क्या आप जानते हैं किसान केडिट कार्ड क्या है? (Kisan Credit Card Kya hai in Hindi) इसका आप कैसे लाभ उठा सकते हैं? आप कैसे इसके लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं? (Kisan Credit Card yojana how to online apply)! अगर आप किसान हैं तो आप इस सुविधा का लाभ आज ही लीजिये! अगर आपने Kisan Credit Card नहीं बनवाया है तो शायद आपको इसकी जानकारी नहीं है। इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। आज हम आपके अपने Hindi Blog के माध्यम से सब कुछ विस्तार में बताने वाले हैं।

Kisan credit card

दरअसल हमारे देश के किसान भाइयों को फसलों में जो मुनाफा होना चाहिये वो नहीं होता है। जिससे उन्हें बड़े साहूकारों से अधिक ब्याज पर कर्ज लेना पड़ता है। दुःख की बात तो यह है कि, कर्ज चुकता नहीं होने पर किसानों को आत्महत्या तक करनी पड़ जाती है। साहूकारों द्वारा उनके परिवार वालों को परेशान किया जाता है जहाँ पर भुखमरी जैसी घटनाएं भी देखने को मिलती हैं। किसान कर्ज में डूबकर मौत को गले लगा देते हैं। जो बहुत दुःख की बात होती है।

पिछले Hindi Blog में हमने आपको GDP (Gross Domestic Product) और GST (Goods & Services Tax) के बारे में विस्तारपूर्वक समझाया था। आज हम आपको Bank से बिना Security के Loan कैसे लेंगे और किसान केडिट कार्ड पर लगने वाला ब्याज के बारे में (Kisan Credit Card Interest Rate) की पूरी जानकारी देंगे।

आइये जानते हैं Kisan Credit Card Yojana kya hai in Hindi | 2020 में किसानों के लिए क्या है नया!

Kisan Credit Card kya hai in Hindi?

किसानों को Kisan Samman Nidhi Yojana (किसान सम्मान निधि योजना) के अंतर्गत दिया जाने वाला ऋण किसान क्रेडिट कार्ड कहलाता है,यह एक प्लास्टिक मनी के माध्यम से दिया जाता है! किसानों की अनेकों सम्मस्याओं को ध्यान में रखते हुए भारत की सरकार ने 1998 में इसकी शुरुआत की थी! शुरुआत में इसमें 1 लाख का लोन दिया जाता था। बाद में इसकी लिमिट बढ़ा दी गयी!

किसान क्रेडिट कार्ड की शुरुआत कब और कैसे हुई?

Kisan Credit Card (किसान क्रेडिट कार्ड) योजना को संसद में 1 जून 1998 में तत्कालीन वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा द्वारा पेश किया गया। यह अवसर 1998-99 के बजट का था। इससे पहले NABARD को सरकार द्वारा यह कहा गया था कि कोई ऐसी योजना बनाएं जिससे किसानों को उनकी भूमि से जुड़ने पर लोन मिले।
उसके तुरन्त बाद सरकार द्वारा एक कमेटी का गठन किया गया। जिसका नाम था RV Gupta Committee, इस कमेटी के सुझावों के अनुसार किसान क्रेडिट कार्ड की योजना को सरकार द्वारा मंजूरी दी गयी। 5 अगस्त 1998 में यह स्कीम RBI के द्वारा Commercial बैंकों को भेजी गयी। NABRD द्वारा 14 अगस्त 1998 को किसान क्रेडिट कार्ड की स्कीम Cooperative बैंकों और Regional बैंकों को भेजी गयी।
किसान क्रेडिट कार्ड को (NPCI) National payment corporation of India जारी करता है।अब इसे SBI, BOI, IDBI और अन्य बैंकों से भी,लिया जा सकता है!

इन्हें भी पढ़ें- NABARD क्या है? किसानों के लिए NABARD 2020 में क्या है खास! जानिये पूरी जानकारी हिंदी में! 

वर्ष 2020 में किसानों के लिए क्या नया है?

जैसा कि आप जानते हैं कोरोना के बढ़ते संकट के बीच सरकार ने कई कदम उठाये हैं। RBI (Reserve Bank of India) ने किसानों की लोन किस्त को तीन महीने तक नहीं देने की छूट दी है। इससे कई किसानों को फायदा होगा।
वर्ष 2020 में केंद्र सरकार ने किसानों के लिए 16 सूत्रीय एक्शन प्लान को मंजूरी दी है। जिसके अंतर्गत Kishan Samman Nidhi से जुड़े लाभार्थियों को अधिक संख्या में KCC की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी! प्रधानमंत्री सम्मान निधि के अंतर्गत कई किसानों को शामिल किया गया है।

Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana (प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना)

किसानों की फसल बीमा योजना (Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana) को स्वैच्छिक करने की मांग लम्बे समय से चली आ रही थी! जिसे भारत की मोदी सरकार ने खरीब सीजन-2020 में मान लिया और लागू कर दिया।

जो भी किसान फसल बीमा योजना का लाभ नहीं उठा रहे हैं! उनके लिए 2020 में इस योजना में पंजीकरण करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई है। जो किसान भाई किसान क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर रहे है और किसान बिमा योजना (Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana) का लाभ नहीं लेना चाहते हैं तो वे नजदीकी बैंक में जाकर इस योजना से अलग हो सकते है। इसके लिए उन्हें बैंक में एक घोषणा पत्र प्रस्तुत करना होगा। यह बहुत जरूरी है क्योंकि किसानों के खाते यह से राशि कट सकती है। 

Kisan Credit Card पर Interest Rate कितना लगता है?

किसान क्रेडिट कार्ड लोन में ब्याज दर की बात करें तो ब्याज मुख्यतः दो तरह Interest Rate होता है।
पहला 3 लाख तक के लोन के लिए Interest Rate अलग होगा। दूसरा 3 लाख से ज्यादा लोन के लिये अलग Interest Rate होगा।

पहला – Kisan Credit Card Interest Rate 9 प्रतिशत होता है। जिसमें सरकार 2 प्रतिशत Sab vacation किसान को वापस देती है। लोन समय पर चुकता हो गया या हो रहा है तो Kisan Credit Card में सरकार 3 प्रतिशत का Additional Interest Rate यानि सब्सिडी देती है।
यह 2 प्रतिशत और 3 प्रतिशत कुल 9 प्रतिशत में घटाकर किसान को 4 प्रतिशत ब्याज देना होता।

दूसरा –अगर किसान मित्र का 3 लाख से ज्यादा का लोन है तो किसानों को 9 प्रतिशत ब्याज बैंको को देना होता है।

क्या किसान क्रेडिट कार्ड लोन स्कीम में Collateral Security भी होती है?

बैंक से मिलने वाला लोन अगर 1 लाख तक का है तो कोई भी Security नहीं ली जाती है! जो लोन दिया जाता है उस पर हक बैंक का होता है। अगर 1 लाख से ऊपर का लोन है तो बैंक Mortgage of Land ya Mortgage of Things कराती है! बैंक जमीन को बंधक कराती है। कोई ट्रैक्टर या कोई मशीन खरीदी हो तो उस पर बैंक का हक होता है जब तक लोन पूरा हो।

आवेदन से पहले जरूरी है यह शर्त

किसान क्रेडिट कार्ड की स्कीम का फायदा वो लोग ले सकते हैं। जिन्होंने Kisan Samman Nidhi Yojana में खाता खुलवाया हो। इसके लिए आप Online भी Apply कर सकते हैं। इसके लिए आपको किसान सम्मान निधि को आधिकारिक Website पर जाना होगा।

Kisan Credit Card Yojana how to Online Apply कैसे करें?

Kishan credit card के आवेदन हेतु जिस बैंक से आपका लेनदेन हो! आप उस बैंक की Website पर जाकर online apply करने के लिए निचे दिए गए Steps को फॉलो करना है 

Step-1 आगे किसान क्रेडिट कार्ड के Option को चुनें।

Step-2 यहाँ से आप ऑनलाइन आवेदन फार्म पर चले जायेंगे।

Step-3 फार्म खुलने के बाद अपनी Informations को भरें। उसके बाद फार्म को submit कर दें।

Step-4 आगे आपको एक एक Reference नम्बर दिया जायेगा।
उसको लेकर आप अपने बैंक पर भी जा सकते हैं।

जहाँ आप जरूरी दस्तावेज देकर किसान क्रेडिट कार्ड पा सकते हैं।
किसान क्रेडिट कार्ड कोऑपरेटिव बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, से भी बनवाया जा सकता है।

यहाँ भी पढ़ें- MSME क्या है? Online रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

यहाँ भी पढ़ें- PM स्वनिधि योजना क्या है?कैसे इसका लाभ उठायें?

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए जरूरी योग्यता व दस्तावेज

कृषि कार्य से जुड़ा हुआ व्यक्ति जो अपने ही खेतों में खेती करता हो! वह किसान क्रेडिट कार्ड बनवा सकता है। इसके लिए सरकार द्वारा उम्र निर्धारित की गयी है। यह उम्र न्यूनतम 18 साल और अधिकतम 75 साल। जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है, उन्हें एक सह आवेदक भी बैंक को प्रस्तुत करना होगा। यह कोई भी हो सकता है जैसे आवेदक के परिवार या कोई रिश्तेदार किसान।

क्रेडिट कार्ड के लिए दस्तावेज निम्न लिए जाते हैं

  • Adhaar Card (आधार कार्ड)
  • Identity Card (वोटर कार्ड)
  • Pan Card (पैन कार्ड)
  • Driving Lieance (ड्राइविंग लाइसेंस)
  • Land Documents (जमीनी कागजात)
  • Land Holding Records (खाता-खतौनी)
  • Existing Cropping Pattern (खसरा)

इन्हें भी पढ़ें- शेयर मार्केट में कैसे निवेश करें?

इन्हें भी पढ़ें- स्टॉक ब्रोकर क्या है? स्टॉक ब्रोकर का क्या काम होता है?

किसान क्रेडिट कार्ड के फायदे क्या हैं?

1- किसान क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल खेती की मशीन या दुकान पर कर सकते हैं।
2- किसान खाद, बीज या कीटनाशक दवाएं खरीद सकते हैं।
3- आप इस कार्ड की सहायता से एटीम से पैसा भी निकाल सकते हैं। बशर्ते आपकी लिमिट पर यह निर्भर करता है।
4- आपको हर वर्ष लोन के लिए आवेदन नहीं करना होगा।
5- किसान क्रेडिट कार्ड के साथ बीमा का भी प्रावधान होता है।

Conclusion [ निष्कर्ष ]

आज के इस ब्लॉग में हमने जाना किसान क्रेडिट कार्ड क्या है? (Kisan Credit Card kya hai in Hindi) 2020 में किसानों के लिए क्या है नया ? किसान क्रेडिट कार्ड की शुरुआत कब और कैसे हुई? हमने जाना KCC के लिए Online कैसे आवेदन किया जाता है (Kisan credit card yojana how to online apply) किसान क्रेडिट कार्ड पर ब्याज कितना लगता हैं? (Kisan Credit Card Interest Rate) और फसल बिमा योजना पर नई अपडेट क्या है?(Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana)

आशा करता हूँ! आज के इस हिंदी ब्लॉग से आपको बहुत जानकारियां मिली होंगी! आप हमारे Blog के माध्यम से Share Market, Mutual Fund की जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। आपके आसपास और भी कई किसान भाई होंगे! जिन्हें इस बारे में जानकारियां नहीं मिल पाती हैं!आप उन तक भी इस जानकारी को पहुचायें। जिससे उन्हें भी फायदा मिलें और भविष्य में सफल किसान बन सकें।

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here