Rate this post

नमस्कार दोस्तों, आज के इस ब्लॉग में हम NFT क्या है? (NFT Kya Hai) और एनएफटी कैसे काम करता है? (NFT Kaise Kaam Karta Hai) और साथ ही NFT के फायदे और नुकसान क्या है? के बारे में जानने वाले है!

आजकल कुछ समय से NFT बहुत अधिक चर्चा में है! और यदि आप दुनिया भर की जानकारी से अपडेटेड रहते है तो जरूर अपने देखा और सुना होगा की एक सिंपल से फोटो करोड़ो में NFT के रूप में बिक रही है!

हाल ही में NFT तब अचानक चर्चा का विषय बन गया था जब Beeble नाम के एक आर्टिस्ट ने अपने Everydays The first 5000 days को $69 millions में बेचा जो की अब तक सबसे बड़ी sale मानी जा रही है।

ऐसे ही लोग अपने 10 second के वीडियो के आर्टवर्क को भी NFT पर अरबो में बेच दे रहे है! और तो और कुछ लोग तो अपनी सेल्फी को तक NFT पर बेच कर घर बैठे करोड़ो रुपये कमा रहे है!

अब ये सब जानकर आपको जरूर हैरानी हो रही होगी लेकिन ये सच है! और आपको बता दे की Google Trends के रिपोर्ट के अनुसार Cryptocurrency के बाद NFT सबसे ज्यादा गूगल पर सर्च हो रहा है!

तो इस बात से ही आप अंदाजा लगा सकते है की आखिर NFT अभी के टाइम मे सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बना है!

तो चलिये इस ब्लॉग को आगे बढ़ाते है और NFT के बारे में जैसे की NFT क्या है? (NFT Kya Hai) और एनएफटी कैसे काम करता है? (NFT Kaise Kaam Karta Hai) NFT के फायदे और नुकसान क्या है? और इसके साथ ही NFT के बारे में कुछ रोचक तथ्य जानते है!

NFT Kya Hai

एनएफटी फुल फॉर्म – NFT Full Form

एनएफटी का फुल फॉर्म Non-fungible Token होता है! NFT डिजिटली डाटा स्टोर करने का यूनिट होता है जिसे blockchain कहा जाता है!

NFT Full Form in Hindi: हिंदी में NFT क्रिप्टो का फुल फॉर्म अपूरणीय टोकन होता है!और सबसे पहले एनएफटी की शुरुआत साल 2014 से हुई है! 

सबसे पहला एनएफटी किसने बनाया था? NFT Kisne Banaya

तो अगर सबसे पहली एनएफटी किसने बनाई? की बात करें तो पहला NFT केविन मैककॉय और अनिल दास द्वारा बनाया गया और जिसका नाम ‘Quantum’ रखा गया!

एनएफटी क्या है – NFT kya hai

NFT Kya Hai – एनएफटी एक Non-Fungible Token होता है! इसके नाम से ही पता लग रहा है की NFT को कभी  बदला नहीं जा सकता  है! और Bitcoin जैसी क्रिप्टो करेंसी की तरह NFT को भी Blockchain टेक्नोलॉजी के आधार पर बनाया गया है!

लेकिन NFT ब्लॉकचैन पर आधारित क्रिप्टो करेंसी Bitcoin से बिलकुल अलग है! NFT को crypto currencies के माध्यम से ही ख़रीदा और बेचा जाता है!

एनएफटी की विशेषता यह है की, आप एक रुपया को दूसरे एक रुपया से बदल सकते है लेकिन आप एक NFT को दूसरे NFT से नहीं बदल सकते है!

NFT में डिजिटल आर्ट्स तो सेल किया जाता है! आप किसी भी फोटो, डिज़ाइन, आर्ट या फिर किसी भी real लाइफ चीज़ों को भी NFT में बदल सकते है!

NFT में Fungible मतलब क्या होता है?

आज के टॉपिक यानी की NFT को समझने के लिए हमे NFT में Fungible मतलब क्या है? जानना जरुरी है! 

तो इसे समझने के लिए मान लीजिये आपके पास 100 रुपये का एक नोट है और आपके दोस्त के पास दो पचास पचास के नोट है! इसका मतलब आपके  पास 100 रुपये और आपके दोस्त के पास भी कुल 100 रुपये है!

तो अब माना आपको दो पचास – पचास के नोट की जरुरत है इसमें से आपने अपना 100 का एक नोट अपने दोस्त को दे दिया और आपके दोस्त ने अपने दो पच्चास पच्चास के नोट आपको दे दिए!

तो यहां पर आप दोनों के नोट Exchage करने से इनके Value मे कुछ फर्क नही पड़ता है! तो इस प्रकार के Transaction को Fungible Transaction कहा जाता है!

वही अगर मान लीजिये आपको आपके बर्थडे के दिन आपके पिता जी ने एक गिफ्ट दिया और वैसे ही एक गिफ्ट आपके नजदीकी दुकान में भी मौजूद है!

तो ऐसे में आपके पिता जी का दिया हुआ गिफ्ट और बाजार में उपलब्ध गिफ्ट की कीमत तो same होगी लेकिन आपके पिताजी ने दिया हुआ गिफ्ट आपके लिए एक Non-fungible और Unique चीज है, जिसे हम कभी Replace नही कर सकते! क्यों की आपके पिताजी का दिया हुआ गिफ्ट आपके लिए हमेशा बहुमुल्य रहेगा!

NFT में Token मतलब क्या होता है?

एनएफटी में Token क्या होता है? जानने के लिए यह समझते है की जब भी कभी आप कोई महँगी चीज जैसे की मान लीजिये आप अपना घर खरीदने जाते है! तो अपना घर खरीदने के बाद आपके पास उस घर की Registry होती है!

उस रजिस्टरी में आपका पूरा नाम, आपके Sign और एक प्रॉपर अग्रीमेंट भी होता है! घर आपके नाम पर है, यह  आपके घर पर Ownership से तय होता है!

तो इस प्रकार अगर कोई चीज आप डिजिटली Own करते है तो उसे टोकेन कहा जाता है!

NFT कैसे काम करता है?

तो दोस्तों अब सबसे जरुरी सवाल यानी की NFT कैसे काम करता है? के बारे में जानते है! तो आपको बता दे की NFT भी ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित है!

वैसे आपको यह तो पता है की मौजूदा समय में कई सारे क्रिप्टोकरेंसी आज चुकी है लेकिन फ़िलहाल NFT में एथेरियम ब्लॉकचैन का इस्तेमाल होता है!

इसका मतलब अगर आपके पास एथेरियम क्रिप्टोकरेंसी है तो आप अपने किसी भी फोटो, वीडियो, Gif या फिर किसी भी डिजिटल चीज जो की यूनिक हो, को NFT के रूप में Convert कर सकते है!

दरअसल ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी एक तरह का सार्वजनिक डिजिटल डेटाबेस है जो आपके लेनदेन का रिकॉर्ड हमेशा के लिए ब्लॉक में रखता है और इस डिजिटल जानकारी को रिकॉर्ड और डिस्ट्रीब्यूट करने की अनुमति देता है!

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में लेनदेन रिकॉर्ड को बदला, हटाया या फिर नष्ट नहीं किया जा सकता है! इसका मतलब अगर आप अपने NFT को किसी और abc नाम के ग्राहक को बेचते है तो यह रिकॉर्ड हमेशा रहेगा की abc नाम के ग्राहक ने यह NFT आपसे लिया था!  

इसक मतलब यह है की आप आसानी से पता कर सकते है की जिस NFT को लेना चाहते है उस NFT को किसने बनाया था और अभी तक कितने लोगो ने उस NFT खरीद और बेच दिया है!

इसलिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को DLT (Distributed Ledger Technology) के रूप में भी जाना जाता है!

NFT के फ़ायदे क्या है?

अगर NFT के फ़ायदे क्या है? की बात करे तो आज के इस तकनिकी समय में NFT के उनके फ़ायदे है! इनमे से चलिए कुछ NFT के फ़ायदे जानते है! 

1). हक़़ – Ownership 

आपको बता दे की आज के समय में Traditional ownership में बहुत सारी problem होती है! कभी भी कोई अपना हक़ जताने के लिए लड़ाई शुरू कर देता है!

आमतौर पर झगड़ा करके या फिर जालसाज़ी से कमजोर लोगो से उनके मालिकाना हक़ लोगो से छीन लिए जाते है! लेकिन NFT में ऐसा कुछ नहीं हो सकता है! NFT में आपकी Ownership को कोई भी नहीं छीन सकता है!

जब भी आप NFT खरीदते है तो आपके यह लेनदेन की पूरी जानकारी ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी के तहत ब्लॉक में स्टोर हो जाती है! एक बार जानकारी save होने के बाद कोई भी इसे edit, डिलीट या फिर Remove नहीं कर सकता है!

तो सौ बात के एक बात यह है की NFT आपको आपके डिजिटल एसेट का better , unique और digital ownership तैयार करने में मदद करता है!

2). सुरक्षा – Security

दूसरा सबसे बड़ा फ़ायदा NFT का सिक्योरिटी का होता है! NFT में आपके सभी लेनदेन की जानकारी ब्लॉकचैन पर स्टोर होती है इसलिए आपका डाटा पूरा सिक्योर होता है!

चलिए इसको एक उदाहरण से समझते है! की मान लीजिये यदि आप अपने जरुरी कागजात जैसे की बैंक, और इन्सुरेंस इत्यादि के पेपर ब्लॉकचैन पर as NFT के तौर रख दें, तो आपको इन जरुरी कागजातों के खोने का कभी डर नहीं रहेगा!

3). पारदर्शीता – Transparency

ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर as NFT स्टोर की जाने वाली पूरी जानकारी पूर्ण रूप से पारदर्शी मतलब की Transparent होती है!

अर्थात किसी NFT को कौन Own करता है और इससे पहले कितने लोगो ने इस NFT को ख़रीदा तथा इस NFT को Mint यानी की बनाया किसने आसानी से पता किया जा सकता है!

4). लगातार Royalty इनकम 

यदि आप कोई NFT बनाते है और फिर उस NFT को बेच देते है तो उसके बाद जब भी आगे आपके इस NFT को बेचा जायेगा तो आपको हर बार Royalty इनकम मिलता है!

उदाहरण के लिए अपने अपनी बनायीं हुई एक पेंटिंग को एक NFT क्रिएट किया और फिर इस NFT को रमेश नाम के ग्राहक को 10$ डॉलर में सेल कर दिया!

अब 6 महीने बाद मान लीजिये रमेश ने इस NFT को 100$ डॉलर में बेच दिया तो आपको इस सेल का कुछ प्रतिशत Royalty इनकम के रूप मिलेगा! इतना ही नहीं आगे भविष्य में जब जब यह NFT बिकेगा आपको रॉयल्टी इनकम आते रहेगी!

अब आप सोच रहे होंगे की हर एक सेल में आखिर क्यों मुझे रॉयल्टी मिलेगी! तो आपको बता दे की क्युकी आपने इस NFT को बनाया (Create) था और आप इस NFT के असली ओनर है इसलिए आपको हर सेल में Royalty इनकम आता रहेगा!

NFT के नुकसान (Disadvantage of NFT hindi)

एनएफटी के फ़ायदे जानने के बाद चलिये अब NFT के नुकसान क्या क्या है? जान लेते है! ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी आधारित NFT अभी एक बिलकुल नया concept है! इसलिए अभी NFT में फ़िलहाल बहुत सी कमियां हैं!

1). Rules & Regulations

अभी हाल ही में भारत सरकार ने Financial year 2022 के बजट में crypto कर्रंसी और NFT जैसे संशाधनों से होने वाली कमाई पर 30% तक का टैक्स लगाया है!

ऐसे ही अभी भी क्रिप्टोकरेन्सी कई देशो में बैन है! तो कहने का तातपर्य यह है की अभी NFT को लेकर सही तरीके से Rules और Regulations बने नहीं है!

2). रिस्की Investment

इसके बाद NFT में इन्वेस्टमेंट रिस्की भी होता है! अर्थात यदि आप अपने किसी डिजिटल एसेट को as NFT क्रिएट करते है तो यह कोई गारंटी नहीं है की उसे कोई न कोई खरीद लेगा!

तो ऐसे में आपका NFT में लगाया हुआ पैसा एक रिस्की इन्वेस्टमेंट हो सकता है! इसलिए आप केवल इतना ही पैसा NFT और क्रिप्टोकरेन्सी में लगाए जितनापैसा खो जाने परआपको कोई गम ना हो!

3). Registration fee

मान लीजिये आपके पास कोई पेंटिंग है जिसे आप NFT के तौर पर बेचना चाहते है!

जब आप अपने इस पेंटिंग को as NFT क्रिएट करते है और उसके बाद इसे सेल करने के लिए लिस्ट करते है तो आपको इसके लिए एक Registration fee जिसे ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी में गैस फीस कहा जाता है, चुकानी पड़ती है!

तो आपको बता दे की आज के समय में यह गैस फीस बहुत ज्यादा होती है!

निष्कर्ष – Conclusion

तो आज के इस आर्टिकल में हमने ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित एक नये कांसेप्ट और इन्वेस्टमेंट के नये तरीके यानी की NFT क्या है? (NFT Kya Hai) और एनएफटी कैसे काम करता है? (NFT Kaise Kaam Karta Hai) और साथ ही NFT के फायदे और नुकसान क्या है? के बारे में विस्तार से चर्चा की!

उम्मीद करते है की हमारे इस हिंदी आर्टिकल से आपको आज कुछ नया सीखने को मिला होगा! अगर आपको आज का हमारा यह प्रयास पसंद आया तो इस पोस्ट को जरूर लाइक कीजिये और अपने सोशल मीडिया पर शेयर करें!

हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here