Rate this post

हेल्लो दोस्तों, आज के इस हिंदी लेख में हम डिप्रेशन क्या होता है? डिप्रेशन क्यों होता है? (Depression in Hindi) डिप्रेशन के लक्षण और उपाय क्या होते है? तथा डिप्रेशन से बाहर कैसे आए? के बारे में विस्तार से बताने वाले है!

आज के समय में बच्चो और व्यस्कों से लेकर युवाओ में डिप्रेशन दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है! डिप्रेशन की शुरुवात किसी भी उम्र से हो सकती है! इसलिए सही समय पर इस बीमारी के बारे में जानकारी ही इसका सबसे बड़ा बचाव होता है!

क्या आपको ऐसा महसूस हुआ कि आपको Depression की बीमारी हो गई है या आपके आस-पास का कोई इंसान डिप्रेशन में चला गया है! लेकिन आप यह पूरे यकीन से नहीं कह पा रहें की आपको या किसी और को Depression ही हुआ है!

डिप्रेशन को हिंदी में अवसाद भी कहते है! तो आज के इस हिंदी ब्लॉग में हम आपकी इस समस्या को अपने इस डिप्रेशन के बारे में आर्टिकल के माध्यम से दूर करने वाले है! 

पहले समय में चालीस वर्ष की उम्र को अवसाद यानी की डिप्रेशन का मूलत माना जाता था! लेकिन आजकल इस तनाव युक्त और अत्यधिक महत्वकांक्षी जीवन में डिप्रेशन किसी भी उम्र में से हो सकता है!

विश्व स्वाथ संगढन यानी की W.H.O के अनुसार हर 6 महिला में 1 और 8 पुरुषों में एक डिप्रेशन का शिकार है!

तो चलिए आगे बढ़ते है और डिप्रेशन क्यों होता है? (Depression in Hindi) डिप्रेशन के लक्षण और उपाय क्या होते है? तथा डिप्रेशन से बाहर कैसे आए? के बारे में विस्तार से जानते है!

depression ke lakshan

आज के मॉडर्न जमाने में भी लोग अपनी Mental health को इतना ज्यादा seriously नहीं लेते! और डिप्रेशन जैसी खतरनाक बीमारी को भी सिर्फ यह कह कर टाल देते कि आजकल तो सबको ही दुख और परेशानी है, इसे डिप्रेशन नहीं कहा जा सकता!

लोग ऐसी बातें सिर्फ इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें इस बात की जानकारी होती कि असल में डिप्रेशन क्या होता है? क्यों होता है? इसके लक्षण क्या हैं और डिप्रेशन से बाहर कैसे आए!

Migraine Kya Hota Hai – माइग्रेन के लक्षण और घरेलू उपचार क्या होते है?

अगर आप भी ऐसे लोगों में से एक हैं, जिन्हें असल में डिप्रेशन की जानकारी नहीं तो आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें!

डिप्रेशन क्या होता है? What is Depression in Hindi

Depression, मनोदशा यानी mood से जुड़ी एक गंभीर बीमारी है! इसमें मरीज को sadness और किसी भी काम में interest ना लेने जैसी strong feelings लगातार आती रहती है!

depression in Hindi

यह कोई ऐसी बीमारी नहीं है, जिसे कुछ दिन तक दवा खाकर ठीक किया जा सकते! डिप्रेशन की बीमारी मरीज को कम से कम हफ्तों 2 हफ्तों तक तो रहती ही है!

कुछ मरीजों में यह बीमारी कई महीनों या सालों तक भी हो सकती है!

डिप्रेशन क्यों होता है? Depression Kya Hai

डिप्रेशन क्यों होता है इसका exact कारण अभी डॉक्टरों को भी नहीं मालूम है! फिर भी डिप्रेशन के अलग-अलग cases पर स्टडी करने के बाद डॉक्टरों ने यह अनुमान लगाया है कि डिप्रेशन इन कारणों से हो सकता है!

1). कुछ विशेष दवाएं – कुछ विशेष तरह की दवाएं जैसे – एक्ने की दवा isotretinoin, एंटी वायरल दवाएं interferon-alpha और corticosteroids डिप्रेशन होने के risk को बढ़ा सकती है!

2). मौत या नुकसान – किसी अपने की मौत या कोई भारी नुकसान लोगों में गहरी दुख की भावना को पैदा करता है! और अगर यह दुख लंबे समय तक बना रहे तो यह डिप्रेशन का एक अहम कारण बन सकता है!

3). झगड़े – अगर कोई इंसान ऐसे माहौल में रह रहा है जहां, रोज झगड़े होते हैं! तो वह निश्चित रूप से परेशान होगा और इन झगड़ों के बारे में दिन रात सोचने लगेगा! ऐसे में उस इंसान के डिप्रेशन में जाने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी!

4). बुढ़ापा – बुढ़ापे में अक्सर लोगों के पास बात करने के लिए कोई पार्टनर नहीं होता! इसलिए वे अपनी feelings किसी के साथ शेयर नहीं कर पाते और अकेले पड़ जाते हैं! ऐसी situation में भी काफी ज्यादा संभावना होती है कि इंसान को डिप्रेशन हो जाए!

5). जीन (Genes) – अगर आपके परिवार में पहले कोई व्यक्ति depression का मरीज रह चुका है तो काफी ज्यादा संभावना है कि आपको भी यह बीमारी हो! क्योंकि depression, जीन्स के जरिए एक पीढ़ी (generation) से दूसरी generation  में जाने वाली बीमारी है!

6). जेंडर – पुरुषों की तुलना में महिलाओं को डिप्रेशन होने की संभावना 2 गुनी रहती है! इसका सटीक कारण तो नहीं पता, लेकिन डॉक्टर अंदाजा लगाते हैं कि महिलाओं में समय-समय पर होने वाले हार्मोन्स में बदलाव की वजह से ऐसा होता है!

7). बीमारियों की वजह से – कभी कभार ऐसा होता है कि इंसान को कोई बड़ी बीमारी हो जाती है! और इसी बीमारी से होने वाली तकलीफों के कारण मरीज इतना ज्यादा निराश हो जाता है, कि यह निराशा उसके शरीर में डिप्रेशन को ट्रिगर कर देती है!

8). प्रताड़ना (torture) – अगर कोई इंसान किसी कारण वश शारीरिक या मानसिक रूप से प्रताड़ित हो रहा है! और इसके खिलाफ आवाज भी नहीं उठा पा रहा तो आगे चलकर उस इंसान को डिप्रेशन हो सकता है!

डिप्रेशन का लक्षण क्या है? Depression Symptoms in Hindi

डिप्रेशन का लक्षण हिंदी – जिस लोगों को Depression होता हैं उनमें ये कॉमन Signs और symptoms (लक्षण) दिखाई देते हैं!

  • ऐसी activity जिसमें पहले मजा आता था, पर अब उसमें रुचि कम हो जाना
  • उदास महसूस करना
  • भूख में बदलाव
  • ना चाहते हुए भी धीरे-धीरे वजन घटना या बढ़ने लगना
  • बहुत कम या बहुत ज्यादा सोने लगना
  • अक्सर बेचैनी महसूस करना
  • थकान महसूस करना
  • चाल और बोलने की स्पीड कम हो जाना
  • सोचने में, या किसी काम पर फोकस करने में, या कोई निर्णय लेने में परेशानी महसूस करना
  • मरने का, या आत्महत्या का ख्याल आना

महिलाओं में डिप्रेशन के लक्षण क्या होते है? Depression in Hindi

ऊपर बताए गए साधारण लक्षणों के अलावा महिलाओं में डिप्रेशन के कुछ विशेष लक्षण भी देखने को मिलते हैं!

mahilao me Depression ke lakshan

जैसे –

  • चिड़चिड़ापन
  • घबराहट
  • नकारात्मक विचार
  • थकान
  • मूड में अचानक से बदलाव आते रहना

पुरुषों में डिप्रेशन के लक्षण क्या होते है? Depression in Hindi

पुरुषों में भी ऊपर बताए गए साधारण लक्षणों के अलावा कुछ विशेष लक्षण देखने को मिलते हैं –

  • ज्यादा अल्कोहल पीना शुरू कर देना
  • ज्यादा गुस्सा करने लगना
  • खतरनाक कामों को जानबूझ कर करना
  • बिना ब्रेक लिए, लगातार काम करना
  • परिवार को इग्नोर करना
  • गाली गलौज करना
  • दूसरों को कंट्रोल करने की कोशिश करना
  • अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में परेशानी महसूस करना

बच्चों में डिप्रेशन के लक्षण क्या होते है? Depression in Hindi

आपको जानकर हैरानी होगी कि U.S में 3.2% बच्चे जिनकी उम्र 3 से 17 साल तक के बीच है, वे डिप्रेशन का शिकार हैं!

स्कूल में पढ़ाई का बढ़ता हुआ प्रेशर और कॉम्पटीशन में सबसे आगे रहने का प्रेशर, बच्चों में डिप्रेशन के मुख्य कारणों में से एक है!

BP Check Kaise Kare – घर बैठे ब्लड प्रेशर नापने का तरीका, बीपी चेक करने की मशीन को क्या कहते हैं?

छोटे बच्चे डिप्रेशन से परेशान होने के बावजूद भी अपनी feelings किसी से शेयर नहीं कर पाते है! और अंदर ही अंदर उनकी ये बीमारी बढ़ती जाती है!

बच्चों में Depression के Symptoms कुछ इस तरह से हैं!

  • छोटी छोटी बातों पर अक्सर रोना
  • थकान महसूस करना
  • ज्यादा बदमाशी करना
  • छोटे बच्चों में चिपचिपापन

डिप्रेशन से बाहर कैसे आए? Depression in Hindi

दोस्तों, अगर आप भी यही सोचते हैं कि डिप्रेशन से बाहर कैसे आए या डिप्रेशन कैसे दूर करें! तो हम आपको बता दें कि डिप्रेशन एक ऐसी बीमारी है, जिसे ठीक करने के लिए आपको हर एक संभव उपाय अपनाने होंगे!

जैसे – दवाएं, थेरेपी और लाइफस्टाइल में बदलाव! इन सभी उपायों के बारे में हमने नीचे बात की है!

इसलिए आप नीचे बताए गए उपायों को अपनी जिंदगी में जरूर आजमाएं! और हम आपसे वादा करते हैं कि हमारे बताए गए उपाय आपकी जिंदगी को पहले जैसा आसान और नॉर्मल बनाने में जरूर मदद करेंगे!

  1. डॉक्टर से संपर्क करें
  2. थेरेपी लें
  3. पॉजिटिव सोचें
  4. लिखें या रिकॉर्ड करें
  5. अपने Goals सेट करें
  6. अपने आप को इनाम दें
  7. अपनी पसंदीदा चीज़ें करें
  8. अपनी पसंदीदा चीज़ें करें
  9. कुछ नया करें
  10. मेडिटेशन और योग करें
  11. पर्याप्त नींद लें

1). डॉक्टर से संपर्क करें

अगर आपके अंदर डिप्रेशन के लक्षण दिखाई दे रहे तो दिमाग के डॉक्टर से संपर्क करने में देर ना करें! डॉक्टर की दी गई दवाएं और नीचे बताए गए अन्य उपाय जब साथ मिलकर काम करेंगे तो आप जल्दी से जल्दी ठीक हो जायेंगे!

2). थेरेपी लें

अगर आपके लिए संभव हो तो डॉक्टर की दवाओं के अलावा किसी थेरेपिस्ट से भी कॉन्टैक्ट करें और उनसे थेरेपी लें!

डिप्रेशन को ठीक करने के लिए आप TalkTherapy, Cognitive therapy, Behavioral therapy आदि ले सकते हैं!

3). पॉजिटिव सोचें

दोस्तों, अगर आपको पता चलता है कि आपको डिप्रेशन है तो ये सोचकर दुखी ना हों कि आपको एक बहुत बड़ी बीमारी हो गई है! या आप इसे कैसे ठीक कर पाएंगे!

हमेशा इस बात को याद रखें कि डिप्रेशन को सही ट्रीटमेंट की मदद से ठीक किया जा सकता है! और आप बिना हार माने अपने डिप्रेशन को ठीक करने की पूरी कोशिश करेंगे!

आप यह सोचें कि आपको अपने लिए और जो लोग आपसे प्यार करते हैं, उनके लिए आपको ठीक होना है और अपनी जिंदगी को नर्क नहीं बनाना है!

4). लिखें या रिकॉर्ड करें

जब आपको दुख का एहसास होता या निराशा होती तो उस वक्त, आपके दिमाग में कैसे ख़्याल आते है! उसे एक डायरी में लिखें या मोबाइल में रिकार्ड करें!

इसके बाद जब आप नॉर्मल महसूस करें तो उसे भी लिखें या रिकॉर्ड करें! कुछ दिनों बाद, जब आप इसे पढ़ेंगे या सुनेंगे तो आपको एहसास होगा कि आप अपने दुख के वक्त जैसा सोच रहे थे, सच्चाई वो नहीं है और फिर आपको अच्छा महसूस होगा!

अपने मन की आवाज ना सुनें – डिप्रेशन में अक्सर मरीज को नकारात्मक विचार आते हैं! इसलिए अगर आप डिप्रेशन के मरीज हैं तो कभी भी अपने मन की ना सुनें और आपके मन में जो भी आए उसका बिल्कुल उल्टा करें!

जैसे – अगर आपके सारे दोस्त घूमने जा रहे और वे आपको भी घूमने के लिए बुला रहे तो हो सकता है कि आपके मन में आए कि आपको घूमने नहीं जाना चाहिए क्योंकि घूमने में मजा नहीं आएगा! ऐसे वक्त पर आपको बिल्कुल उल्टा करना है और तुरंत घूमने निकल जाएं! आपको बाद में जरूर अच्छा महसूस होगा!

5). अपने Goals सेट करें

अगर आपको डिप्रेशन हो गया तो इसका इसका ये मतलब नहीं है कि अब आपकी जिंदगी खत्म हो गई!

आप अपने लिए रोज छोटे-छोटे goals सेट करें! जैसे – आज आप कम से कम 4 लीटर पानी जरूर पिएंगे! या आज अपने अलमारी की सफाई करेंगे!

ज्यादा बड़े goals सेट करने की कोशिश ना करें! वर्ना जब आप अपने goals पूरा नहीं कर पाएंगे तो आपको और ज्यादा निराशा महसूस होगी!

6). अपने आप को इनाम दें

जब आप अपने goals को पूरा कर लें तो खुद को इनाम देना ना भूलें! इनाम के रूप में आप, खुद को अपना मन पसंद खाना खिला सकते हैं या कहीं घूमने जा सकते हैं!

अपने Goals को पूरा करने के बाद जब आप खुद को इनाम देंगे तो आपके शरीर में Happiness के हार्मोन्स निकलेंगे! ये हार्मोन्स आपके डिप्रेशन को कम करने में help करेंगे!

7). अपनी पसंदीदा चीज़ें करें

आपको जो भी चीज़ें करनी पसंद हों, वो जरूर करें! इससे आपका मूड अच्छा होगा और आपके दिमाग को आराम मिलेगा!

अगर आपको समझ नहीं आ रहा कि क्या करें तो आप सुबह या शाम को पार्क जा सकते है! अकेले शांति से बैठकर अपना मनपसंद गाना सुन सकते हैं या अपने बेस्ट फ्रेंड से बात कर सकते हैं और ऐसी ही बहुत सी चीजें कर सकते है!

8). कुछ नया करें

आपका दिमाग कुछ नया करने से विकसित होगा और आपको वो चीज बोरिंग भी नहीं लगेगी! कुछ नया करने या सीखने के लिए आप यूट्यूब पर क्राफ्ट वाली videos देख सकते हैं या कोई नई कुकिंग रेसिपी सीख सकते हैं!

9. मेडिटेशन और योग करें

मेडिटेशन और योग करने से शरीर और दिमाग दोनों को आराम मिलता है! रोज कम से 15 मिनट मेडिटेशन और योग जरूर करें!

10). पर्याप्त नींद लें

दोस्तों, अगर आप डिप्रेशन के मरीज हैं तो आप 8 घंटे की नींद जरूर पूरी करें! नींद पूरी होने पर चिड़चिड़ापन और घबराहट जैसी समस्या काफी कम हो जाती है! और depression से जल्दी छुटकारा मिल जाता है!

निष्कर्षConclusion

तो उम्मीद है आज के इस लेख से आपको डिप्रेशन क्यों होता है? (Depression in Hindi) डिप्रेशन के लक्षण और उपाय क्या होते है? तथा डिप्रेशन से बाहर कैसे आए? के बारे में विस्तार पूर्वक जानने को मिला होगा!

डिप्रेशन एक ऐसी मानसिक बीमारी है, जिसमें मरीज को ज्यादातर वक्त दुख और उदासी महसूस होती है! इसलिए डिप्रेशन से बाहर आने के लिए डॉक्टर से संपर्क करें! थेरेपिस्ट से संपर्क करें और ऊपर बताए गए उपायों को अपने lifestyle में जरूर शामिल करें!

दोस्तों अगर आपको हमारी दी गई इनफॉर्मेशन “डिप्रेशन क्या है? और क्यों होता हैं और डिप्रेशन से बाहर कैसे आए” पसंद आई हो तो इस आर्टिकल को अपने सोशल मीडिया पर शेयर करके लोगों को डिप्रेशन जैसी बड़ी बीमारी के बारे में जागरूक जरूर करें!

धन्यवाद!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here