Rate this post

नमस्कार दोस्तों, क्या आप जानते हैं पीएफ क्या है (PF Kya Hai in Hindi) और पीएफ का फुल फॉर्म क्या है? (PF Ka Full Form) आमतौर पर नौकरी वाले लोगो को मालूम तो होगा पीएफ क्या है? लेकिन अधिकांश लोगो को इसके बारे में मालूम नहीं होता है!

जो भी लोग पहली बार नौकरी कर रहे हैं उन्हें PF के बारे में जानना बहुत आवश्यक है! 

कुछ कम्पनी में यह PF 1800 रूपये Deduct होता है! कुछ कंपनी में 12 फीसदी और कुछ कम्पनी में यह एम्पॉलई की चॉइस पर निर्भर करता है! 

आज के इस ब्लॉग में हम जानेंगे पीएफ क्या है (PF Kya Hai in Hindi) और पीएफ का फुल फॉर्म क्या है? (PF Ka Full Form)ईपीएफ का कितना प्रतिशत हमें मिलता है! साथ में जानेगे पीएफओ क्या होता है? ईपीएस क्या है? ईपीएस की फुल फॉर्म क्या है?

हम EPF Amount को कैसे विथड्रॉ कर सकते हैं! कैसे EPF Amount को किसी दूसरी कम्पनी में Transfer कर सकते हैं! EPF Ko Kaise Transfer Kare तो चलिए आगे बढ़ते हैं:

EPF kya hai

आइये जानते हैं;

पीएफ का फुल फॉर्म क्या है  Full Form of PF in Hindi

PF Ka Full Form – पीएफ का फुल फॉर्म “Provided Fund” होता है! यह मासिक वेतन के साथ मिलने वाला एक सुरक्षित फंड है! Hindi में PF का Full Form “भविष्य निधि” होता है यह एक सरकारी योजना है! 

ईपीएफओ का फुल फॉर्म क्या है – Full Form of EPFO in Hindi

Full Form of EPFO: ईपीएफओ का फुल फॉर्म “Employee Provided Fund Organization” होता है! PF को अधिकतर EPFO के नाम से जाना है! 

ईपीएफओ का Hindi में Full Form (पूरा नाम) “कर्मचारी भविष्य निधि” है! यह Employee और Employer से संबंधित होता है!

पीएफ क्या होता है – PF Kya Hai in Hindi

यह सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एक ऐसी योजना है जिसकी देखरेख EPFO द्वारा किया जाता है! Provided Fund (भविष्य निधि) को सरकार द्वारा जो संगठन चलाता है उसे EPFO कहा जाता है!

इसकी शुरुआत 1995 में की गयी थी! यह Provident Funds and Miscellaneous Provisions Act, 1952 में निहित है!

इस योजना के अंतर्गत वो कंपनियां आती हैं! जिसमें 20 या उससे ज्यादा Employee काम करते हों वह कर्मचारी जिनका वेतन 15000 से कम है! उनके लिए यह अनिवार्य है! अगर 15000 से ज्यादा वेतन है तो उनके लिए अनिवार्य तो नहीं है!

किंतु कंपनिया यह स्कीम को वेतन पर लागू कर देती हैं! यह कर्मचारी का मासिक वेतन 15000 से लेकर 21000 तक लागू है! 

आज के समय में इसे लॉन्ग टर्म के लिए बहुत फायदेमंद माना गया है क्योंकि इसमें कर्मचारी के रिटायर्ड होने के बाद जमा हुई धनराशि का कुछ भाग कर्मचारी को मिलता रहता है!

ईपीएस क्या है – EPS Kya Hai in Hindi

Full Form of EPS- EPS का full form “Employee Pension Scheme” है! इसका हिंदी में पूरा नाम “कर्मचारी पेंशन योजना” है! यह EPFO द्वारा दी जाने वाली एक सामाजिक सुरक्षा योजना है! 

EPS scheme हमारी ईपीएफओ सरकारी योजना के साथ जुडी होती है कर्मचारी के EPF में यह राशि जुड़ती है! जिसे 58 साल की उम्र के बाद निकला जा सकता है! EPS खाते में यह राशि कर्मचारी के वेतन का 8.3 % राशि जमा होता है!

पीएफ कितना फीसदी कटता है?

यह जानना बहुत अहम है कि आखिर कर्मचारियों के वेतन से यह कितना फीसदी काटा जाता है और कितना फीसदी इसमें सरकार का Contribution होता है! कर्मचारियों के वेतन का (Basic+DA) 12 प्रतिशत काटा जाता है और 12 फीसदी Employer का Contribution होता है!

इसमें 8.3 फीसदी राशि पेंशन योजना में और 3.6 फीसदी राशि कर्मचारी भविष्य निधि Account में जमा हो जाती है! 

इससे आगे Employer यानि कम्पनी को 1 फीसदी EDLI & EPF Admin charges Contribution करना होता है! कम्पनी कुल 13 फीसदी Contribution EPF Account में करती है! 

जिस कम्पनी में 20 से कम Employee हैं तो वहां पर यह EPF राशि 10 % होती है कर्मचारी और employer का Contribution 10 % होता है! 

पीएफ राशि कितने समय में मिलती है?

EPF की पूरी राशि कर्मचारी को कब मिलेगी तो यह राशि कर्मचारी के रिटायर्ड होने के बाद मिलेगी! रिटायर्ड कर्मचारी की उम्र 58 साल निर्धारित की गयी है! कर्मचारी 58 साल की उम्र में EPF और EPS दोनों की राशि निकाल सकता है!

इससे पहले अगर कर्मचारी कुछ राशि निकालना चाहते हैं तो वह 57 साल की उम्र में 90 % पैसा निकाल सकते हैं! यहां पर उन्हें EPF के पुरे फायदे मिलेंगे इससे पहले आप इमरजेंसी में यह राशि निकाल सकते हैं किन्तु पूरी राशि नहीं निकल सकते हैं! 

यहां पर पूरी राशि आप कम्पनी छोड़ने पर ही निकल सकते हैं! अगर आप 5 साल से पहले ही इस राशि को निकाल लेते हैं! तो आपको टैक्स से सम्न्बधित कोई भी Benefits नहीं मिलेंगे!

मोबाइल से पीएफ राशि कैसे जानें – Mobile se PF Kaise Check Kare

आप अपने Mobile पर SMS के जरिये जमा राशि की डिटेल्स मंगवा सकते हैं! इसके लिए आपका UAN नम्बर EPFO में रजिस्टर्ड होना जरूरी है! अपने Mobile से 7738299899 number पर EPFOHO UAN लिखकर sms भेज सकते हैं!

बशर्ते आपका Mobile नम्बर EPFO में रजिस्टर्ड होना चाहिए आप उमंग एप को इनस्टॉल करके भी आप अपने EPFO में जमा राशि की जानकारी पा सकते हैं! आप इपीएफओ की Official Website पर जाकर भी EPFO की जानकारी पा सकते हैं! 

पीएफ को ट्रांसफर कैसे करें – PF ko Kaise Kaise Transfer kare

हमारे लिए यह जानना बहुत जरूरी है को पीएफ को कैसे ट्रांसफर करें! आप किसी भी कम्पनी को छोड़कर नई कम्पनी में जॉइन कर रहे हैं तो यहां पर आपको फॉर्म न. 13 भरना होगा! 

अधिकांश कंपनियों में यह फॉर्म जोइनिंग किट के साथ उपलब्ध कराया जाता है! 

यहां पर दो चीजों पर बहुत ध्यान देना होता है! पहला राशि नए ईपीएफ अकाउंट में ट्रांसफर हो दूसरा ईपीएस का Services Period Record भी Transfer हो Services Period Record को EPFO की मेंबर सेवा पोर्टल पर जाकर भी चेक कर सकते हैं!

पीएफ में ब्याज कितना प्रतिशत मिलता है – PF Mai Kitna Interest Milta Hai

2021 – 2022 के लिए पीएफ की ब्याज दरें अगले माह मार्च 2022 से तय की जाएँगी! इसके लिए केंद्रीय न्यासी बोर्ड अगले माह एक बैठक करेगा! 

इससे पहले ईपीएफओ ने वर्ष 2016-2017 और 2017-2018 में करीब 8 . 65 प्रतिशत  ब्याज दिया था! 2015 – 2016 में यह दर 8 . 7 प्रतिशत थी! वहीँ 2014- 2015 में 8. 75 प्रतिशत थी!  

पीएफ के क्या फायदे हैBenefits of PF in Hindi

इसमें करीब 8 से 9 प्रतिशत interest rate हमें मिल जाते हैं! लेकिन यह दर हर तिमाही में बदलती रहती है! EPF Universal Access Account होता है जो UAN Number द्वारा ऑपरेट किया जाता है! 

इसमें धनराशि का Return Amount बिलकुल टैक्स फ्री होता है! 

EPF राशि को जमा करने और और निकालने में कर्मचारी को कोई भी टैक्स का भुगतान नहीं करना होता है! इसमें रिश्क बहुत कम होता है क्योंकि यह सरकार की निगरानी में जमा होता है!

कर्मचारी के अलावा इसे कर्मचारी Nominee Member भी Withdraw कर सकती है 

आपको हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अगर आप 5 साल से पहले EPF में जमा हुई राशि को निकालते हैं तो आपको Tax Saving में कोई भी Benefits नहीं मिलेंगे आप जिस भी कम्पनी में काम करते हैं कम्पनी से मिलने वाले Payslip में आप EPF की सारी Details देखें! 

इन्हें भी पढ़े – Nifty kya hai? Nifty में Calculation कैसे करें?

इन्हें भी पढ़े – BSE in HIndi | BSE कैसे काम करता है? Sensex क्या है? 

पीएफ ग्रीवियेन्स में कब और कैसे शिकायत करे?

आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है! EPF से संबंधित कोई भी शिकायत हो तो उसे आप कहाँ और कैसे दर्ज करें! प्रत्येक महीने आपके वेतन से EPF राशि कट हो रही है या नहीं! अगर employer की तरफ से यह राशि जमा नहीं हो रही तो शिकायत करें!

PF Rules in Hindi:

आपको आपके UAN Number नहीं दिया जा रहा है! एम्पोल्येर आपको इस बारे में कोई जानकारी नहीं दे रहा है तो शिकायत करें! आपकी तरफ से KYC update है किन्तु आप आपना पासबुक डिटेल्स नहीं देख पा रहे हैं तो शिकायत करें! 

अगर आप अपना मोबाईल नंबर या फिर राशि नहीं निकाल पा रहे हैं तो शिकायत करें! 

अगर आप पत्र के माध्यम से शिकायत कर रहे हैं तो कम्पनी का नाम, पता, फोन नंबर अवश्य लिखें! आज के समय में आप Online भी शिकायत करा सकते हैं या फिर आप अपने नजदीकी EPFO Office में भी विजिट कर सकते हैं! 

आप की EPFO की Official Website पर जाकर भी शिकायत दर्ज कर सकते हैं!

निष्कर्ष Conclusion

आज के इस हिंदी ब्लॉग में अपने जाना पीएफ क्या है (PF Kya Hai in Hindi) और पीएफ का फुल फॉर्म क्या है? (PF Ka Full Form) ईपीएफओ का फुल फॉर्म क्या है? (Full Form of EPFO in Hindi) ईपीएफ कितना प्रतिशत आपके वेतन से कटता है और कितना Employer Organization द्वारा जमा किया जाता है!

हमने जाना कैसे हम ईपीएफ अमाउंट को ट्रांसफर कर सकते हैं (PF kaise Transfer kare) साथ में हमने जाना EPF के क्या फायदे हैं!

आशा करता हूँ आज के इस हिंदी ब्लॉग से आपको बहुत जानकरियां प्राप्त हुई होंगी! अगर आपका कोई भी सुझाव हो तो आप हमारे Comment Box में जाकर दे सकते हैं!

हमारे इस Post को अपने दोस्तों, परिवार वालों और रिस्तेदारों तक जरूर पहुंचायें आप हमारा इसी तरह सहयोग करते रहें! आप हमारे इस हिंदी ब्लॉग को Subscribe भी कर सकते हैं जिससे हमारी प्रत्येक जानकारी का Notification सबसे पहले आप तक पहुंचे!

- Advertisement -

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here