नमस्कार दोस्तों, क्या आप जानते हैं ICU क्या होता है? (ICU Kya Hai) और इसका फुल फॉर्म क्या होता है? (ICU Full Form in Hindi).

अक्सर आपने देखा होगा जब भी किसी को गंभीर चोट लग जाती है या फिर कोई गंभीर बीमारी से किसी मरीज का इलाज चल रहा होता है तो ऐसे में उन्हें ICU Unit में रखा जाता है!

आज के समय में सभी छोटे व बड़े अस्पतालों में इन Units का होना बहुत ही जरुरी है! क्यूंकि जब भी इलाज के दौरान डाक्टरों द्वारा किये गए उपचार के बाद भी मरीज ठीक नहीं होता है तो ICU Unit ही एक आखिरी उम्मीद बचती है! 

तो आज के इस पोस्ट में हम ICU के बारे में विस्तार से जानेंगे जैसे मरीज को कब आईसीयू में एडमिट किया जाता है, ICU में Use होने वाले उपकरण क्या होते हैं? और भी बहुत कुछ! तो चलिए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं – 

ICU Kya Hai in HIndi

[ What is ICU in Hindi – ICU Full Form in Hindi ]

आईसीयू का फुल मीनिंग – ICU Means in Hindi

ICU Full Form in Hindi: आईसीयू का Full Form Intensive Care Unit होता है! इसका हिंदी में मीनिंग गहन चिकित्सा विभाग होता है!

किसी भी मरीज के इस ICU Unit में Admit हो जाने के बाद उसके देखरेख में कोई भी कोर कसर नहीं छोड़ी जाती है! इस तरह के ICU Units सभी बड़े अस्पतालों में होते हैं! 

आईसीयू यूनिट्स क्या है – What is ICU in Hindi

ICU Kya Hai: आईसीयू चिकित्सा से संबंधित आधुनिक उपकरणों से लैस एक चिकित्सा विभाग होता है! जहां पर मरीज की देखरेख बहुत गहनता से की जाती है!

इस विभाग में मरीज के इलाज में कोई भी कमी नहीं की जाती है! Emergency में Admit किये गए मरीज को इस तरह के Units की अधिक जरूरत होती है! 

ICU Units में एडमिट मरीजों को निरंतर अवलोकन की सख्त जरूरत होती है इसलिए ICU Units में ऐसे डॉक्टर्स और नर्सों की नियुक्ति की जाती है! जो अनुभवी होते हैं!

यहां पर कई विशेष उपकरणों को रखा जाता है इसलिए इसे विशेष देखभाल इकाई भी कहा जाता है! आईसीयू में एक दिन में एक मरीज के इलाज का खर्चा लगभग 25,000 से शुरू होता है! 

Covid-19 के शुरुआती दिनों में कई प्राइवेट अस्पतालों ने आईसीयू का चार्ज एक दिन का 10,000 के आसपास किया था! 

आईसीयू में किन मरीजों को एडमिट किया जाता है?

किसी को जब दुर्घटना में अधिक चोट लग जाती है या फिर ऐसे मरीज जिनको Normal Treatment से आराम नहीं मिल पाता है तो ऐसे मरीजों को ICU Unit में Admit किया जाता है!

इस वार्ड में कोई भी Normal Bad नहीं होते हैं! इनमें चिकित्सा उपकरणों से लैस बैड लगे होते हैं! इन उपकरणों को जीवन सहायता उपकरण भी कहा जाता है!

ICU Ward की किसी भी दूसरे साधारण वार्ड के मुकाबले कुछ अलग विशेषताएं होती हैं, जैसे उच्च चिकित्सा प्रशिक्षण टीम द्वारा 24 घंटे मरीजों की देखरेख, बहुत कम लोगों से Unit में जाने अनुमति, प्रभावी उपकरणों और दवाइयों का उपयोग होना!

बिमारियों के हिसाब से ICU में भी अलग अलग Units होते हैं इस तरह इनमे मशीनें भी अलग अलग होती हैं! आईसीयू वार्ड में रेफर करने का कार्य फिजिशयन का होता है!

आईसीयू में उपयोग होने वाले उपकरण क्या होते हैं – Use Devices in ICU

ICU वार्ड में सबसे अधिक चिंता करने वाली बात यह है कि सभी उपकरण एक ही मरीज से जुड़े होते हैं! आईसीयू वार्ड में अनेक तरह के उपकरणों का प्रयोग किया जाता है जिनको Doctors & Machine Operators द्वारा संचालित किया जाता है! 

1. वेंटिलेटर मशीन (Ventilator Machine)

यह मशीन एक तरह से जीवनदायिनी होती है! वेंटिलेटर में रोगी को तब रखा जाता है जब वह खुद साँस भी नहीं ले पाते हैं! वेंटिलेटर से Endotracheal Tube को मरीज की सांसनली में लगाया जाता है!

यह Tube फ्लैक्सिबल होती है जो मरीज के साँस लेने में मदद करती है! इसमें मरीज को अधिकतर बेहोश किया जाता है! 

2. हार्ट मॉनिटर (Heart Monitor)

यह एक रंगीन रेखाओं के साथ चलने वाले एक रंगीन टीवी की तरह दिखता है! यह रेखाएं मरीज के ह्रदय की गतिविधियों को मापती हैं!

इसमें मरीज की त्वचा से चिपकने वाले Sticky Paid का प्रयोग किया जाता है! 

Heart Monitor से सुनाई देने वाली आवाज डॉक्टर्स और नर्सों को सचेत करने के लिए होती है! ताकि कभी मरीज की धडकने तेज हों या कोई अन्य दिक्कत हो तो उन्हें पता लग सके! 

3. डायलिसिस (Dialysis Machine)

यह एक तरह का Artificial Method (कृत्रिम विधि) होता है! अधिकतर इस मशीन का प्रयोग वृक्क से जुडी बीमारियों को ठीक करने में किया जाता है!

इसके द्वारा मरीज के शरीर में खराब खून को दो से तीन घंटे में साफ़ किया जाता है! 

किडनी के फेल हो जाने पर Dialysis Method द्वारा किडनी स्थायी या अस्थायी रूप से स्थापित की जाती है! यह ह्रदय की हर धड़कन के समय ह्रदय की मांसपेशियों में होने विध्रुवीकृत के समय शरीर पर Microelectronics Changes को फैलाता है!

4. सिरिंज पंप (Syringe Pump)

इसका उपयोग मरीज को दवा देने में किया जाता है! Bloodstream में डालकर दवाइयां रोगी के शरीर तक पहुंचाई जाती है! एक तरह से आप मान सकते हैं पतली नलियों के द्वारा यह कार्य किया जाता है! 

5. डिफाइब्रिलेटर (Defibrillator)

इसके द्वारा मरीज को बिजली के झटके दिए जाते हैं! यह देने का कारण यह है कि जब भी दिल की धकड़नो की गति अनियमित हो जाती है तो तब उन्हें एक कर्म में पहले की तरह लाने की कोशिश की जाती है! ताकि मरीज का दिल प्राकृतिक विद्युत् लय में वापस आ जाये! 

7. पल्स ऑक्सीमीटर (Pulse Oximeter)  

यह बहुत छोटा डिवाइस होता है! इससे मरीज के शरीर में उपस्थित खून में ऑक्सीजन की मात्रा को मापा जाता है! मरीज का दिल कितनी बार धड़क रहा है यह भी Pulse Oximeter से मापा जाता है! 

8. ब्लड वार्मर (Blood Warmer)

इस उपकरण का उपयोग जब भी मरीज को खून चढ़ाया जाता है तो उससे पहले Blood Warmer में खून को गर्म किया जाता है! खून को रोगी के शरीर के तापमान के बराबर ही गर्म किया जाता है! 

इसके अलावा और भी कई ऐसे उपकरण हैं जिनका प्रयोग ICU Units में किया जाता है! Treatment के दौरान कई Tubes का भी इस्तेमाल होता है जैसे Feeding Tube, Suction Tubes, Nasogastric Tubes इत्यादि! 

आईसीयू यूनिट्स में सावधानियां – ICU Protocols in Hindi 

आईसीयू में Admit मरीज बहुत ही गंभीर होते हैं इसलिए इस वार्ड में आने जाने की अधिक अनुमति नहीं होती है! इस वार्ड के कुछ अलग से Protocols होते हैं! जिन्हें वार्ड में काम करने वाले डॉक्टर्स, नर्स और जो मरीज से मिलने जाते हैं उनको इन Protocols का पालन करना होता है! 

  • मरीज से मिलने वालों की संख्या बहुत ही सिमित होती है और ICU वार्ड में मोबाईल फोन ले जाने की अनुमति नहीं होती है! अगर जो किसी आवश्यक रूप ले जा रहे हैं तो उन्हें ICU Ward के अंदर मोबाईल को बंद कर देना चाहिए!  
  • ICU Unit के अंदर साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखना होता है! संक्रमण न फैले इसके लिए Doctors & Nurses द्वारा Gloves का उपयोग किया जाता है! ICU Unit में फल और किसी भी तरह के फूल लें जाने की अनुमति नहीं होती है! 
  • जिन्हें भी आप मिलने जा रहे हैं वो शरीर से अस्वस्थ हालत में हो सकते जैसे उन्हें बेहोश किया गया हो, मरीज को सूजन हो या मरीज अन्य उलझन में हो, तो इसमें आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है! 
  • ICU Unit में आने जाने के लिए ICU कर्मचारियों के द्वारा पास बने होते हैं! जिनके अनुसार ही कोई भी परिचित मरीज के पास जा सकता है!
  • आईसीयू वार्ड में किसी भी उपकरण को छूने की अनुमति नहीं होती है! वार्ड के अंदर ज्यादा बातचीत या किसी प्रकार का शोरगुल करना प्रतिबंधित होता है!  

निष्कर्ष – Conclusion

आज के इस पोस्ट में हमने ICU के बारे में सम्पूर्ण जानकारी, आईसीयू क्या होता है? (ICU Kya Hai) आईसीयू का फुल मीनिंग – ICU Means in Hindi आईसीयू में किन मरीजों को Admit किया जाता है? ICU में Use होने वाले उपकरण क्या होते हैं, प्राप्त की!

हमें उम्मीद है आप सभी पाठकों को इस पोस्ट [आईसीयू क्या है – ICU Full Form in Hindi] से ICU Units के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला होगा!

अगर आपके पास इस पोस्ट से संबधित किसी प्रकार का कोई प्रश्न या सुझाव हो तो हमें Comment Box में Comment करके जरूर बताये! और पोस्ट को Social Media (WhatsApp, Facebook, Instagram, Twitter Etc.) पर जरूर Share कीजिये!

पूरा पोस्ट पढ़ने हेतु आपका बहुत बहुत धन्यवाद! 

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here