की रुकावट नहीं झेलनी पड़ेगी!

4. Hd वीडियो कॉलिंग अब वीडियो कॉल करते वक्त, सामने वाले इंसान का चेहरा बिल्कुल साफ दिखाई देगा!

5. कम विलंबता 5G तकनीक के इस्तेमाल से, आप जैसे ही अपने मोबाइल या लैपटॉप में इंटरनेट ऑन करेंगे, तुरंत ही इंटरनेट आपके डिवाइस से कनेक्ट हो जायेगा!

इसे टेक्निकल भाषा में कहें तो, 5G तकनीक के आने के बाद अब आपको low latency देखने को मिलेगी!

5G से क्या क्या नुकसान है? Disadvantages of 5G technology / Disadvantages of 5G in India

1. 2जी और 3जी डिवाइस की बर्बादी ऐसे सभी डिवाइस जो अभी तक सिर्फ 2G या 3G को सपोर्ट करते हैं, 5G तकनीक के आने के बाद, वे पूरी तरह से useless हो जायेंगे!

2. बैटरी खपत अगर आप 4G फोन में 5G इंटरनेट चलाने की कोशिश करेंगे, तो ऐसे में इंटरनेट तो ठीक चलेगा, लेकिन इससे आपके फोन की बैटरी काफी जल्दी खत्म होने लगेगी!

3. कम पहुंच 5G का सबसे बड़ा Disadvantage यह है कि, ये अभी तक पूरे भारत में समान रूप से नहीं पहुंच पाई है, और इसे पूरे भारत में पहुंचने में कम से कम 2024 तक का वक्त लग जायेगा!

5G की आवश्यकता क्यों है? Why 5G in Hindi

भारत एक ऐसा देश है, जो अभी धीरे धीरे करके विकसित हो रहा है! ऐसे में भारत में, 5G नेटवर्क का लॉन्च होना, किसी क्रांति से कम नहीं है!

बेरोजगारी के इस दौर में, भारत में पूरी तरह से 5G आते ही, ना जाने कितनी ही job opportunities बढ़ जाएंगी! टैलेंटेड लोग घर बैठे ही, बड़ी बड़ी कंपनियों से ऑनलाइन जुड़ कर काम कर पाएंगे!

5G के आने के बाद, आने वाले समय में, बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास करने की सुविधाएं बढ़ जाएंगी! गांव के किसी कोने में बैठा, एक विद्यार्थी ऑनलाइन क्लास के जरिए,  विदेशी विद्यार्थियों से जुड़कर पढ़ाई कर पायेगा!

आज के समय में, जहां नॉर्वे जैसे देश में लोग 8G इस्तेमाल कर रहें हैं, वहीं भारत में अगर 5G भी आता  है, तो यह हमें कहीं ना कहीं, विश्व स्तर पर, विकास में एक कदम और आगे लेकर जाएगा!

कम्प्युटर जेनेरेशन के बारे मे पूरी जानकारी बताइये?

5G कब तक आएगा?

आज के समय में, भारत के कुल 13 शहरों में 5G पूरी तरह से लॉन्च हो चुका है! इन शहरों के नाम है, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, चंडीगढ़, जामनगर,गुरुग्राम अहमदाबाद, हैदराबाद, चेन्नई, पुणे, लखनऊ, और गांधीनगर!

लेकिन बात अगर पूरे भारत की करें, तो रिलायंस जियो के मालिक मुकेश अंबानी का कहना है कि वे jio के माध्यम से, 2023 तक पूरे भारत के कोने कोने में 5G तकनीक को पहुंचा देंगे!

लेकिन वहीं बात अगर, एयरटेल और वोडाफोन जैसी कंपनियों की करें, तो ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि 2024 के अंत तक ये सभी कंपनियां भी भारत के हर एक कोने में, अपने उपभोक्ताओं के लिए 5G तकनीक विकसित कर देंगे!

किस देश में 5g नेटवर्क है

वर्तमान समय में (2022 में), कुल 72 ऐसे देश हैं, जहां 5G नेटवर्क उपलब्ध है, लेकिन यहां गौर करने वाली बात यह है कि, इन सभी देशों के, सभी शहरों में 5G नेटवर्क उपलब्ध नहीं हैं! हमारे भारत के तरह ही, इन देशों के भी केवल कुछ खास शहरों में ही 5G नेटवर्क उपलब्ध है!

और इन 72 देशों में से भी, जिन 10 देशों के सबसे ज्यादा शहरों में 5g नेटवर्क उपलब्ध है, उनके नाम हैं :- चीन, यूनाइटेड स्टेट्स, फिलिपिंस, साउथ कोरिया, कनाडा, स्पेन, इटली, जर्मनी, यूनाइटेड किंगडम, और सऊदी अरब!

वैसे बात अगर, पूरी दुनिया में मौजूद शहरों की करें तो, आज के समय में पूरी दुनिया के कुल 1947 शहरों में 5G नेटवर्क उपलब्ध है!

भारत में 5G नेटवर्क लॉन्च तिथि – 5G service in India launch date

भारत में 5G नेटवर्क को 1 अक्टूबर 2022 को, सबसे पहले भारत के कुल 13 मुख्य शहरों में लॉन्च किया गया है!

इंडिया में 5G लॉन्च, भारत के वर्तमान प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने किया है!

5G Internet की स्पीड कितनी होगी?

जागरण में छपी अगर एक खबर की माने तो, 5G Internet की स्पीड 1000 mbps होगी, जो कि 4G Internet की स्पीड के दोगुने से भी ज्यादा है!

वैसे यहां चौकाने वाली बात यह है कि, भले ही अभी हमें अपने मोबाइल फोन्स में 4G की अधिकतम स्पीड 5 से 6 mbps मिलती है, लेकिन सरकारी कागजों में 4G की अधिकतम स्पीड 45 mbps दर्शाई गई है!

क्या इंडिया 5G ग्रुप डिस्कशन के लिए तैयार है? Is India ready for 5G Group Discussion

भले ही इंडिया में 5G को लॉन्च कर दिया गया है, लेकिन अभी भी देखा जाए तो, वर्तमान समय में भारत पूरी तरह से 5G को लेकर तैयार नहीं है!

इंडिया में अभी भी 5G को लागू करने के लिए एकीकृत ब्रॉडबैंड रणनीति का अभाव है, जिसके वजह से सभी लोगों तक  5G को पहुंचने में बहुत समय लग जायेगा!

इंडिया में अभी भी ऐसे हजारों लोग हैं, जो आज के समय में भी एक 4G स्मार्टफोन नहीं खरीद पा रहे हैं! ऐसे में, ये लोग 5G की तरफ किस तरह से बढ़ पाएंगे, इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता है!

Frequently Asked Questions about 5G in Hindi

प्रश्न: 5G का फुल फॉर्म क्या है?

उत्तर: 5G का फुल फॉर्म 5th Generation नेटवर्क है!

प्रश्न: क्या मैं 5G फोन में 4G सिम इस्तेमाल कर सकता हूं?

उत्तर: जी हां! आप बिना किसी रुकावट के 5G फोन में अपना 4G सिम इस्तेमाल कर सकते हैं!

प्रश्न: क्या 4G फोन में 5G इंटरनेट चल सकता है?

उत्तर: जी नहीं! 4G फोन में 5G इंटरनेट नहीं चल सकता है! अगर आपके पास 4जी फोन है तो उसमें 5G सिम लगाने के बाद भी आपको 4जी की ही स्पीड देखने को मिलेगी!

प्रश्न: क्या 5G इस्तेमाल करने के लिए मुझे नया सिम लेने की जरूरत पड़ेगी?

उत्तर: जी नहीं! 5G इस्तेमाल करने के लिए आपको किसी तरह का कोई भी नया सिम लेने की जरूरत पड़ेगी!

प्रश्न: क्या 5G आने के बाद 4G इंटरनेट बंद हो जायेगा?

उत्तर: बिल्कुल भी नहीं! 5G आने के बाद भी आप बड़े आराम से अपने 4G इंटरनेट को चला पाएंगे!

प्रश्न: क्या 5G इंटरनेट आने के बाद, 4G इंटरनेट की स्पीड कम हो जायेगी?

उत्तर: जी नहीं! 5G इंटरनेट आने के बाद भी, आपके 4G इंटरनेट की स्पीड उतनी ही रहेगी, जितनी की 5G इंटरनेट के आने से पहले हुआ करती थी!

प्रश्न: 5G कितना तेज है? (How fast is 5G in Hindi)

उत्तर: 5G की स्पीड, 4G से दस गुना ज्यादा तेज है! इसमें आप 2जीबी की फाइल को मात्र 10 से 25 सेकंड के भीतर डाउनलोड कर सकेंगे!

निष्कर्ष – Conclusion

आज आपने 5G के बारे में सीखा कि “5G इंटरनेट की पांचवी जेनरेशन है! यह पूरी तरह से वायरलेस है, और तरंगों के जरिए एक जगह से दूसरी जगह डाटा को पहुंचाती है!”

इसके अलावा, इस आर्टिकल में हमने 5जी तकनीक क्या है? कैसे काम करती है? (5G Technology in Hindi) 4G के मुक़ाबले 5G की Speed कितनी है? या फिर अब क्या 5G इंटरनेट यूज करने के लिए नई सिम लेनी होगी? और 5G इंटरनेट रिचार्ज कितने रुपये का होगा? के बारे मे विस्तार से बताया!

तो अगर आपको हमारे इस आर्टिकल में 5G टेक्नोलॉजी के बारे में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो, तो इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करें!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here