क्या आप जानते GDP क्या है GDP kya hai in Hindi जीडीपी का Hindi में Full Form क्या है Full Form of GDP in Hindi जीडीपी शब्द कहाँ से आया! वो पुराना समय हुआ करता था जब देशों की वित्तीय संस्थाएं देश के अंदर बनने वाले उत्पाद का कुल मूल्य बताती थी! देश में अनेकों नए उत्पाद बनते थे लेकिन उनसे कुल कितनी कमाई हुई। लेकिन इसका अंदाजा सही सही नहीं लग पता था किन्तु जैसे जैसे हम नई तकनीकी सुविधाओं की तरफ बढ़ने लगे तो सब कुछ और आसान होने लगा। 

आज के इस ब्लॉग में हम जीडीपी से जुडी हुई प्रत्येक जानकारियों को जानने की कोशिश करेंगे! जीडीपी क्या है GDP kya hai in Hindi इसको साधारण भाषा में कैसे परिभासित करेंगे! साथ में हम जानेंगे GDP की दर कौन जारी करता है जीडीपी की शुरुवात कहाँ से हुई! इससे पहले हिंदी ब्लॉग के पोस्ट में हमने जाना था GST (Goods and Services Tax) क्या है! हमने Share Market के बारे में सम्पूर्ण जानकारी भी जानी थी। 

इस ब्लॉग के माध्यम से जानेंगे हम GDP की कार्यप्रणाली के अंतर्गत CSO क्या है! CSO kya hai in Hindi CSO का Hindi में Full Form of CSO in Hindi तो चलिए आगे बढ़ते हैं

GDP kya hai
GDP kya hota hai

Full Form of GDP

GDP Full Form – जीडीपी का Full Form “Gross Domestic Product” है। किसी देश की आर्थिक सेहत को मापने का यह सटीक जरिया माना जाता है। 

Full Form of GDP in Hindi

GDP का Full Form in Hindi – जीडीपी का Hindi में Full Form “सकल घरेलू उत्पाद” है! भारत में GDP की गणना तीन महीने में (Quarterly) की जाती है। 

आइये जानते हैं जीडीपी क्या है GDP kya hai in Hindi

जीडीपी क्या है GDP kya hai in Hindi

GDP किसी देश की आर्थिक स्तर को मापने के लिए उपयोग में लाई जाती है। हमारे देश में जो भी उत्पादन होता है! उसकी आय का बाजार मूल्य GDP कहलाती है। GDP पहले वित्तीय वर्ष में मापा जाता था! लेकिन अब यह तिमाही मापा जाने लगा है। यह भारतीय अर्थव्यवस्था का एक बुनियादी आर्थिक माप है। कभी कभी अर्तव्यवस्था को मापने के लिए घरेल सकेलु उत्पाद की जगह GDI (Gross Domestic Income) का प्रयोग किया जाता है! इसमें वही आंकड़ें मापे जाते है जो व्यय विधि से प्राप्त होते हैं! 

GDP को हम तीन प्रारूपों से हम समझ सकते हैं;

पहला– यह देश में अंतिम माल और सेवाओं का बाजार मूल्य है। यह निश्चित समय अवधि में उत्पादित माल और सेवाओं के मूल्य के बराबर है!

दूसरा– यह उद्योगों द्वारा उत्पादन की प्रत्येक अवस्था पर कुल वर्जित मूल्य और छूट रहित कर के बराबर होती है।

तीसरा– यह देश में उत्पादन के द्वारा उत्पन्न आय के योग के बराबर है! यह कर्मचारियों की क्षति पूर्ति और राहतकर में मिलने वाली छूट को भी व्यवस्थित करता है।

जीडीपी की शुरुवात कहाँ से हुई

GDP का विचार सर्वप्रथम अमेरिका के एक अर्थशास्त्री के दिमाग से निकला। जिनका नाम था साइमन कुजलैर। उन्होंने 1935 से 1944 के बीच इस शब्द का प्रयोग किया। अमेरिका के घरेलू उत्पाद के आय को जानने के लिए किया था। उनके लिए यह एक परिचय मात्र था। बाद में साइमन ने यह शब्द अमेरिका की कांग्रेस में परिभाषित किया। मुख्यतः दुनिया में तब ऐसा दौर था जब देशों की आर्थिक व्यवस्था बैंकिग संस्थाओं के जिम्मे था। 
बशर्ते कुछ समय बाद साइमन के इस शब्द को IMF(International Mudra fund) अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने इस्तेमाल किया था। जहाँ से इस शब्द का इस्तेमाल करना अन्य देशों ने करना शुरू किया।

जीडीपी की दर कैसे निकाली जाती है

सकल घरेलू उत्पादन के मापन का एक साधारण तरीका है।

GDP(सकल घरेलू उत्पाद)= उपभोग(Consumption) + कुल निवेश GDP =उपभोग+सकल निवेश+सरकारी खर्च+(निर्यात-आयात)

GDP= Consumption+Gross Investment+ Expenditure+(import-export)

GDP तीन प्रमुख घटकों पर आधारित है

1- Agriculture (कृषि)

2- Industries (उद्योग)

3- Services (सेवा)

इनमें आय घटने और बढ़ने के औसत पर GDP तय की जाती है! यह दर देश की तरक्की की ओर संकेत करता है। GDP की दर बढ़ी तो आर्थिक विकास का स्तर भी बढ़ेगा। अगर GDP के दर में गिरावट आई तो! रोजगार में कमी व महंगाई में खासा असर देखने को मिलेगा।

GDP को अंतराष्ट्रीय मानक कैसे मानें

GDP (सकल घरेलू उत्पाद) को मापने के लिए इसके मानक के रूप में अंतराष्ट्रीय पुस्तक! System of National Accounts (1993)  को दर्शाया गया है। जिसे IMF (International Monetary Fund) अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष , आर्थिक विकास संगठन, संयुक्त राष्ट्र संघ और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों द्वारा तैयार किया गया है। इस पुस्तक का प्रकाशन 1968 में किया गया था! जिसे SNA68 या SNA93 भी कहा जाता है। हालाँकि अमेरिका के प्रयोग के बाद इसे IMF ने अंतराष्ट्रीय मानक बनाया।

यहाँ भी पढ़ें- GST क्या है? GST कितने प्रकार का होता है? 

यहाँ भी पढ़ें- Mutual Fund क्या है? Mutual Fund में कैसे निवेश करें? 

CSO क्या है CSO kya haiGDP के आकंड़े कहाँ से जारी होते हैं

Full Form of CSO

CSO का Full-Form Central Statistics Office of India है! यह एक सुव्यवस्थित ग्राफिकल इकाई है! 

Full Form of CSO in Hindi

CSO का Hindi में Full-Form “केंद्रीय सांख्यिकी संगठन” है! संगणक केंद्र भी CSO के अंतर्गत आता है जो दिल्ली के आरकेपुरम में है!

GDP के आकंड़े एक सरकारी संस्था CSO से जारी होते हैं CSO भारत में सांख्यिकी गतिविधियों के समन्वय और सांख्यिकी मानकों के विकास के लिए काम करता है। इस संगठन का मुख्य कार्यालय सरदार पटेल भवन संसद मार्ग दिल्ली में है! केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय का प्रमुख महानिदेशक होता है जिनके अंतर्गत राष्ट्रीय लेखा विभाग सामाजिक सांख्यिकी विभाग प्रशिक्षण विभाग एंव समन्वय और प्रकाशन विभाग आते हैं। यह देश भर के उत्पादन से हुए आय और सेवाओं का आंकड़ा जुटाता है.इसमें कई मानक सूचकांक भी शामिल किये जाते हैं।

अगर हम एक साधारण भाषा में कहें! CSO क्या है (CSO kya hai in Hindi) CSO भारतीय अर्तव्यवस्था प्रक्रिया का आधार है! जो विदेशों की जीडीपी के साथ भारत की जीडीपी की  तुलना का एक प्रमाण प्रदर्शित करता है।

यहाँ भी पढ़ेंSIP क्या है in Hindi? SIP में कैसे निवेश करें? 

यहाँ भी पढ़ेंShare Market में निवेश कैसे करें? निवेश हेतु कुछ महत्वपूर्ण तथ्य! 

मार्च 2020 में GDP कितना था

दोस्तों जैसा आप जानते हैं! वर्ष 2020 में Covid-19 की वजह से दुनिया भर के बाजारों में मंदी का दौर है! भारत की GDP 1.9% इस तिमाही महीने में आंकी गयी थी.एक न्यूज एजेंसी के अनुसार यह 29 साल बाद ऐसा हुआ है। दोस्तों ऐसा माना जा रहा है कि अगले तिमाही में जीडीपी इससे भी निचे गिरती है तो, यह गिरावट ४१ साल का रिकार्ड तोड़ सकती है।

Conclusion [ निष्कर्ष ]

आज के ब्लॉग में हमने जाना जीडीपी क्या है! GDP kya hai in Hindi GDP की Full Form क्या है! full form of GDP इसे कैसे हम परिभषित कर सकते है! हमने जाना CSO क्या है CSO kya hai in Hindi जीडीपी की शुरुवात कहाँ से हुई! इसके अंतरास्ट्रीय मानक व आंकड़ों के बारे में भी हमने काफी कुछ जाना और समझा! 

आशा करता हूँ आज के इस महत्वपूर्ण ब्लॉग से आपको काफी कुछ जनने को मिला होगा!  हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ रिश्तेदारों के साथ शेयर अवश्य करिये! हमारे इस ब्लॉग को जरूर Subscribe अवश्य करें! भारतीय अर्थव्यवस्था से जुड़े सवाल या फिर सुझाव आप हमें हमारे कमेंट बॉक्स में लिखकर भी भेज सकते हैं!

पूरा पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here