4/5 - (1 vote)

नमस्कार दोस्तों, आज के इस लेख में हम भारत के उद्योगपति गौतम अडानी की बायोग्राफी (Gautam Adani Biography in Hindi) जानने वाले है! अडानी अब दुनिया के तीसरे सबसे अमीर व्यक्ति बन चुके है और जल्द ही पहले या फिर दूसरे नंबर पर आने वाले है! तो क्या है गौतम अडानी की फर्श से लेकर अर्श तक की कहानी चलिए जानते है!

भारत के दिग्गज अरबपति और अडानी ग्रुप के मालिक गौतम अडानी दुनिया में तीसरे सबसे अमीर आदमी (3rd Richest Man) बन गए हैं! उन्होनें फ्रांस के बिजनेस मैन बर्नार्ड अरनॉल्ट (Bernard Arnault) को पीछे छोड़ दिया है! गौतम अडानी के पास वर्तमान इस समय 137.4 बिलियन डॉलर यानी की करीब 11 लाख करोड़ की कुल संपत्ति है!

दुनिया के अमीर लोगो की लिस्ट में गौतम अडानी से आगे केवल अमेरिका के दो अरबपति एलन मस्क (Elon Musk) और जेफ बेजोस (Jeff Bezos) हैं, जो क्रमश: पहले और दूसरे नंबर पर आते हैं!

दोस्तों, गुजरात के एक मध्यम वर्गीय परिवार में सात भाई बहनों के बीच पले एक साधारण से लड़के ने, कैसे आज एशिया का सबसे अमीर इंसान बनने का खिताब अपने नाम कर लिया?

आखिर कैसे उस गुजराती लड़के, ने आज माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के मालिक बिल गेट्स और शेयर मार्किट के बादशाह वारेन बफेट जैसे धुरंधरों को भी पीछे कर दिया है और दुनिया का तीसरा सबसे अमीर इंसान बनने का इतिहास रच दिया है!

गौतम अडानी, जिन्होंने कभी मुश्किलों के सामने हार नहीं मानी और इसलिए आज इनकी तुलना मुकेश अंबानी नहीं बल्कि उनके पिता जी धीरू भाई अंबानी जैसे महान फर्स्ट जेनरेशन बिजनेस मैन से की जाती है!

तो बिना किसी देरी के आगे बढ़ते है और आज के इस लेख में हम (Gautam Adani Biography in Hindi) गौतम अडानी की फर्श से लेकर अर्श तक की पूरी कहानी क्या है! जानते है! इसलिए आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े!

विषय - सूची

गौतम अडानी कौन है इन हिंदी? Gautam Adani Biography in Hindi

गौतम अडानी वर्तमान में अडानी ग्रुप के मालिक है और गौतम अडानी का जन्म 24 जून 1962 को अहमदाबाद के एक जैन परिवार में हुआ! इनके पिता कपड़े के छोटे से व्यापारी थे!

अडानी जी ने अपनी शुरुआती पढ़ाई, अहमदाबाद के सेठ चिमनलाल नगीनदास स्कूल से की, और इसके बाद कॉमर्स से ग्रेजुएशन करने के लिए इन्होंने गुजरात यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले लिया! लेकिन ज्यादा दिन तक पढ़ाई में इनका मन नहीं लगा और फिर इन्होंने कॉलेज के 2nd year में अपनी पढ़ाई छोड़ दी!

पूरा नामGautam Shantilal Adani
Founder ofAdani Group
जन्म24 June 1962
Age (उम्र)साठ साल (60 Year’s old)
Nationalityभारतीय (Indian)
EducationDropped out from Gujarat University
TitleFound & Chairman of Adani Group
SpousePriti Adani
ChildrenKaran Adani और Jeet Adani
Official websitewww.adani.com
Gautam Adani Biography in Hindi

गौतम अडानी का धर्म क्या है? Gautam Adani Religion in Hindi

अगर गौतम अडानी के धर्म की बात की जाये तो गौतम अडानी एक गुजराती जैन परिवार से आते है और गौतम अडानी का धर्म जैन है! इसके साथ ही गौतम अडानी JITO यानी की Jain International Trade Organization के मेंबर भी है!

गौतम अडानी ने हीरे की दुकान में की पहली नौकरी

पढ़ाई छोड़ने के बाद, गौतम अडानी सीधे मुंबई आ गए और एक हीरे की दुकान में नौकरी करने लगे! लेकिन कुछ दिनों तक वहां काम करने के बाद, अडानी जी को यह एहसास होने लगा की अगर बड़ा आदमी बनना है तो उन्हें नौकरी छोड़कर अपना खुद का कोई काम शुरू करना पड़ेगा!

इसलिए वे नौकरी छोड़ देते हैं, और फिर जावेरी बाजार में डायमंड ब्रोकर का काम करने लगते है! यहां पर इनकी ठीक ठाक कमाई होने लगती है! लेकिन फिर भी अभी तक अडानी जी ने अपनी लाइफ में कुछ बड़ा नहीं किया होता है!

गौतम अडानी ने बड़े भाई के प्लास्टिक फैक्ट्री किया काम (टर्निंग पॉइंट)

डायमंड ब्रोकर का काम छोड़ने के बाद फिर आता है, 1981 का वो दिन, जब अडानी जी के बड़े भाई मनसुखभाई अहमदाबाद में एक प्लास्टिक की फैक्ट्री खरीदते हैं, और इसके ऑपरेशन्स को संभालने के लिए अडानी जी को वापस अहमदाबाद बुलाते हैं!

दोस्तों, यही काम आगे चलकर अडानी जी के लाइफ का सबसे बड़ा टर्निंग पॉइंट साबित होता है, क्यूंकि इसी काम के दौरान अडानी जी को मार्केट में एक भरोसेमंद बिजनेस मैन के रूप में पहचान बनती है!

गौतम अडानी ने कैसे शुरू किया अपना कारोबार?

अक्सर यह सवाल सबसे ज्यादा बार पूछा जाता है, इसलिए आपको बता दे की गौतम अडानी ने अपना कारोबार PVC की लगातार बढ़ी जरूरत को देखते हुए PVC पाइप सप्लाई का अपना पहला कारोबार शुरू किया! और उन्होंने प्लास्टिक ग्रेनुअल्स को खरीदकर गुजरात की छोटी छोटी कंपनियों को PVC की सप्लाई कारना शुरू किया!

दरअसल दोस्तों, उस दौरान गौतम अडानी के भाई की प्लास्टिक फैक्ट्री को हर महीने तकरीबन 20 टन PVC की जरूरत पड़ती थी, और उस समय का अकेला प्लास्टिक प्रोड्यूसर IPCL इस मांग को पूरा नहीं कर पाता था!

इसलिए अडानी जी को इसमें एक अच्छी बिज़नेस Opportunity नजर आई, और उन्होंने 1988 में कांडला पोर्ट के जरिए प्लास्टिक ग्रेनुएल्स को इंपोर्ट करके, अपना बिजनेस शुरू कर दिया!

वे दूसरे देशों से प्लास्टिक ग्रेनुअल्स को खरीदकर गुजरात में लाते थे, और फिर गुजरात की छोटी छोटी कंपनियों को PVC की सप्लाई करते हैं!

1988 के उस दौर में, जहां दूसरे व्यापारी प्लास्टिक ग्रेनुएल्स की कीमत घटने – बढ़ने के वजह से अपने ग्राहकों की डिमांड पूरी नहीं कर पा रहे थे!

तब गौतम अडानी जी घाटा सहकर भी अपने सभी ग्राहकों की डिमांड को पूरा करते थे, ऊपर से अपने ग्राहकों के साथ इनका व्यवहार भी काफी अच्छा था!

इसलिए लोग इन्हें धीरे धीरे करके एक भरोसेमंद बिजनेसमैन के रूप में जानने लगे!

इसके बाद, गौतम अडानी ने धीरे धीरे करके अपने इसी बिजनेस को काफी बड़ा कर लिया, और गुजरात की बड़ी बड़ी कंपनियों को भी PVC की सप्लाई देने लगे!

और देखते ही देखते मात्र 4 साल के अंदर ही इनका बिजनेस इतना ज्यादा बढ़ गया कि 100 मेट्रिक टन के इंपोर्ट से शुरू किया गया इनका बिजनेस 40,000 मेट्रिक टन PVC इंपोर्ट में बदल गया!

गौतम अडानी ने केमिकल और पेट्रोलियम इम्पोर्ट का बिज़नेस शुरू किया

PVC मार्केट में अपनी अच्छी पकड़ बना लेने के बाद, अडानी जी ने केमिकल और पेट्रोलियम का भी इंपोर्ट करना शुरू कर दिया, और धीरे धीरे करने इन्होंने एक्सपोर्ट्स में भी अपना परचम लहराना शुरू कर दिया!

जिसके बाद, इंडिया के बड़े बड़े नेता भी इन्हें जानने लगे, और 1990 खत्म होते होते चिमनभाई पटेल और केशुभाई पटेल जैसे बड़े गुजराती नेता, इनके काफी अच्छे दोस्त बन गए!

गुजरात सरकार से मुंद्रा पोर्ट का कॉन्ट्रैक्ट जीता

इसके बाद 1994 का वो दौर आया, जब गुजरात सरकार ने मुंद्रा पोर्ट के लिए managerial outsourcing की बात कही! इस काम में अडानी जी को अपना काफी फायदा नजर आया, और इसलिए उन्होंने 1995 में इस कॉन्ट्रैक्ट को जीत लिया!

[ गौतम अडानी की कहानी – Gautam Adani Biography in Hindi ]

अडानी ने फिर थर्मल पॉवर जेनरेशन के फील्ड रखा कदम

दोस्तों, मुद्रा पोर्ट के हाथ में आ जाने के बाद, अडानी जी ने खुद को मिनरल लैंडिंग, और कोल ट्रेडिंग के क्षेत्र में भी आगे बढ़ाया, और इसी की मदद से इन्होंने थर्मल पॉवर जेनरेशन के फील्ड में भी कदम रखा!

और इस क्षेत्र में ऐसा काम किया कि जहां पहले के समय में पूरे गुजरात की पावर जनरेशन कैपेसिटी 8000 मेगावाट थी, वहीं आज के समय में सिर्फ अकेले अडानी जी के थर्मल पॉवर प्लांट की जेनरेशन कैपेसिटी 4620 मेगावाट तक पहुंच चुकी है!

दोस्तों, देखते ही देखते अडानी जी ने अपने ग्रुप के टर्नओवर को साल 2000 में 3,300 करोड़ से बढ़ाकर, साल 2013 में 47,000 करोड़ रुपए तक कर लिया!

गौतम अडानी का बिज़नेस कौन कौन से क्षेत्र में है?

दोस्तों बात अगर प्रेजेंट डे यानी की 2022 की बात करे, तो आज के समय में अडानी जी का बिजनेस सोलर मैन्युफैक्चरिंग, इंडस्ट्रियल लैंड, रोड एंड रेल, रियल एस्टेट, लॉजिस्टिक्स, फ्रूट्स और डिफेंस एंड एयरोस्पेस जैसे कई फील्ड तक एक्सपैंड कर चुका है!

और सिर्फ यही नहीं दोस्तों, आप ये जानकर चौंक जायेंगे कि 2019 में आई महामारी के दौरान, जहां ज्यादातर कंपनियां घाटे में जा रही थी, वही गौतम अडानी की 6 कंपनियों ने साथ मिलकर 79 बिलियन डॉलर का मुनाफा कमाया था, और ये अडानी ग्रुप के इतिहास के सबसे सुनहरे दिन थे!

Warburg firm ने अडानी पोर्ट्स में 110 मिलियन डॉलर इन्वेस्ट किए

दोस्तों, अडानी की ऐसी चौंका देने वाली ग्रोथ को देखते हुए, Warburg firm ने अडानी पोर्ट्स में 110 मिलियन डॉलर इन्वेस्ट किए और फ्रांस की Total Energies ने अडानी ग्रीन (सोलर पावर जनरेटर) में 2.5 बिलियन डॉलर का इंवेस्टमेंट किया!

मोदी ने बेचा 1 रुपए प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से गौतम अडानी को जमींन

वैसे दोस्तों, गौतम अडानी के इस बढ़ते हुए बिजनेस के दौरान कई मुश्किलें भी सामने आई, और इनके ऊपर कई इल्जाम भी लगे! जैसे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अडानी पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अडानी का फेवर करते हैं, और उन्होंने 1 रुपए प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से अडानी जी को 45000 एकड़ जमीन बेच दी!

जिस पर अडानी जी ने ये जवाब दिया कि, जहां तक वे जानते हैं, मोदी जी कभी किसी पर कोई फेवर नहीं करते, और पिछली सरकार यानी की कांग्रेस ने तो उन्हें 10 पैसे प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से भी जमीन बेची थी!

और तो और वे बंजर जमीन को खरीद पर, उस पर फैक्ट्री बनाते हैं, जिससे देश की इकॉनमी को फायदा मिलता है, और इससे उस जमीन की कीमत भी बढ़ जाती है!

इसके अलावा लोगो के एक और दावे की बात करे तो, अडानी जी के बिजनेस के बारे में यह भी कहा जाता है कि, उनका पूरा बिजनेस सिर्फ एक दिखावा है, और वे भारी भरकम लोन के नीचे दबे हुए है, और तो और ये भी कहा जाता है कि मोदी जी ने ही इतना ज्यादा लोन हासिल करने में अडानी की मदद की है!

अडानी ग्रुप पर है 20 बिलियन डॉलर का कर्ज़

वैसे दोस्तों, आंकड़ों की माने तो, शायद ये सही भी है, क्योंकि 2006 से 2007 के आस पास अडानी ग्रुप का रेवेन्यू जहां 16,953 करोड़ था, तो उस समय इनके ऊपर 4353 करोड़ का कर्ज़ चढ़ा हुआ था!

लेकिन Credit Suisse की रिपोर्ट के अनुसार, 2012 में अडानी ग्रुप का रेवेन्यू जहां 47,352 करोड़ था! तो वहीं इनके ऊपर 81,112 करोड़ का कर्ज़ चढ़ चुका था, और बात अगर 2022 की करें, तो आज के समय में भी अडानी ग्रुप की सभी कंपनियों पर कुल मिलाकर लगभग 20 बिलियन डॉलर का कर्ज़ चढ़ा हुआ है!

गौतम अडानी ने ऑस्ट्रेलिया में कोल माइनिंग प्रोजेक्ट को पूरा किया

दोस्तों, जब अडानी ग्रुप ने ऑस्ट्रेलिया के कॉन्ट्रोवर्शियल कोल माइनिंग प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया था, तब ऑस्ट्रेलिया की जनता सड़कों पर उतर आई थी, और उन्होंने STOP Adani के नारे भी लगाए!

लेकिन अडानी जी ने यहां भी हार नहीं, मानी और अपने प्रोजेक्ट को सक्सेसफुल बनाने में लगे रहे!

गौतम अडानी की नेट वर्थ कितनी है?

दोस्तों, यहां इन सभी बातों को जानने के बाद, हमें साफ पता चलता है, कि गौतम अडानी ने बिना दुनिया की परवाह किए, हमेशा अपने काम पर ध्यान दिया! और बिना रुके समझदारी के साथ मेहनत करते गए! और यही वजह है कि आज 60 साल के गौतम अडानी जी की नेट वर्थ 137.4 बिलियन डॉलर हो चुकी है! और इसी के साथ ये एशिया के पहले और पूरी दुनिया के तीसरे सबसे अमीर इंसान बन चुके हैं!

अंतिम शब्द

तो दोस्तों, ये तो थी गौतम अडानी जी की फर्श से लेकर अर्श तक की कहानी! उद्योगपति गौतम अडानी की बायोग्राफी (Gautam Adani Biography in Hindi) उम्मीद है की इस लेख में दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी, आप गौतम अडानी के इस कामयाबी के बारे में क्या सोचते है हमे कमेंट करके जरूर बताए. साथ ही इस पोस्ट को लाइक और इस ब्लॉग को सब्सक्राइब ज़रूर करें!

हमारे ब्लॉग को पूरा पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here