विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में नए संसद भवन के निर्माण की नींव रखी जा चुकी है! लेकिन क्या आप जानते हैं जिस संसद भवन की चर्चा हम करते हैं उस संसद भवन की विस्तृत जानकारी क्या है! देश का संसद भवन क्या है (Sansad Bhawan kya hai) भारतवर्ष के आजादी के जब 75 साल पुरे हो जायेंगे,

तब यह नवनिर्मित संसद भवन एक भव्य और आकर्षक रूप में आपके सामने प्रस्तुत होगा! तो चलिए आज के इस पोस्ट में यही सब कुछ जान लेते हैं! 

लेकिन उससे पहले हमें वर्तमान संसद भवन क्या है Sansad Bhawan kya hai in Hindi इसके बारे में जानना बहुत ही जरुरी है! संसद भवन का इतिहास क्या है संसद भवन किसने बनवाया, संसद भवन में कितने खम्बे और कमरे हैं!

इस भवन का निर्माण कब कराया गया था, संसद का अधिवेशन कौन बुलाता है और इसका स्वरूप कैसा है, संसद भवन पर हमला – Sansad Bhawan Attack कब हुआ था!

Sansad Bhawan kya hai in Hinsi
Sansad Bhawan kya hai in Hindi

आगे हम जानेंगे यह नया संसद भवन देश की राजधानी में कहाँ पर बनेगा! इसकी वर्तमान में प्रस्तावित रुपरेखा कैसी है इसमें क्या कुछ नया होने जा रहा है! 

साथ में जानेंगे इसका आकार कितना होगा और पुराने संसद भवन के मुकाबले इसमें नया क्या कुछ होगा तो चलिए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं

संसद भवन क्या है – Sansad Bhawan kya hai in Hindi

भारतीय संसद भवन वह जगह है जहां पर देश के हित में जरूरी कानूनों को बनाया जाता है! कानूनों पर बहस होती है! बने हुए कानूनों में संसोधन होता है! यहां पर संसद के दो अंग लोक सभा और राज्य सभा के सदस्य बैठते हैं!

भारतीय परम्परा में इसे लोकतंत्र का सबसे बड़ा मंदिर कहा जाता है! 

संसद भवन में कई तरह की संसदीय कार्यवाही होती है। संसद की इमारतों में संसद भवन, शोध कार्यालय, स्‍वागत कार्यालय और निर्माणाधीन संसदीय ज्ञानपीठ अथवा संसद ग्रंथालय सम्‍मिलित हैं। इन सभी को संसद परिसर कहा जाता है। 

इसमें लंबे-चौड़े लान, जलाशय, फव्‍वारे और सड़कें बनी हैं। यह सारा परिसर सजावटी लाल पत्‍थर की दीवारों, लोहे के जंगलों और लोहे के ही विशाल दरवाजों से घिरा हुआ है।

संसद भवन का इतिहास – Sansad Bhawan History in Hindi

Sansad Bhawan History: वर्तमान भारतीय संसद भवन का निर्माण 1921 से 1927 के मध्य किया गया था! संसद भवन को भारत की वास्तुकला के आधार पर बनवाया गया था! वास्तुकला का अर्थ है कि यह संसद भवन भारत के चौसठ योगिणी मंदिर की आकृति के आधार पर बनाया गया है! 

यह एक विशाल वृत्ताकार भवन है! यह लगभग छ एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है! इस भवन में कुल 12 दरवाजे बने हैं जिसमें से 5 द्वार के सामने मंडप बने हुए है! 

इसका डिजाइन तो विदेशियों ने बनाया किन्तु यह भारतीय श्रमिकों की मेहनत से बना है! इसलिए इसमें भारतीय वास्तुकला की परंपरा दिखाई देती है! 

वर्तमान संसद भवन में केंद्रीय कक्ष बना हुआ है जिसके गुम्बद की ऊंचाई करीब 118 फुट है! भारत की संविधान सभा की पहली बैठक इसी केंद्रीय कक्ष में हुई थी! 

इस केंद्रीय कक्ष के तीनों ओर लोक सभा, राज्य सभा और ग्रंथालय बने हुए हैं! इसके चारो ओर एक मंजिला इमारत बानी हुई है जिसमें मंत्री संसदीय मंत्री और पार्टियों के कार्यालय बने हुए हैं! 

संसद की शक्तियां क्या हैं – Power of The Parliament

भारत की संसद की शक्तियां संविधान के अनुच्छेद 249 और अनुच्छेद 252 में निहित हैं! किसी भी विषय पर कानून बनाने पर अगर दो राज्यों की सिफारिश हो तो संसद में कानून बनने पर बहस हो सकती है! 

संसद द्वारा किसी भी प्रस्ताव को दो तिहाई बहुमत के साथ पारित किया जाता है! विदेशी शक्तियों के साथ संधियों और समझौतों को लागु करने की शक्ति संसद के पास होती है! 

अभी तक हमने जाना Sansad Bhawan kya hai इसका इतिहास क्या है History of Sansad Bhawan in Hindi – Members of Parliament. अब हम आगे जान लेते हैं नए संसद भवन का भूमि पूजन!

नया संसद भवन कैसा होगा और उसमें क्या क्या सुविधाएँ उपलब्ध रहेंगी तो चलिए आगे जानते हैं –

Parliament of india
Parliament of India

संसद के कितने सत्र होते हैं – Session of Parliamentसंसद के तीन सत्र या अधिवेशन होते हैं! 

  • पहला बजट सत्र – यह फरवरी और मई महीने के मध्य में चलता है! 
  • दूसरा मानसून सत्र – यह सत्र जुलाई – अगस्त माह में चलता है! 
  • तीसरा शीतकालीन सत्र – यह सत्र साल के अंतिम महीनों में यानि नवंबर – दिसंबर माह मे चलता है! 

नए संसद भवन का भूमि पूजन

भारतीय संसद भवन का शिलान्यास भारतवर्ष के यशस्वी व विश्व लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया! उन्होंने इस अवसर को लोकतान्त्रिक देश में नए संसद भवन निर्माण को मील का पत्थर बताया!

उन्होंने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि नया संसद भवन आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का गवाह बनेगा और 21वीं सदी के भारत की आकांक्षाएं पूरी करेगा! नए संसद भवन का निर्माण वर्तमान समय और जरुरत के अनुरूप एक परिवर्तन लाने का एक प्रयास है!

क्योंकि इसी संसद भवन से हमारा देश का सम्मान और गौरव बढ़ता है! आपको बता दें अभी नए संसद भवन का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है! बीते कुछ दिन पहले सुप्रीम कोर्ट में इसके सम्बन्ध में एक याचिका पर सुनवाई चल रही है! 

नए संसद भवन का आकार कैसा होगा? 

वर्तमान संसद भवन के मुकाबले नए संसद भवन में आधुनिक तकनीकियों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा! 2019 में वर्तमान लोकसभा स्पीकर और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु द्वारा संसद में इस भवन का प्रस्ताव रखा गया था!

यह चार मंजिला ईमारत बनाई जाएगी जो त्रिकोणीय आकार में बनेगी! आपको बता दें वर्तमान संसद भवन गोलाकार है! नए संसद भवन का निर्माण 2022 तक पूरा किये जाने की संभावना जताई जा रही है!

2024 में इस संसद भवन में संसदीय कार्यवाही शुरू की जा सकती है! नया संसद भवन का क्षेत्रफल 64,500 वर्ग मीटर में फैला होगा! इसे बनाने में करीब 972 करोड़ का खर्च आएगा जिसे 2022 तक पूरा कर लिया जायेगा! 

अंडरग्राउंड टनलों का होगा निर्माण 

नए संसद भवनों को अंदर से टनलों से जोड़ा जायेगा! जिनका उपयोग सांसदों के निजी सहायक व उनके कार्यालयों की सुविधाओं के लिए किया जायेगा! ये टनल एक दूसरे कार्यालय से जुड़े रहेंगे!

सुरक्षा के लिहाज से भी इन टनलों को बनाया जायेगा! दोस्तों हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपके सामने जरूरी जानकारियों को रखा, किन्तु कई लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि जहां एक तरह कोरोना काल चल रहा है अर्थव्यवस्था ठीक नहीं है, 

और ऐसे में सरकार को नया संसद भवन बनाने की क्या जरुरत पड़ी! 

तो इसके भी कुछ कारण हैं आइये जान लेते हैं – 

नए संसद भवन की जरुरत क्यों पड़ी? 

  • जैसा कि हम सब जानते हैं हमारे देश में संसद भवन को लोकतंत्र के मंदिर के रूप में जाना जाता है तो इसलिए संसद भवन की सुरक्षा मजबूत होनी चाहिए! और इसका एक मुख्य कारण यही है कि सुरक्षा के मुद्दे को देखते हुए नए संसद भवन का निर्माण किया जा रहा है!
  • 2021 में वर्तमान संसद भवन को 100 वर्ष हो जायेंगे इसलिए भी इमारत के निर्मित वर्ष को देखते हुए भी नए संसद भवन का निर्माण किया जा रहा है!
  • लोक सभा और राज्य सभा की सीटों को नए संसद भवन में बढ़ाया जायेगा जिससे वर्तमान संसद भवन में चल रही जगह की कमी को दूर किया जा सके! 
  • वर्तमान संसद भवन में 3 समिति कक्ष हैं किन्तु नए संसद भवन में इससे दोगुने समिति कक्ष बनाये जायेंगे! 
  • कार्यालयों को काम करने का उचित स्थान प्राप्त हो सकेगा जिसमें आम नागरिकों के आवागमन व बैठकों के संचालन की व्यवस्था भी होगी! वर्तमान संसद भवन में लोकसभा में 543 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था है किन्तु नए संसद भवन में 876 सदस्यों के बैठने की जगह होगी! 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – FAQ (Frequently asked Questions)

Q1:- संसद भवन किसने बनवाया ? – Sansad Bhawan Kisne Banaya in Hindi

Ans: कई बार भारतीय संसद भवन किसने बनवाया इस प्रश्न का जिक्र भारत के सामान्य ज्ञान में किया जाता है! वैसे वर्तमान संसद भवन को भारतीय श्रमिकों ने भारतीय परम्परा के अनुसार निर्मित किया!

लेकिन अंग्रेजों के शासन काल में इसको बनाने की शुरुआत हुई! 

भारतीय संसद भवन को बनाने की कल्पना विदेशी वास्तुकार एडविन लुट्यंस और हर्बर्ट बेकर ने की थी! तब इस भवन का शिलान्यास ड्यूक ऑफ कनॉट ने रखी थी! 

Q2:- संसद भवन कहां हैं ? – Sansad Bhawan Kahan Hai

Ans: हमारे देश का संसद भवन संसद मार्ग गोकुल नगर, जनपथ, कनाट प्लेस, नई दिल्ली, 110001 में स्थित है! भारतीय संसद भवन देश की प्रमुख पर्यटन आकर्षण जगहों में एक है! 

Q3:- संसद भवन में कितने खम्बे और कमरे हैं?

Ans: भारतीय संसद भवन का प्रथम तल 144 खम्बों पर बना हुआ है! एक खम्बे की लम्बाई 27 फीट है! संसद भवन में कुल 340  कमरे बने हुए हैं! इनमें सचिवालय, कार्यालय, समिती कक्ष बने हुए हैं! 

Q4:- भारतीय संसद का संयुक्त अधिवेशन कौन बुलाता है ? – Joint sansad session kon bulata hai

Ans: लोकसभा और राज्य सभा का संयुक्त अधिवेशन भारत के राष्ट्रपति द्वारा बुलाया जाता है! राष्ट्रपति समय समय पर गंभीर मुद्दों को लेकर दोनों सदनों का संयुक्त अधिवेशन बैठाते हैं!

भारतीय संसद भवन के संयुक्त अधिवेशन की अध्यक्षता लोकसभा अध्यक्ष द्वारा की जाती है! लोकसभा अध्यक्ष के अनुपस्थति में अध्यक्षता लोकसभा उपाध्यक्ष द्वारा की जाती है!   

Q5:- संसद का पहला संयुक्त अधिवेशन कब और क्यों बुलाया गया?

Ans: भारत की संसद का प्रथम संयुक्त अधिवेशन 1961 में बुलाया गया था! यह समय जवाहर लाल नेहरू के प्रधानमंत्री का समय था! तब दहेज निरोधक कानून को लेकर यह संयुक्त अधिवेशन बुलाई गयी थी! 

Q6:- संसद भवन पर हमला कब हुआ था ? – Sansad Bhawan Attack kab hua

Ans: आज से करीब 19 साल पहले यानि 2001 में भारत के संसद भवन पर अचानक हमला हुआ था! तब तारीख 13 दिसंबर 2001 थी और शीतकालीन सत्र चल रहा था! 

सबसे बड़े आतंकी संघठन लश्कर ऐ तैयबा और जैश ए मोहम्मद के आतंकियों ने इस घटना को अंजाम दिया था! उस वक्त इस हमले में 14 लोग मारे गए! सुरक्षा कर्मियों ने 5 आतंकियों को मार गिराया था! 

Q7:- संसद भवन का पंखा उल्टा क्यों होता है? 

Ans: यह बड़ा रोचक सवाल है अक्सर संसद भवन का पंखा उल्टा क्यों होता है? इस सवाल का जवाब जानने की इच्छा सभी को रहती है! जब वर्तमान संसद भवन का निर्माण हुआ था तब से इन उलटे पंखों को आज भी वैसे ही लगाया गया है! 

संसद भवन के गुम्बदों की लम्बाई अधिक होने के कारण उल्टी छतों पर पंखों को लगाना नामुमकिन था! अगर लग भी जाते तो ये नीचे तक हवा नहीं दे पाते!

इसलिए उस समय इन पंखों को निचे ही उल्टा लगा दिया गया इससे हवा चारों और जाने लगी!

धीरे धीरे ऐसी और दीवार वाले पंखों का इस्तेमाल होने लगा किन्तु इन उलटे पंखों को हटाया नहीं गया! 

Q8:- संसद भवन में कितने सदस्य होते हैं ? – Members of Parliament

Ans: वर्तमान में संसद भवन में लोकसभा के सदस्यों की संख्या 543 है! राज्य सभा के सदस्यों की संख्या 245 है! लोकसभा का सदस्य बनने के लिए न्यूनतम 25 वर्ष की आयु होनी चाहिए! और राज्य सभा का सदस्य बनने के लिए न्यूनतम उम्र 30 वर्ष होनी चाहिए! 

जैसा कि आप सब जानते होंगे दिनांक 10 दिसंबर वर्ष 2020 को नए संसद भवन की नींव रखी गयी! आप सभी ने इसका लाइव प्रसारण नेशनल टेलीविजन पर देखा होगा!

देशवासियों के लिए यह पहला मौका था कि लोग लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर का भूमि पूजन का कार्यक्रम देख रहे थे! भूमि पूजन के बाद 1 बजकर 30 मिनट पर सर्वधर्म प्रार्थना प्रारम्भ की गयी! 

इन्हें भी पढ़ें 

निष्कर्ष – Conclusion

दोस्तों आज के इस Hindi Blog पोस्ट में हमने संसद भवन क्या है (Sansad Bhawan Kya Hai in Hindi), संसद भवन का इतिहास क्या है (Sansad Bhawan History in Hindi)

संसद भवन पर हमला कब हुआ था! (Sansad Bhawan Attack) और संसद भवन किसने बनवाया (Sansad Bhawan kisne Banaya) जाना!

आशा करते है हम आपको Sansad Bhawan kya hai और संसद भवन से जुडी बहुत सी जानकारी दे पाये! यदि आपके पास इस Hindi पोस्ट को लेकर किसी प्रकार का कोई प्रश्न या सुझाव है तो कृपया निचे कमेंट करके जरूर बताये! हमें बहुत ख़ुशी होगी!

दोस्तों हमारे इस पोस्ट को Social Side (Facebook, WhatsApp, Twitter) में Share अवश्य करें! और अपने जरूरी सुझाव हमारे साथ साझा अवश्य करें! 

पूरा पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद! 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here