इस हिंदी आर्टिकल में हम आपको FIR Kya Hai , ऑनलाइन FIR कैसे करें? और FIR Full Form के बारे में विस्तार से बताने वाले है! यदि आप FIR के बारे में जानना चाहते है तो इस लेख में हमारे साथ अंत तक बने रहें! तो चलिए जानते है की Online FIR Kaise Kare.

नमस्कार दोस्तों, अब FIR दर्ज करना बहुत आसान हो गया है! आप घर बैठे, बिना पुलिस थाने में गये किसी अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR दर्ज करवा सकते हैं! 

आज भी Online FIR के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं! बहुत लोग यह समझते हैं कि अगर उन्होंने सबसे पहले एफआईआर लिखवाई तो उनसे पुलिस अधिक सवाल जवाब करेगी!

लेकिन ऐसा नहीं है अब आप अपने घर बैठे Online FIR भी दर्ज करवा सकते हैं! इसके लिए जिस प्रदेश में आप रहते हैं या फिर जहां पर घटना घटित होती है! उस प्रदेश पुलिस की Official Website पर आपको विजिट करना होता है!

तो बिना किसी देरी के आगे बढ़ते है और FIR Kya Hai , Online FIR Kaise Kare, FIR Full Form के साथ साथ Zero FIR Kya Hai और Online FIR Status Kaise Check Kare के बारे में जानते है!

FIR Full Form in Hindi

एफआईआर फुल फॉर्म – FIR Full Form in Hindi

FIR Full Form: एफआईआर का फुल फॉर्म First Information Report होता है! इस रिपोर्ट को सबसे पहले राज्य की पुलिस द्वारा बनाया जाता है जिसमें धोखाधड़ी, क्राइम, चोरी, भ्रस्टाचार इत्यादि मामले दर्ज किये जाते हैं!

FIR Full Form in Hindi: एफआईआर का पूरा नाम यानी की हिंदी में फुल फॉर्म प्रथम सूचना रपट होता है!

एफआईआर क्या है – FIR Kya Hai in Hindi

FIR Kya Hai: किसी भी आपराधिक घटना के समय पुलिस द्वारा लिखी जाने वाली पहली रिपोर्ट FIR कहलाती है! FIR घटना की सूचना का पहला लिखित प्रमाण माना जाता है! CRP की धारा 154 के अनुसार हर हाल में क्षेत्र या प्रदेश की पुलिस द्वारा FIR लिखना बहुत जरूरी है! फिर चाहे वह संगीन अपराध उस क्षेत्र के पुलिस थाने के अंतर्गत आता हो या नहीं! 

किसी भी क्षेत्र में जब भी FIR लिखी जाती है तो उसे FIR Number और Year के साथ लिखा जाता है! अगर एक आदमी के द्वारा दो थानों में एफआईआर लिखवाई जाती है तो ऐसे में FIR Number अलग अलग होगा! किसी भी FIR के बाद पुलिस जाँच करती है कि लिखवाई गई FIR सही है या गलत! 

अगर FIR सही पाई जाती है तो पुलिस द्वारा एक चार्जशीट तैयार किया जाता है जिसे आरोप पत्र भी कहा जाता है! जिसमें आरोपी के खिलाफ एफआईआर में लिखवाये गए सभी आरोपों का जिक्र किया जाता है! पुलिस की छानबीन में अगर आरोपी दोषी सिद्ध हो जाता है तो तब चार्जशीट तैयार की जाती है! इससे पहले आरोपी पक्ष की भी सुनी जाती है! 

जीरो एफआईआर क्या होता है – Zero FIR Kya Hai in Hindi

Zero FIR Kya Hai: ज़ीरो एफआईआर में ऐसे मामले शामिल होते है जिसमें विक्टिम का होमटाउन किसी अन्य प्रदेश में हों! और विक्टिम से जुड़ा आपराधिक मामला किसी अन्य प्रदेश में घटित हुआ हो, ऐसे मामलों में ज़ीरो एफआईआर दर्ज होती है! 

ज़ीरो एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस जाँच के बाद संबंधित प्रदेश पुलिस को अपनी रिपोर्ट भेज देती है! विक्टिम के होमटाउन प्रदेश की पुलिस जीरो एफआईआर लिखने के बाद कोई भी एफआईआर नंबर जारी नहीं करती है!

मशहूर बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की हत्या के मामले में बिहार में उनके होमटाउन में सबसे पहले जीरो एफआईआर ही लिखवाई गयी थी! उसके बाद ही बिहार पुलिस ने अपनी कार्यवाही को आगे बढ़ाया था! जीरो एफआईआर भी प्रथम इनफार्मेशन रिपोर्ट मानी जाती है!

💰 Top 25+ पैसे कमाने वाला ऐप 2021

ऑनलाइन एफआईआर कैसे करें – Online FIR Kaise Kare

अभी तक आप अच्छे से समझ गए होंगे की FIR Kya Hai और Zero FIR Kya Hai. तो चलिए अब आगे बढ़ते है और आखिर Online FIR Kaise Kare. को Step by Step समझते है!

Step-1. सबसे पहले आप जिस क्षेत्र में हैं उस प्रदेश की पुलिस की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ! 

जैसे की हम दिल्ली पुलिस की आधिकारिक वेबसाइट पर हैं तो आप होम पेज पर देखेंगे कि आपको किस तरह की एफआईआर लिखवानी है तो वो ऑप्शन आप होम पेज से चुन लीजिये! जैसे आपकी बाइक चोरी हो गयी हो, घर में चोरी हो गयी हो, साइबर अफेंस की शिकायत, गुमशुदगी एफआईआर इत्यादि! 

Step 2. अगर आपका कोई सामान खो गया है तो आप होम पेज पर बने Lost & Found ऑप्शन पर क्लिक कीजिये! आगे आपको Lost Article और Found Article दो ऑप्शन दिखेंगे! 

Step 3. हम लॉस्ट की FIR कर रहे हैं तो Lost Article पर क्लिक कीजिये! आगे Register पर क्लिक कीजिये!

अब नए पेज पर आप नाम, पिता का नाम, पूरा पता, मोबाईल नंबर, उस जगह का नाम जहां से आपका सामान खोया है, समय और तारीख डाल लीजिये!

Step 4. आगे ऑप्शन में क्या सामान खोया है उसे Lost Article में अपडेट कीजिये! अगर Lost Article List में आपका खोया सामान का नाम नहीं आ रहा है तो आप Others में जाकर सामान का नाम लिख लीजिये! 

Step 5. अगर आपका मोबाइल खो गया है तो आप Lost Article List में Mobile को सलेक्ट कीजिये! आगे मोबाइल का IMEI Number, Mobile Number डालें, Make ऑप्शन में कंपनी का नाम चुन लीजिये, और आगे Type चुन लीजिये! 

Step 6. अगर आपका एक से अधिक सामान खोया है तो आप Add ऑप्शन में क्लिक कीजिये और सामान जानकारी डाल लीजिये! इसके साथ में आप पुलिस को अन्य डिटेल्स देना चाहते हैं तो आप डिटेल्स Any Other Details ऑप्शन के नीचे बने बॉक्स में लिख दीजिये!

आगे बने कैप्चा ऑप्शन में कैप्चा फाइल कर लीजिये और Submit पर क्लिक कीजिये! Submit पर क्लिक करते ही आपको आपके स्क्रीन पर Record Saved Successfully का पॉपअप दिख जायेगा! 

Successfully Massage के साथ आपको एक LR Number दिया जायेगा जिसे आप सेव करके अपने पास रख लें! या फिर Download LR में जाकर आप LR (Lorry Receipt) रिसिप्ट को Download कर लीजिये!   

इसी तरह आप किसी भी तरह की अन्य एफआईआर ऑनलाइन दर्ज कर सकते हैं! आपको एक यूजर आईडी की जरूरत भी पड़ सकती है! इसलिए New Register पर जाकर आप यूजर आईडी बना लें और एफआईआर करने से पहले लॉगिन करके एफआईआर दर्ज करें!

ऑनलाइन एफआईआर स्टेटस कैसे चेक करें – Online FIR Status Check Kaise Kare

किसी भी Online FIR Status Check करने के लिए आप होम पेज में View Page पर क्लिक कीजिये! आगे Complaint Status पर क्लिक कीजिये!

आगे View Complaint Status ऑप्शन में जाएँ! दिए गए ऑप्शन में Complaint Number, Complaint Name, District और Police Station को सलेक्ट कर लीजिये और आगे Search पर क्लिक कीजिये!

आपको नए पेज पर आपके द्वारा लिखी गयी Online FIR Status Show हो जायेगा! इस तरह आप किसी भी Online FIR Complain का Status Check कर सकते हैं! 

Police FIR दर्ज ना करे तो क्या करें?

किसी भी क्षेत्र की पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज ना करने पर अधिकारीयों पर सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार कार्यवाही की जा सकती है! प्रथम रिपोर्ट दर्ज होने पर मात्र एक हफ्ते के अंतर्गत पहली जाँच पूर्ण होना जरूरी होता है! FIR दर्ज न होने पर सूचना देने वाला व्यक्ति सूचना को रजिस्टर्ड डाक द्वारा क्षेत्रीय पुलिस आयुक्त को भेज सकते हैं!

सीआरपीसी धारा 156 (3) के अंतर्गत महानगर मजिस्ट्रेट के पास इस बात की कंप्लेंट करने का अधिकार रहता है! महानगर मजिस्ट्रेट के पास एफआईआर पर पूर्ण कार्यवाही करने का भी अधिकार होता है!

FIR दर्ज करने के दौरान कोई भी पुलिस अधिकारी अपनी टिप्पणी को एफआईआर में नहीं लिख सकता है! और न ही मुख्य हेडिंग में दर्शा सकता है! एफआईआर कॉपी में पुलिस स्टेशन की स्टैम्प और पुलिस अधिकारी के साइन होना बहुत जरूरी है! साथ में पुलिस द्वारा एक एफआईआर प्रति आपको सौंपी जानी चाहिए!

Conclusion – निष्कर्ष 

आज के इस पोस्ट में हमने FIR Kya Hai , Online FIR Kaise Kare, FIR Full Form के साथ साथ Zero FIR Kya Hai और Online FIR Status Kaise Check Kare के बारे जानकारी प्राप्त की! साथ में हमने पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज न किये जाने पर क्या करना चाहिए? के बारे जाना!

उम्मीद है आपको FIR के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला होगा! आप हमारे इस पोस्ट को अपने Social Media में जरूर शेयर करें!

और हमारे द्वारा पब्लिश की जाने वाली सभी जानकारी को सबसे पहले प्राप्त करने के लिए दाई ओर निचे दिख रहे Red Bell 🔔 के बटन को जरूर प्रेस करके Subscribe कर लीजिये!

इस लेख को पूरा पोस्ट पढ़ने हेतु आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

सुरक्षित रहें, स्वस्थ रहें और अपनों का ख्याल रखें!!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here