क्या आप जानते हैं मॉनिटर क्या होता है? (Monitor Kya Hai) और मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Monitor in Hindi) मॉनिटर किसी भी कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण डिवाइस होता है! तो आज के इस लेख में हम मॉनिटर के बारे में आपको विस्तार से बताने वाले है!

आज के युग में जिस तेजी से टेक्नोलॉजी का विकास हो रहा है उस हिसाब से लगभग हर इंसान कंप्यूटर से रूबरू हो चुका होगा!

मॉनिटर के बिना कंप्यूटर का कोई अस्तित्व ही नहीं है! यदि कम्प्यूटर को हम एक इंसानी शरीर मान ले तो मॉनिटर उसकी आंखे है क्योंकि सारी इनफॉर्मेशन हमे मॉनिटर ही दर्शाती हैं!

आधे से ज्यादा लोग तो अपना ज्यादातर समय इसी मॉनिटर के सामने ही बिताते हैं! मॉनिटर के माध्यम से कुछ लोग मूवी देखते हैं, कुछ लोग ऑनलाइन गेम खेलते हैं और कुछ ऑफिस का काम करते हैं!

मॉनिटर का रोल आज के समय में काफी बढ़ गया है! एक समय था जब मॉनिटर की क्वालिटी भी अच्छी नही हुआ करती थी लेकिन अब मार्केट में बहुत ही अच्छी डिस्प्ले वाले बढ़िया कंपनी के मॉनिटर मौजूद है!

आज के इस आर्टिकल में मॉनिटर से जुडी सभी जानकारी को आपके सामने रखेंगे जैसे मॉनिटर क्या होता है? (Monitor Kya Hai) मॉनिटर की शुरुआत कब हुई? (Monitor Ki Shururat Kab Hui) मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? (Monitor Kitne Parkar Ke Hote Hai) इत्यादि! चलिए फिर मॉनिटर के विषय में अच्छे से जानते है!

Monitor kya hota hai

मॉनिटर का फुल फॉर्म क्या है – Full Form of Monitor in Hindi

Monitor Meaning in Hindi – Monitor एक संपूर्ण शब्द है जिसका मतलब है एक ऐसी स्क्रीन जो डाटा को किसी भी रूप में जैसे Images, Sound, Symbol को डिस्प्ले करता है! लेकिन यदि आपसे कोई पूछे तो आप नीचे बताए गए Monitor के फुल फॉर्म को जरूर बता सकते हो!

M – Machine (मशीन)

O – Output (आउटपुट)

N – Number of

I – Information (सूचना)

T – To

O – Organize

R – Report

मॉनिटर क्या है – Monitor Kya Hai

Monitor in Hindi: मॉनिटर एक आउटपुट डिवाइस होता है! जिसका काम कंप्यूटर के CPU से प्रोसेस होने वाली सारी इनफार्मेशन को यूजर के सामने स्क्रीन पर प्रदर्शित करना होता हैं! Monitor को टेक्नोलॉजी की भाषा में Visual Display Unit भी कहा जाता हैं! 

मॉनिटर कंप्यूटर के साथ आने वाले सबसे जरूरी आउटपुट डिवाइस में से एक है! यह अपनी स्क्रीन पर आउटपुट डाटा को Soft Copy के रूप में डिस्प्ले करता है!

प्रायः मॉनिटर दिखने में टीवी की तरह होता है! जो किसी भी प्रकार की जानकारी जैसे पिक्चर, साउंड, सिंबल आदि को अपने स्क्रीन पर दिखाता है!

पहले मॉनिटर को CTR यानी Cathode Ray Tubes से बनाया जाता था! जिसकी वजह से मॉनिटर में काफी अधिक वजन होता था और साइज में बड़े होते थे!

लेकिन आज एक समय में मॉनिटर Flat Panel Display Technology की मदद से बनाए जाते है!

अब तो मार्केट में मॉनिटर काफी हल्के और फ्लैट आने लगे हैं! फ्लैट स्क्रीन वाले LCD का इस्तेमाल अब मॉनिटर के रूप में होने लगा है!

मॉनिटर के हल्के और छोटे होने से आप इसे कहीं भी ले जा सकते हैं!

कीबोर्ड किसे कहते हैं? Keyboard कितने प्रकार के होते है?

मॉनिटर का आविष्कार किसने किया – Monitor ka Avishkar Kab aur Kisne Kiya

Monitor का अविष्कार सन 1897 में Karl Ferdinand Braun ने पहली बार CRT यानी Cathode Ray Tube का इन्वेंट किया था!

तब उन्होंने Cathode Ray Monitor का आविष्कार किया था! तब से आज तक मॉनिटर के कई विभिन्न रूप देखे जा चुके है!

रंगो के आधार पर मॉनिटर के प्रकार

Monitor को Karl Ferdinand Braun के द्वारा दर्शाने वाले रंगों के आधार पर तीन रूप में बांटा गया है जिसके बारे में नीचे बताया गया है!

  • मोनोक्रोम मॉनिटर (Monochrome Monitor)
  • ग्रे स्केल मॉनिटर (Gray Scale Monitor)
  • कलरफुल मॉनिटर (Colour Monitor)
What is monitor in hindi

1). मोनोक्रोम मॉनिटर – Monochrome Monitor

Monochrome दो शब्दो से मिलकर बना है पहला Mono जिसका अर्थ है अकेला और दूसरा Chrome जिसका अर्थ है रंग!

मोनोक्रोम ऐसे मॉनिटर होते हैं जो डिस्प्ले किए जाने वाले आउटपुट को Black & White रंग में प्रदर्शित करते हैं! 1960 से 1980 के मध्य में मोनोक्रोम मॉनिटर का इस्तेमाल अधिकतर होता था!

2). ग्रे स्केल मॉनिटर – Gray Scale Monitor

Gray Scale Monitor भी मोनोक्रोम मॉनिटर से मिलते जुलते हैं क्योंकि इनमें आउटपुट को Gray Shade में प्रदर्शित किया जाता था!

Gray Scale Monitor का उपयोग पहले हैंडी लैपटॉप में होता था!

3). कलरफुल मॉनिटर – Colour Monitor

Colour Monitor ऐसे मॉनिटर होते है जिनमे RGB यानी Red, Green और Blue फास्फोरस रंगों का उपयोग करके डिस्प्ले तैयार किया जाता है!

जो आउटपुट को कई तरह के रंगों में प्रदर्शित करते हैं! आज के मॉनिटर कलरफुल डिस्प्ले के साथ आते हैं!

Pen Drive क्या है इन हिंदी | पेन ड्राइव के उपयोग, प्रकार और फ़ायदे क्या है?

मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं – Monitor Kitne Prakar Ke Hote Hai

अभी तक हमने आपको मॉनिटर क्या है? रंगों के आधार पर मॉनिटर कितने तरह के होते हैं? के बारे में जाना!

मार्केट में सामान्य मॉनिटर कितने प्रकार के आते हैं आइये आगे अब इसके बारे में जान लेते हैं!

  1. सीटीआर मॉनिटर (CTR Monitor)
  2. एलसीडी मॉनिटर (LCD Monitor)
  3. एलईडी मॉनिटर (LED Monitor)
  4. ओएलईडी मॉनिटर (OLED Monitor)
  5. प्लाज्मा मॉनिटर (Plasma Monitor)

1. सीटीआर मॉनिटर  CTR Monitor

Images Display करने के लिए CTR Monitor यानी की Cathode Ray Tube का इस्तेमाल करते हैं!

CTR को बनाने के लिए Vacuum Tube, Heaters, Electron Guns, Deflection Circuits और एक ग्लास स्क्रीन का इस्तेमाल किया जाता है!

सीटीआर मॉनिटर के अंदर जब इलेक्ट्रॉन प्रोड्यूस होते है तब स्क्रीन की ओर इलेक्ट्रॉन बॉम्बॉर्ड करते है जिससे ये सीटीआर मॉनिटर स्क्रीन ग्रो करती है!

जिसके कारण स्क्रीन पर दृश्य बनते हैं! CTR ने पुराने समय के टीवी जैसे दिखने वाले मॉनिटर को रिप्लेस कर दिया है!

2. एलसीडी मॉनिटर LCD Monitor

LCD को लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले कहा जाता है! CTR का जब आविष्कार हुआ तब ये दिखने में लगभग टेलीविजन की तरह होते थे!

लेकिन समय के साथ Technology का विकास हुआ फिर LCD monitor का इस्तेमाल होने लगा!

एलसीडी मॉनिटर की वीडियो क्वालिटी काफी अच्छी होती है! शुरूआत में इनका इस्तेमाल लैपटॉप की स्क्रीन के लिए होता था लेकिन अब कंप्यूटर के लिए इनका प्रयोग होने लगा है!

LCD Monitor काफी हल्के होते है और कम जगह घेरते है! इसके साथ ये CTR के मुकाबले ऊर्जा का कम उपयोग करते है और कम गर्मी पैदा करते है!

3. एलईडी मॉनिटर LED Monitor

LED Monitor आज के समय काफी ज्यादा इस्तेमाल किए जाते है! इसे Light Emitted Diode कहा जाता है! ये फ्लैट पैनल के साथ आते है तथा इसके स्क्रीन हल्के घुमावदार होते हुए! एलईडी लेटेस्ट मॉनिटर के रूप में मार्केट में उपलब्ध है!

इन मॉनिटर में Back Lighting के लिए LED (Light Emitting Diode) का इस्तेमाल होता है जबकि LCD में Cold Cathode Fluorescent का इस्तेमाल होता हैं!

LED Monitor कम ऊर्जा का इस्तेमाल करते है इसलिए यह काफी पसंद किए जाते हैं!

ISP Full Form: ISP क्या है? कैसे काम करता है?

4. ओएलईडी मॉनिटर OLED Monitor

OLED Monitor आज की टेक्नोलोजी द्वारा निर्मित बहुत ही अच्छा डिस्प्ले वाला मॉनिटर है! OLED का फुल फॉर्म Organic Light Emitted Diode होता है!

ओएलईडी मॉनिटर स्क्रीन ऑर्गेनिक मैटेरियल जैसे Carbon, Wood, Plastic या फिर Polymers के बने होते है!

इन मॉनिटर में Fast Response Time, Wide Viewing Angles, Perfect Brightness और Outstanding Contrast Levels के गुण पाए जाते हैं!

यदि बात करे अभी तक के बेस्ट मॉनिटर की तो ओएलईडी मॉनिटर बाकी मॉनिटर से इस्तेमाल करने में अच्छे होते हैं!

5. प्लाज्मा मॉनिटर – Plasma Monitor

प्लाज्मा मॉनिटर के डिस्प्ले स्क्रीन High Contrast वाले होते है जो अलग अलग कलर में आउटपुट देते हैं! इनकी Brightness Quality भी अच्छी होती है!

इनको प्लाज्मा मॉनिटर इसलिए कहा जाता है क्योंकि इनके स्क्रीन पर मौजूद सेल्स काफी ज्यादा छोटे है! इन सेल्स में Electrically Charged Lino-zed Gas भरी होती हैं!

मॉनिटर का साइज कितना होना चाहिए – Monitor Ka Size Kitna Hona Chahiye

जब भी हम कोई कंप्यूटर मार्केट में खरीदने जाते हैं तो हमारा ध्यान रैम, हार्ड डिस्क, प्रोसेसर पर ही जाता है!

लेकिन मॉनिटर और कीबोर्ड भी ऐसी चीजें हैं जिन्हे आप अच्छी कवालिटी के लेंगे तो बहुत ही लम्बे समय तक चलेंगे! 

मॉनिटर साइज़ में अधिक बड़ा न हो और आपका मॉनिटर आपके वर्क स्टेशन पर आराम से फिट हो जाए!

अगर आपको दो या उससे अधिक कंप्यूटर एक ही कमरें में लगाने हैं तो आप 19 इंच या फिर 21 इंच का मॉनिटर ले सकते हैं!

अगर आपको बड़े प्रोजेक्ट में काम करना है तो आप 27 इंच का मॉनिटर इस्तेमाल में ला सकते हैं!  

निष्कर्ष – Conclusion

दोस्तों, आज के इस हिंदी लेख में हमने मॉनिटर क्या है (Monitor Kya Hai in Hindi) और मॉनिटर कितने प्रकार के होते हैं? (Monitor Kitne Prakar Ke Hote Hai) मॉनिटर की शुरुआत कब हुई? (Monitor Ki Shururat Kab Hui in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी काफी सरल शब्दों में प्राप्त की!

जब भी आप मार्केट से मॉनिटर खरीदने जाएँ तो मॉनिटर कैसा होना चाहिए और उसका साइज क्या होना चाहिए! यह सभी जानकारी आप पहले अच्छे से जान लें! जिससे आपको खरीदने में कोई भी दिक्कत ना आएं! 

हमें उम्मीद है की आपको हमारा आज का यह ब्लॉग “Monitor Kya Hai” पसंद आया होगा! आप हमारे इस पोस्ट को शेयर जरूर करें!अगर आपके पास इस आर्टिकल से जुड़े कोई भी सुझाव हों तो आप हमें हमारे कमेंट सेंशन में जाकर जरूर अवगत कराएं!

हमारी यह पोस्ट को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here