नमस्कार दोस्तों, क्या आपको पता है की बैंक में रिवर्स रेपो रेट और रेपो रेट क्या होता है? (Repo Rate Kya Hai) रेपो रेट का हिंदी मीनिंग क्या है (Repo Rate Meaning in Hindi) और अभी RBI का Current Repo Rate 2021 क्या है?

अक्सर आपने अख़बार और समाचार चैनलों में या फिर RBI (रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया) की Guidelines लाइन्स में Repo Rate के बारे में जरूर सुना होगा! 

जब भी आप बैंक से Loan लेते हैं तो ऋण पर लगने वाला ब्याज रेपो रेट पर ही निर्भर करता है! क्योंकि जब भी आरबीआई रेपो रेट को बढ़ाता है तो Loan पर लगने वाला Interest भी बढ़ जाता है! 

अक्सर बैंक इस बारे में कभी भी अपने ग्राहकों को नहीं बताते है! क्योंकि बैंकों को अपने ग्राहकों को दी जाने कई सुविधाओं को भी ध्यान में रखना पड़ता है! इसके लिए आरबीआई गवर्नर और सरकार के कुछ प्रतिनिधि मिलकर मौद्रिक नीतियों की समीक्षा करते हैं! 

RBI (Reserve Bank of India) हर दो महीने में अपनी मौद्रिक नीतियों को प्रसारित करता है! इन मौद्रिक नीतियों में Repo Rate, Reverse Repo Rate और Bank Rate शामिल है! अगर आप भी रेपो रेट के बारे में जानना चाहते हैं तो आज आप बिलकुल सही पोस्ट पढ़ रहे हैं! 

तो चलिए आगे बढ़ते हैं और आज के इस आर्टिकल में हम बैंक में रिवर्स रेपो रेट और रेपो रेट क्या होता है? (Repo Rate Kya Hai) रेपो रेट का हिंदी मीनिंग क्या है? (Repo Rate Meaning in Hindi)

इसके साथ ही अभी RBI का Current Repo Rate 2021 क्या है? रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट क्यों उपयोगी है? इसके बारे में विस्तार से जानते हैं!

Repo rate Kya Hai

रेपो रेट का फुल फॉर्म – Full Form of Repo Rate 

Repo Rate Full Form: रेपो रेट का फुल फॉर्म Repurchase Rate Repurchase Agreement Rate होता है! Repo Rate का Hindi Meaning पुनर्खरीद दर पुनर्खरीद समझौता दर होता है! रेपो रेट आरबीआई द्वारा तय की जाती है! 

बैंक में रेपो रेट क्या होता है – Repo Rate Kya Hai

Repo Rate Kya Hai: किसी भी बैंक को आरबीआई द्वारा दिए जाने वाले ऋण में लगने वाला ब्याज रेपो रेट कहलाता है! जब भी BRI रेपो रेट में बढ़ोतरी करता है तो बैंक भी लोन दर को बढ़ा देते हैं! और जब RBI रेपो रेट की दर कम कर देता है तो बैंक से ऋण लेना भी सस्ता हो जाता है! 

अक्सर जब भी हमें घर बनाने, गाड़ी खरीदने या फिर किसी भी अन्य कामों के लिए अधिक रुपयों की जरूरत होती है! तो हम बैंक से होम लोन, पर्सनल लोन या फिर किसी न किसी प्रकार से ऋण लेने के बारे में सोचते हैं!

तो क्या आपने कभी सोचा कि बैंक के पास इतना पैसा कहाँ से आता है? और बैंक हमसे ब्याज क्यों लेता है! दरअसल बैंक को पब्लिक को ऋण देने के लिए पैसा आरबीआई देती है!

आरबीआई को 1935 में एक निजी संगठन के रूप में गठित किया गया! RBI वह कार्यालय है जहाँ पर सभी बैंकों को चलाने के लिए नीतियां बनायीं और निर्धारित की जाती है!

जब भी बैंक RBI से अपने रोजमर्रा के कामों के लिए या फिर पब्लिक को ऋण देने के लिए पैसे कर्ज लेती है! तो आरबीआई बैंकों से उस Loan पर तय Repo Rate के हिसाब से Interest लेती है! 

उसके बाद बैंक आरबीआई को दिए गए रेपो रेट पर कुछ प्रतिशत दर बढ़ाकर पब्लिक को ऋण देती है! 

भारत की वर्तमान में रेपो दर क्या है – Repo Rate in India 2021

Current Repo Rate in India: आज के समय में भारत में Repo Rate दर 4 प्रतिशत है! आरबीआई ने बहुत लम्बे समय से इसमें कोई बदलाव नहीं किया है!

कोरोना महामारी की वजह से Inflation Rate में बढ़ोतरी हुई जिससे बैंकों को लोगों को अधिक कर्ज देना पड़ा! ऐसे में भी आरबीआई द्वारा रेपो रेट में कोई भी बदलाव नहीं किया गया! 

रिवर्स रेपो रेट क्या है – Revers Repo Rate Kya Hai

Revers Repo Rate Kya Hai: रिवर्स रेपो रेट वह ब्याज दर होती है जिसे आरबीआई बैंकों को RBI में जमा किये गए रकम पर देती है! भारत में वर्तमान रिवर्स रेपो रेट 3.5 % है!

दिनभर के काम काज के बाद बैंक के पास जो रकम बच जाती है उसे बैंक आरबीआई में जमा करा देते हैं! इस अमाउंट पर आरबीआई बैंक को ब्याज देता है! 

जब भी बैंक के पास नकदी बढ़ जाती है तो आरबीआई रिवर्स रेपो रेट को बढ़ा देता है! आरबीआई इसलिए रिवर्स बढ़ा देता है ताकि बैंक आरबीआई के पास अधिक पैसा जमा कराएं! 

रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट क्यों उपयोगी है? 

रिवर्स रेपो रेट और रेपो रेट का उपयोग आरबीआई मार्केट में नकदी के प्रवाह को कम और ज्यादा करने में करता है!

जब भी रिजर्व बैंक रेपो रेट बढ़ाता है तो बैंकों को आरबीआई से कर्ज लेना महंगा हो जाता है! जिससे बैंक कम पैसा आरबीआई से लेते हैं!

इससे बैंकों के पास नकदी कम होगी और लोगों को ऋण कम मिल पाएगा! 

रेपो रेट जब आरबीआई द्वारा बढ़ा दिया जाता है! और बड़े कारोबारी जो अधिक मात्रा में ऋण बैंक से लेते हैं तो वो ऋण लेना कम कर देते हैं!

ऐसे में कम पैसा होने के कारण लोग खर्चा भी कम करते हैं! जब लोग खर्चा कम करेंगे तो सामान की कीमतों में गिरावट आ सकती है! जिसके कारण महंगाई पर असर पढ़ सकता है! 

निष्कर्ष – Conclusion

आज के इस आर्टिकल में हमने रिवर्स रेपो रेट और रेपो रेट क्या है? (Repo Rate Kya Hai) रेपो रेट का फूल फॉर्म क्या है रेपो रेट का हिंदी मीनिंग क्या है (Repo Rate Meaning in Hindi) रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट क्यों उपयोगी है? और अभी RBI का Current Repo Rate 2021 क्या है? के बारे में विस्तृत जानकारी का उल्लेख किया!

इस लेख में दी गयी जानकारियों से संबधित यदि आपके पास कोई भी सवाल या फिर सुझाव हो तो आप निचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताये!

फिर भी आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी, हमें कमेंट सेशन में जरूर बताये! पोस्ट को अपना एक लाइक जरूर दें! इस पोस्ट को अपने Social Side (FacebookInstagram और WhatsApp) में Share जरूर करें!

हमारी यह पोस्ट को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद!

स्वस्थ रहें, सुरक्षित रहें और अपनों का ख्याल रखें!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here